राजा पृथु : विष्णु भगवान के अंशावतार | Raja Prithu Story in Hindi

Raja Prithu Story in Hindiध्रुव के वनगमन के पश्चात उनके पुत्र उत्कल को राजा सिंहासन पर बैठाया गया लेकिन वह ज्ञानी और विरक्त पुरुष थे अत: प्रजा ने उन्हें मूढ़ एवं पागल समझकर राजगद्दी से हटा दिया और उनके छोटे भाई भ्रमिपुत्र वत्सर को राजगद्दी पर बिठाया | उन्होंने तथा उनके पुत्रो ने लम्बी अवधि तक शाशन किया |उनकी ही वंश में एक राजा हुए – अंग | उनके यहाँ वेन नामक पुत्र हुआ |

loading...

वेन की निर्दयता से दुखी होकर राजा अंग बन को चले गये | वेन ने राजगद्दी सम्भाल ली | अत्यंत दुष्ट प्रकृति का होने के कारण अंत में ऋषियों ने उसे शाप देकर मार डाला | वेन के कोई सन्तान नही थी अत: उसकी दाहिनी भुजा का मंथन हुआ तब राजा पृथु का जन्म हुआ | ध्रुव के वंश में वेन जैसा क्रूर जीव क्यों पैदा हुआ ? इसके पीछे क्या रहस्य है ? यह जानने की इच्छा बड़ी स्वाभाविक है |

अंग राजा ने अपनी प्रजा को सुखी रखा था | एक बार उन्होंने अश्वमेध यज्ञ किया था | उस समय देवताओ ने अपना भाग ग्रहण नही किया क्योंकि अंग राजा के कोई सन्तान नही थी | मुनियों के कथनानुसार अंग राजा ने उस यज्ञ को अधुरा छोडकर पुत्र प्राप्ति के लिए दूसरा यज्ञ किया | आहुति देते ही यज्ञ में से एक दिव्य पुरुष प्रकट हुआ | उसने राजा को खीर से भरा पात्र दिया |

राजा ने खीर का पात्र लेकर सुंघा और फिर अपनी पत्नी को दे दिया | पत्नी ने उसी खीर को ग्रहण किया | समय आने पर उनके गर्भ से एक पुत्र हुआ किन्तु माता अधर्मी की पुत्री थी इस कारण वह सन्तान अधर्मी हुयी | यही अंग राजा का पुत्र वेन था | वेन के अंश से राजा पृथु की हस्तरेखाओ तथा पाँव में कमल चिन्ह था |हाथ में चक्र का चिन्ह था | वे विष्णु भगवान के ही अंश थे | ब्राह्मणों ने राजा पृथु का राज्याभिषेक करके सम्राट बना दिया | उस समय पृथ्वी अन्नहीन थी और प्रजा भूखो मर रही थी |

प्रजा का करुण क्रन्दन सुनकर राजा पृथु अति दुखी हुयी | जब उन्हें मालुम हुआ कि पृथ्वी माता ने अन्न ,औषधि आदि को अपने उदर में छुपा लिया है तो वह धनुष बाण लेकर पृथ्वी को मारन के लिए दौड़ पड़े | पृथ्वी ने जब देखा कि अब उनकी रक्षा कोई नही कर सकता तो वह राजा पृथु की शरण में आयी | जीवनदान की याचिका करती हुयी वह बोली “मुझे मारकर अपनी प्रजा को सिर्फ जल पर ही कैसे जीवित रख पाओगे ?”|

पृथु ने कहा “स्त्री पर हाथ उठाना अवश्य ही अनुचित है लेकिन जो पालनकर्ता अन्य प्राणियों के साथ निर्दयता का व्यवहार करता है उसे दंड अवश्य ही देना चाहिए “| पृथ्वी ने राजा को नमस्कार करके कहा “मेरा दोह्न करके आप सब कुछ प्राप्त करे | आपको मेरे योग्य बछड़ा और दोहन पात्र का प्रबंध करना पड़ेगा | मेरी सम्पूर्ण सम्पदा दुराचारी चोर लुट रहे थे इसलिए मैंने वह सामग्रीया अपने गर्भ में सुरक्षित रखी है मुझे आप समतल बना दीजिये “|

राजा पृथु संतुष्ट हुए | उन्होंने मनु को बछड़ा बनाया और स्वयं अपने हाथो से पृथ्वी का दोहन करके अपार धन धान्य प्राप्त किया | फिर देवताओं और महर्षियों को भी पृथ्वी के योग्य बछड़ा बनाकर विभिन्न वनस्पति ,अमृत ,सुवर्ण आदि इच्छित वस्तुए प्राप्त की | पृथ्वी के दोहन से विपुल सम्पति एमव धन धान्य पाकर राजा पृथु अत्यंत प्रसन्न हुए | उन्होंने पृथ्वी को अपनी कन्या के रूप में स्वीकार किया | पृथ्वी को समतल बनाकर पृथु ने स्वयम पिता की भांति प्रजाजनों के कल्याण एवं पालन पोषण का कर्तव्य पूरा किया |

राजा पृथु ने सौ अश्वमेध यज्ञ किये | स्वयं भगवान यज्ञेश्वर उन यज्ञो में आये और साथ ही सब देवता भी आये | पृथु के इस उत्कर्ष को देखकर इंद्र को इर्ष्या हुयी | उनको संदेह हुआ कि कही राजा पृथु इन्द्रपुरी न प्राप्त कर ले | उन्होंने सौवे यज्ञ का घोडा चुरा लिया | जब इंद्र घोडा लेकर आकाश मार्ग से भाग रहे थे तो अत्री ऋषि ने उन्हें देख लिया | उन्होंने रजा को बताया और इंद्र को पकड़ने के लिए कहा| राजा ने अपने पुत्र को आदेश दिया | पृथुकुमार ने भागते हुए इंद्र का पीछा किया | इंद्र ने वेश बदल रखा था |

पृथु के पुत्र ने जब देखा कि भागने वाला जटाजूट एवं भस्म लगाये हुए है तो उसे धार्मिक व्यक्ति समझकर बाण चलाना उपयुक्त नही समझा | वह लौट आया तब अत्रि मुनि ने उसे पुनः पकड़ने के लिए भेजा | फिर से पीछा करते हुए पृथु कुमार को देखकर इंद्र घोड़े को वही छोडकर अंतर्धयान हो गये | पृथु कुमार अश्व को यज्ञशाला में आये | सभी ने उनके पराक्रम की प्रशंशा की |

अश्व को पशुशाळा में बाँध दिया गया | इंद्र ने छिप कर पुनः अश्व को चुरा लिया | अत्रि ऋषि ने जब देखा तो पृथु कुमार को बताया | पृथु कुमार ने इंद्र को बाण का लक्ष्य बनाया तो इंद्र ने अश्व को छोड़ दिया और भाग गये | इंद्र के षड्यंत्र का पता जब पृथु को चला तो उन्हें बहुत क्रोध आया | ऋषियों ने राजा को शांत किया और कहा “आप वर्ती है आप किसी का भी वध नही कर सकते है लेकिन हम मन्त्र द्वारा इंद्र को हवन कुण्ड में भस्म किये देते है “|

यह कहकर ऋषियों ने मन्त्र से इंद्र का आह्वान किया | वे आहुति डालना ही चाहते थे कि वहा ब्रह्मा प्रकट हुए | उन्होंने सबको रोक दिया | उन्होंने पृथु से कहा “तुम और इंद्र दोनों ही परमात्मा का अंश हो | तुम तो मोक्ष के अभिलाषी हो | इन यज्ञो की क्या आवश्यकता है ? तुम्हारा यह सौवा यज्ञ पूर्ण नही हुआ है इसकी चिंता मत करो | यज्ञ को रोक दो | इंद्र के पाखंड से जो अधर्म उत्पन्न हो रहा है उसका नाश करो ” |

भगवान विष्णु स्वयं इंद्र को साथ लेकर पृथु की यज्ञ शाळा में प्रकट हुए | उन्होंने पृथु से कहा “मै तुम पर प्रसन्न हु | यज्ञ में विघ्न डालने वाले इस इंद्र को तुम क्षमा कर दो | राजा का धर्म प्रजा की रक्षा करना है तुम तत्वज्ञानी हो | भगवत प्रेमी शत्रु को भी समभाव से देखते है | तुम मेरे परमभक्त हो तुम्हारी जो इच्छा हो वह वर मांग लो “|

राजा पृथु भगवान के प्रिय वचनों से प्रस्सन थे | इंद्र लज्जित होकर राजा पृथु के चरणों में गिर पड़े | पृथु ने उन्हें उठाकर गले से लगा लिया | राजा पृथु ने भगवान से कहा “भगवान ! सांसारिक भोगो का वरदान मुझे नही चाहिए यदि आप देना ही चाहते है तो मुझे शहस्त्र कान दिजीये जिससे आपका कीर्तन ,कथा एवं गुणानुवाद हजारो कानो से श्रवण करता रहू इसके अतिरिक्त मुझे कुछ नही चाहिए “|

भगवान श्री हरी ने कहा “राजन ! तुम्हारी अविचल भक्ति से मै अभिभूत हु तुम धर्म से प्रजा का पालन करो | “| राजा पृथु ने पूजा करके उनका चरणोदक सिर पर चढ़ा लिया | राजा पृथु की जब अवस्था ढलने लगी तो उन्होंने अपने पुत्र को राज्य भार सौंप कर पत्नी अर्ची के साथ वानप्रस्थ आश्रम में प्रवेश लिया | अंत में तप के प्रभाव से चित्त स्थिर करके उन्होंने देह को त्याग कर दिया | उनकी पतिव्रता पत्नी महारानी अर्ची पति के साथ ही अग्नि में भस्म हो गयी | दोनों को परमधाम प्राप्त हुआ |

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *