नेपोलियन की बेवफा प्रेमिका – एक प्रेम कहानी | Napoleon Love Story in Hindi

Loading...
Napoleon Love Story in Hindi
Napoleon Love Story in Hindi

जोजफीन का विवाह 09 मार्च 1796 को फ्रांस के सम्राट नेपोलियन बोनापार्ट से हुआ था | वह परम सुन्दरी थी | उसके रहन-सहन का स्तर इतना ऊँचा था कि पेरिस भर की औरते उससे रश्क करती थी | नेपोलियन से शादी से पहले जोजफीन के अनेक प्रेमी थे | नेपोलियन प्राय: युद्ध क्षेत्र में उसे पत्र लिखा करता | ये पत्र बड़े महत्वपूर्ण होते थे | शायद ही किसी प्रेमी ने अपनी प्रेमिका को ऐसे पत्र लिखे हो | ये पत्र वह अपने अंगरक्षक के हाथ पेरिस भिजवाता था | फ्रांस के लोग जोजफीन को “विजय की महिला” कहकर पुकारा करते थे क्योंकि उनका विशवास था कि नेपोलियन की हर विजय उसकी सामाज्ञ्री के कारण होती थी | फ्रांस के सम्राट लुई 15वे को फांसी दिए जाने के बाद बर्रास नामक जिस महान क्रांतिकारी ने फ़्रांस की बागडोर सम्भाली थी उसकी रखैल भी यही जोजफीन थी |

जोजफीन के पतन का कारण बना उसका एक प्रेमी ,जिसका नाम हाईपोर्टो चार्ल्स था | चार्ल्स इतना अधिक हंसोड़ व्यक्ति था कि जोजफीन हर समय उसे अपने पास देखना चाहती थी | फ्रांस के लोगो ने चार्ल्स को लेकर सामज्ञ्री जोजफीन पर छीटाकशी शुरू कर दी | युद्ध क्षेत्र से जब जोजफीन को नेपोलियन के पत्र आते तो वो वह पढकर प्रशंशा करने के बजाय उल्टे यह कहती कि नेपोलियन भी कैसा मसखरा है | इस प्रकार वह नेपोलियन की भावनाओं के मजाक उडाती लेकिन बाद में चलकर उसे इन पत्रों का वास्तविक मूल्य पता चला |

नेपोलियन को जोजफीन की बेवफाई का कुछ एहसास हो गया था इसलिए उसने उसे कहला भेजा कि वह इटली के युद्ध क्षेत्र में आकर उसे मिले | असल में वह इस बहाने जोजफीन को चार्ल्स के चंगुल से मुक्त कराना चाहता था | जोजफीन ने पहले तो जवाब भिजवाया कि वह युद्ध क्षेत्र में नही आ सकेगी पर बाद में उसने जाने के फैसला तो कर लिया , मगर चार्ल्स को भी अपने साथ लेती गयी -खुले तौर पर नही बल्कि अपने सामान में छिपाकर |

उसने नेपोलियन को वचन दिया कि वह फिर कभी भी उससे नही मिलेगी | उस दिन के बाद से जोजफीन ने नेपोलियन के प्रति अधिक प्यार जताना शुरू कर दिया था | बाद में नेपोलियन को युद्ध के सिलसिले में मिस्त्र जाना पड़ गया | उस दौरान जोजफीन आजाद थी जो चाहे कर सकती थी और उसने जैसा चाहा वैसा किया भी | कइयो से इश्क लड़ाया | नेपोलियन को दिए वचन के बावजूद वह आवारा चार्ल्स से भी मिलती रही और उसके साथ रंगरेलिया मनाते रही | नेपोलियन के भाई जोजेफ ने जोजफीन की इन हरकतों की सुचना नेपोलियन तक पहुचाई और उसे राय दी कि उसे तलाक दे दे |

नेपोलियन स्वयं को फ्रांस का सम्राट घोषित करने वाला था और उसकी इच्छा थी कि वह जोजफीन को सामाज्ञ्री घोषित करे | इसके लिए आवश्यक था कि पहले पोप की इजाजत ली जाती और यह तभी मिल सकती थी यदि जोजफीन और नेपोलियन की शादी कैथोलिक चर्च में होती | जोजफीन इसके लिए तैयार नही थी और पोप जोजफीन के कैथोलिक होने तक स्वीकृति देने को तैयार नही था | आखिर जोजफीन को कैथोलिक रीती के अनुसार नेपोलियन से शादी करनी पड़ी | इस प्रकार वह फ्रांस का सम्राट बना और जोजफीन साम्राज्ञ्री | वह बड़ी ही अय्याश प्रकृति की औरत थी | वह साल भर में 520 जूते और 600 मोज़े तथा अन्य अनगिनत पोशाके खरीदा करती थी |

जोजफीन को गुलाबो का बड़ा शौक था | उसने अपने शानदार बाग़ में 355 प्रकार के गुलाब उगवा रखे थे | उसके हाथ से उगाये हुए गुलाब के पौधे आज तक उस बाग़ में मौजूद है | जोजफीन का शयन कक्ष नेपोलियन के शयन कक्ष से तीन-चार कमरों के फासले पर था | उसने अपना पलंग ऐसे कलात्मक ढंग से सजा रखा था जिसकी सजधज देखते ही बनती थी | अंत में इसी पलंग पर उसकी मृत्यु भी हुयी थी |

नेपोलियन की हार के बाद जब रूस ने उसे नजरबंद किया तब जोजफीन ने जार से प्रार्थना की थी कि वह नेपोलियन को फ्रांस आने की इजाजत दे दे | जोजफीन की सुन्दरता पर रीझ कर जार से उसकी प्रार्थना पर गौर करने का वचन देते हुए कह दिया था कि वह अपने मित्र देशो से सलाह करके फैसला करेगा | जार के साथ पार्क में घूमते समय जोजफीन को ठंड लग गयी थी जिसके कारण उसे निमोनिया हो गया और वह इस भेंट के तीन बाद ही 29 मई 1819 को इस संसार से चल बसी |

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *