दुनिया के एकमात्र तरबूज संग्रहालय से जुडी रोचक जानकारी | Watermelon Museum Facts in Hindi

गर्मियों में मिलने वाले सबसे स्वादिष्ट तथा विशिष्ट फलो में एक है तरबूज | शायद ही कोई होगा जिसे यह पसंद न हो परन्तु कम ही लोगो को पता होगा कि दुनिया में एक ऐसा भी अनूठा संग्रहालय है जो तरबूज को ही समर्पित है | यु तो दुनिया भर में फैले कई अलग-अलग तरह के अजीबोगरीब संग्रहालय है परन्तु यह अपने आप में इसलिए भी ख़ास है कि यह दुनिया का पहला और एकमात्र तरबूज संग्रहालय है |

loading...

चीन की राजधानी बीजिंग के दक्षिण में स्थित देशिंग जिले में यह म्यूजियम बनाया गया है | तरबूज संग्रहालय इस फल को पसंद करने वाली के लिए ख़ास तोहफा माना जा सकता है | इसमें कई प्रकार के तरबूज प्रदर्शित किये गये है | इसके अलावा तरबूज से तैयार कलाकृतिया भी यहा सजाई गयी है | लोगो की तरबूज के साथ खिंची ख़ास तस्वीरों से लेकर यहा तरबूज से जुडी चीनी परम्पराओं और संस्कृति में इसके महत्व का ज्ञान भी प्राप्त किया जा सकता है |

संग्रहालय में ही बने तरबूज शोध संस्थान में 170 प्रकार के अलग-अलग तरबूज देख सकते है | साथ ही चीन में इस फल के इतिहास को भी जान सकते है | संग्रहालय में इस फल की पैदावार की तकनीको से लेकर इसके वितरण तक की जानकारी दी जाती है | संग्रहालय में 43056 वर्ग फुट में फ़ैली प्रदर्शनी आगन्तुको को दक्षिण अफ्रीका में इस फल के उद्गम से लेकर अन्तरिक्ष तक इस फल के सफर पर जानकारी मिल सकती है |

चीन के सर्वप्रथम अन्तरिक्ष अभियानों में से एक के दौरान तरबूज के बीजो को अन्तरिक्ष में भी भेजा गया था ताकि यह पता लगाया जा सके कि भारहीनता का उनकी पैदावार पर क्या प्रभाव पड़ सकता है | यह  भी बता दे कि संग्रहालय के भीतर प्रदर्शित सभी तरबूज असली नही है बल्कि मोम से बनाये गये है क्योंकि असली तरबूज जल्दी खराब हो जाते है और उन्हें लम्बे समय तक रखना सम्भव नही होता | वैसे मोम से बने हुए वे बिल्कुल असली प्रतीत होते है | हालांकि संग्रहालय के बाहर लगाई जाने वाली प्रदर्शनी में असली तरबूज रखे जाते है |

इसकी एक ओर खास बात है कि इसकी इमारत भी तरबूज के आकार में ही तैयार की गयी है | यहा आने वालो को तरबूज पर विभिन्न प्रकार की जानकारी प्रदान करने वाली किताबे भी दी जाती है | संग्रहालय की इमारत के पास ही स्थित “स्कल्पचर पार्क” में तरबूज खाते इंसानों की विभिन्न प्रतिमाये लगाई गयी है | इस “रसीले” संग्रहालय के यहा स्थापित करने के पीछे एक वजह यह भी है कि इसी इलाके में दुनिया के सबसे ज्यादा तरबूज पैदा होते है | बेशक संग्रहालय में तरबूज के इतिहास से लेकर उसकी सारी जानकारी हासिल करने के बाद जब भूख लग जाए तो बाहर निकलकर जमकर तरबूज खाने का मौका भी मिलता है |

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *