Home रोचक जानकारी The Great Rann of Kutch Facts in Hindi | कच्छ के रन...

The Great Rann of Kutch Facts in Hindi | कच्छ के रन से जुड़े रोचक तथ्य

286
0
SHARE
The Great Rann of Kutch Facts in Hindi | कच्छ के रन से जुड़े रोचक तथ्य
The Great Rann of Kutch Facts in Hindi | कच्छ के रन से जुड़े रोचक तथ्य

थार रेगिस्तान के नाम से प्रसिद्ध भारत के एकमात्र मरुस्थल के दक्षिण में अरब सागर के साथ लगते गुजरात में स्थित कच्छ का रण एक विशाल क्षारयुक्त दलदली इलाका है जहां नमक की अत्यधिक मात्रा होने के कारण अधिकतर क्षेत्रो में किसी प्रकार के पेड़-पौधे नही उगते फिर भी “कच्छ का रण” (Rann of Kutch ) देश की सबसे बड़ी Wildlife Sanctuaries में से एक है | आइये कच्छ के रण (Rann of Kutch ) से जुड़े रोचक तथ्य आपको बताते है |

  • कच्छ का रण एक Saline West-land है साधारण शब्दों में कहे तो 30 हजार वर्ग किमी में फैला यह बंजर इलाका है |
  • कच्छ के रण में अक्सर समुद्र का पानी भरता-उतरता रहता है जिस कारण यहाँ की मिटटी में लवण  की मात्रा बहुत अधिक है |
  • कच्छ का रण कच्छ की खाड़ी और पाकिस्तान में सिंध नदी के मुहाने के ठीक बीच स्थित है |
  • यह इलाका गैर-कानूनी रूप से भारत में प्रवेश करने वालो के लिए एक प्राकृतिक बाधा का काम भी करता है क्योंकि इस दुर्गम इलाके में यदि कोई भटक जाए तो उसका बच पाना बहुत मुश्किल हो सकता है
  • कई सौ वर्षो से यहाँ रहने वाली नमी और लवण की अत्यधिक मात्रा ने इस इलाके की जमीन को कीचड़ में बदल दिय है परन्तु यहाँ का धरातल विभिन्न मौसमो में अपना स्वरूप बदलता रहता है |
  • मानसून के मौसम में जहां यह दलदली रूप ले लेता है वही अन्य मौसमो में यह नमक और दरारों से भरी सुखी भूमि बना रहता है |
  • आश्चर्यजनक रूप से इस निर्जनता के बीच कच्छ के रण में पाँच Wetland मौजूद है | Wetland उस स्थल को कहा जाता है जहां पानी की काफी मात्रा होती है जिससे अनेक जलीय जीव और प्रवासी पक्षी इसे अपनी शरणस्थली बना लेते है |
  • इन इलाको में विशेष रूप से फ्लेमिन्गोस को देखा जा सकता है | इसके आलावा भी अनेक प्रवासी पक्षियों को समय समय पर यहाँ देखा जा सकता है |
  • कच्छ का रण में नमक का विशाल भंडार है | गुजरात में उत्पादित होने वाले कुल नमक का एक तिहाई भाग कच्छ के रण से ही हासिल होता है |
  • बेशक यह बंजर इलाका है परन्तु यहाँ पर कुछ विशेष जानवर भी पाए जाते है जो ओर कही देखने को नही मिलते | इनमे जंगली गधे भी शामिल है |
  • जंगली गधो को इस इलाके में “घुड खुर: नाम से जाना जाता है |
  • यह एशिया में पाए जाने वाले जंगली गधो की अंतिम जीवित प्रजाति है | यही कारण है कि कच्छ के के क्षेत्र में Indian Wild Axe Sanctuary का निर्माण किया गया है |
  • कच्छ का रण में यात्रा करते हुए कही कही आपको बाकी धरती से उपर उठे हुए पठार  के रूप में द्वीप दिखाई दे जाते है |
  • वैसे यहाँ यात्रा के दौरान रेगिस्तान के बीच नावे पड़ी देखे शायद आप चकित हो जाए और सोचने लगे कि इस रेगिस्तान में आखिर नावो का क्या कम ? इसका कारण यह है कि मानसून के मौसम में यह इलाका गंदले पानी से भर जाता है जो थ्रिम्स और मछलियों के लिए उपयुक्त स्थल बन जाता है |
  • मानसून में तो यह इलाका अपना रूप पुरी तरह बदल लेता है और मछलियों से भरे विशाल तालाब का रूप ले लेता है |
  •  इस मौसम में यहाँ मछुआरे बड़ी संख्या में मछलियों का शिकार करने पहुचते है | वे अपनी नावे यही छोड़ जाते है |
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here