पहाड़ो की मलिका मसूरी , जहा अंग्रेजो को हुआ था घर जैसा अहसास | Mussoorie Tour Guide in Hindi

Mussoorie Tour Guide in Hindi
Mussoorie Tour Guide in Hindi

बांस ,बुरांश ,देवदार और चीड के सघन वृक्षों के बीच स्थित मसूरी सिन्धु तट से 2005 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है | यह उत्तरी भारत का प्रमुख पर्यटन स्थल है जिसे पहाड़ो की मलिका , पर्वतों की रानी , बहारों की मलिका इत्यादि नामो से पुकारा जाता है | 64.25 वर्ग किमी क्षेत्र में फैला मसूरी पर्यटन स्थल अपने अप्रतिम सौन्दर्य , नैसर्गिक छवि वानस्पतिक सम्पदा , जल प्रपातो ,बलखाती सड़को , वन्य जन्तुओ , ऊँची नीची पहाडियों के नयनाभिराम दृश्यों से पर्यटकों को अपनी ओर आकृष्ट करता है | इस विशाल भुस्थान पर दूर दूर तक पेड़ो के झुरमुटो के बीच रंग-बिरंगे भवन सहज ही परीलोक की कल्पना को साकार करते प्रतीत होते है |

Loading...

सहारनपुर तथा हरिद्वार से मसूरी लगभग बराबर की दूरी पर है मगर मसूरी की यात्रा हरिद्वार से करने पर शिवालिक पहाड़िया , दुधिया जलधाराए चारो ओर हरे-भरे पेड़ो से आच्छादित वानस्पतिक सम्पदा ऋषिकेश में चन्द्रभागा नदी का गंगा के साथ संगम , हिम धवल पर्वत शृंखलाओं का सौन्दर्य नजर आते है | मसूरी में मनोरंजन के पर्याप्त साधन है | यूरोपीय देशो की तरह मसूरी में भी शरदोत्सव का प्रतिवर्ष सितम्बर-अक्टूबर माह में आयोजन किया जाता है |

नगरपालिका तथा पर्यटन विभाग के संयुक्त तत्वाधान में होने वाले इस उत्सव में मसूरी को दुल्हन की तरह सजाया जाता है | इस अवसर पर कवि सम्मेलनों , गीतों , लोक-नृत्यों ,मुशायरो ,फोटो प्रदर्शनी आदि कई मनोरंजक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियाँ कराई जाती है | इसी प्रकार जून में गंगा दशहरे के अवसर पर सुरकंडा देवी के मन्दिर में बहुत बड़ा मेला लगता है |

मसूरी की खोज अंग्रेज सैन्य अधिकारी मेजर हियरसे ने की थी | बाद में मि.यंग ने यहा भवन निर्माण की आधारशिला रखी | इसके पश्चात अंग्रेज अधिकारियों एवं राजा-महाराजाओं का आगमन यहा होता रहा | भीषण गर्मी से त्रस्त डचो ने भी मसूरी की राह पकड़ी थी | सन 1873 में यहा मुन्सिपल बोर्ड का निर्माण हुआ | लैडर इलाके को अंग्रेजी सेना ने अपना स्थान बनाया था | फिर तो हरी-भरी वादियों ,पेड़ो के झुरमुटो , जल-प्रपातो के इस वानस्पतिक संपदायुक्त नगर में पर्यटकों का तांता लग गया | धीरे धीरे यह विकास की डगर पकड़ता गया |

सड़क मार्ग से मसूरी देश के प्रमुख हवाई अड्डो से जुड़ा हुआ है | हालांकि यहा से 60 किमी दूर जौलीग्रांट हवाई अड्डा है | वायु सेवा देहरादून से दिल्ली उपलब्ध है लेकिन नियमित उड़ाने यहा प्रभावित होती रहती है | स्थानीय यातायात के लिए मसूरी में अनेक साधन है | हाथ से खीचे जाने वाले रिक्शे ,डांडी ,घोड़े आदो जो पर्यटकों को मसूरी की सैर आसानी से कराते है | आइये अब आपको मसूरी के पर्यटन स्थलों के बारे में बताते है |

01 सुरकुंडा देवी

यहा तक पहुचने के लिए बस इत्यादि की तो सुविधा है ही मगर यह क्द्दुखाल तक ही है | आगे एक 2 किमी का रास्ता पैदल ही तय करना पड़ता है | समुद्रतल से यह स्थान दस हजार फुट की उंचाई पर है | मसूरी का शायद यह सबसे ऊँचा स्थान है | भगवती सुरेश्वरी को समर्पित इस मन्दिर को 2 किमी की चढाई थकाने वाली है | यहा से चारो ओर के हिमालय के अनुपम प्राकृतिक सौन्दर्य के नजारे हम भली भांति देख सकते है | गंगा दशहरे के अवसर पर यहा बड़ा भारी मेला लगता है | उस समय दूर-दूर के मैदानी भागो से दर्शनार्थी यहा पूजा-अर्चना हेतु आते है | ठंडी रातो के लिए प्रसिद्ध मसूरी में लाल टिब्बा गार्डन ,वन चेतना केंद्र , माल रोड , सेवाय होटल ,मसूरी झील ,लेक मिस्ट ,झड़ी पानी प्रपात ,धनोल्टी आदि अन्य दर्शनीय स्थल भी है |

02 कैम्पटी फाल

मसूरी का यह बेहद आकर्षक स्थान है | यह बहुत ही सुंदर जल -प्रपात है जो दूर ऊँचाई से गिरता है | जल-प्रपात के अधिक ऊँचाई से गिरने के कारण दुधिया पानी की लहरों से रोमांचक दृश्य उपस्थित होता है | यह झरना जिस जगह पर नीचे आकर गिरता है वहा तलाई सी बना दी गयी है | इस तलाई में घुटनों के उपर तक पानी रहता है | झरना इसी तलाई में पड़ता है | इस कारण से बच्चे ,बूढ़े और जवान सभी एक साथ उम्र का भेद , लिंग-भेद भुलाकर नहाते है | नहाने का समय के हिसाब से शुल्क लिया जाता है |

जल-प्रपात के पास कुछ दुकाने है जहा खाने पीने के अलावा किराये पर वस्त्र भी मिलते है जिन्हें पहन कर पर्यटक नहाते है | एक समय में अंग्रेज यहा चाय पिया करते थे | इस कारण से इसका नाम कैम्पटी फॉल पड़ा | यह मसूरी से 14 किमी दूर टिहरी जनपद के जौनपुर विकास खंड में पड़ता है | पर्यटकों के लिए आने जाने के साधन बहुत है |

03 गनहिल

इसे तोप टिब्बा भी कहते है | यह मसूरी की दुसरी ऊँची चोटी है | ब्रिटिशकाल में यहाँ एक तोप रखी रहती थी | दिन के 12 बजे का समय बताने के लिए उससे गोला दागा जाता था जिससे लोग अपनी घडिया मिलाते थे | 1919 में इसे दागना बंद कर दिया गया | गनहिल एक आकर्षक पर्यटक स्थल है | यहा पहुचने के लिए पैदल तथा रज्जूमार्ग दोनों है | पैदल चलने पर तकरीबन आधे घंटे में गनहिल पहुचा जा सकता है | हालांकि यात्रा सरल नही है कठिन चढाई वाली हा मगर पैदल यात्रा करने पर मसूरी के प्राकृतिक दृश्यों पर दृष्टिपात किया जा सकता है | ट्रोली द्वारा रज्जुमार्ग से गनहिल दूरी केबल 400 मीटर है तथा गनहिल पर पहुचने में केवल 5 मिनट ही लगते है | गनहिल पर अनेक प्रकार की दुकाने है | गनहिल के उपर पहुचने पे हमे ऐसा अहसास होता है कि शायद हम मसूरी की सबसे ऊँची छत पर आ गये हो ?

04 कैमल्स बैक रोड

प्रात:कालीन एवं सांयकालीन भ्रमण के लिए मसूरी का यह उत्तम स्थान है | यह 3 किमी लम्बा रस्ता है जो कुलड़ी बाजार में रिंक हाल से शुरू होता है तथा लाइब्रेरी बाजार में होटल रोजलिन पर जाकर समाप्त होता अहि | इस 3 किमी की राह से जन हम भ्रमण करते है तब ऐसा लगता है मानो हिमालय तथा गढवाल की पहाडियों के मनोरम दृश्य हमारा स्वागत कर रहे हो | रास्ते में देवदार के सघन वृक्ष है | घुड़सवारी का भी हम इस रास्ते से आनन्द ले सकते है | यह रोड गनहिल के पीछे की ओर है | गनहिल का इस ओर का एक भाग प्राकृतिक रूप से ऊंट की आकृति का बना है | इस चट्टान के कारण इस राह का नाम कैमल्स बैक रोड पड़ा | इनके अलावा मसूरी से कुछ दूर स्थित लाखा मंडल एवं बौद्ध मन्दिर के अलावा क्लोउट्स एंड रिसोर्ट जैसे स्थल भी दर्शनीय है

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *