Home धर्म भगवान बुद्ध की दस मुद्राए एवं उनका अर्थ | Lord Buddha Mudras...

भगवान बुद्ध की दस मुद्राए एवं उनका अर्थ | Lord Buddha Mudras Significance in Hindi

108
0
SHARE
भगवान बुद्ध की दस मुद्राए एवं उनका अर्थ | Lord Buddha Mudras Significance in Hindi
भगवान बुद्ध की दस मुद्राए एवं उनका अर्थ | Lord Buddha Mudras Significance in Hindi

आपने भगवान बुद्ध की अनेक मुर्तिया देखी होगे लेकिन आपने कई बार गौर किया होगा कि उनके हाथ के संकेत कई मूर्तियों में अलग अलग है | कई लोग इन संकेतो को समझ नही पाते है | भगवान बुद्ध के हाथो के इन संकेत को बुद्ध मुद्रा कहते है | भगवान बुद्ध की 10 मुद्राए बताई गयी है आइये आपको इनके बारे में विस्तार से बताते है |

भूमिस्पर्श मुद्रा

  • बुद्ध की मूर्तियों में पायी जाने वाली एक सर्वाधिक आम मुद्रा
  • इसमें बुद्ध को उनका बांये हाथ के साथ ध्यानमुद्रा में बैठे हुए दर्शाया गया | हथेली उनकी गोद में सीधी है और दाहिना हाथ पृथ्वी को स्पर्श कर रहा है |
  • इस मुद्रा को सामान्यत: अक्षोब्य के रूप में ज्ञात नीलवर्ण बुद्ध से संबध किया जाता है |

ध्यान मुद्रा

  • इस मुद्रा को समाधि या योग मुद्रा भी कहते है |
  • इसमें बुद्ध को गोद में दोनों हाथो के साथ दर्शाया गया है | फ़ैली हुयी उंगलियों के साथ दांये हाथ की पीठ बांये हाथ  की हथेली पर रखी हुयी है |
  • कई मूर्तियों में दोनों हाथो के अंगूठे पर स्पर्श करते हुए दिखाए गये है | इस प्रकार यह रहस्यमय त्रिकोण बनाते है |
  • यह आध्यात्मिक पूर्णता की प्राप्ति का द्योतक है |
  • बोधि वृक्ष के नीचे अंतिम ध्यान के दौरान बुद्धा द्वारा इस मुद्रा का प्रयोग किया गया था |

वितर्क मुद्रा

  • यह मुद्रा शिक्षण और चर्चा या बौद्धिक बहस को इंगित करती है |
  • अंगूठे और तर्जनी का पोर वृत बनाते हुए एक दुसरे को स्पर्श करता है | दाया हाथ कंधे के स्तर पर और बाँया हाथ श्रोणी स्तर पर रखा है गोद हथेली उपर की ओर है
  • यह बौद्ध धर्म में उपदेश के शिक्षण चरण का द्योतक है | अंगूठे और तर्जनी द्वारा निर्मित वृत उर्जा का निरंतर प्रवाह बनाये रखता है क्योंकि कोई आरम्भ या अंत नही है केवल पूर्णता है |

अभय मुद्रा

  • यह मुद्रा निर्भयता को दर्शाती है |
  • मुड़ी हुयी भुजा के साथ दाहिना हाथ उपर की ओर कंधे की ऊँचाई तक उठा है | दाहिने हाथ की हथेली बाहर की ओर है और उंगलिया सीधी और जुडी हुयी है | बांया हाथ शरीर के बगल में नीचे की ओर लटका हुआ है |
  • यह मुद्रा बुद्ध द्वारा ज्ञान प्राप्ति के तुरंत बाद दर्शाई गयी थी |
  • यह मुद्रा शक्ति और आंतरिक सुरक्षा का प्रतीक है | यह वह मुद्रा है जो दुसरे लोगो में भी निर्भयता की भावना पैदा करती है |

धर्मचक्र मुद्रा

  • इसका अर्थ धर्म या नियम का चक्र घुमाना अर्थात धर्म चक्र गति में लाना है |
  • इस मुद्रा में दोनों हाथ सम्मिलित है |
  • बाहर की ओर हथेली के साथ दाहिना हाथ छाती के स्तर पर रखा गया है | तर्जनी ओर अंगूठे का पोर जोडकर रहस्यवादी वृत बनाया गया है | बांया हाथ अंदर की ओर मुड़ा है और इस हाथ की तर्जनी और अंगूठा दाहिने हाथ का वृत स्पर्श करने के लिए जुड़े है |

अंजलि मुद्रा

  • अभिवादन , भक्ति और आराधना
  • दोनों हाथ छाती पर बंद है हथेलिया और उंगलिया एक दुसरे से लम्बवत रूप से जुडी हुयी है |
  • यह भारत में लोगो का अभिवादन करने के लिए उपयोग की जाने वाली सामान्य मुद्रा है | यह मुद्रा श्रेष्ट को नमस्कार का प्रतीक है और इसे गहन सम्मान के साथ आदर का संकेत माना जाता है |
  • यह माना जाता है कि सच्चे बुद्ध हाथ की यह मुद्रा नही बनाते है और यह मुद्रा बुद्ध की मूर्तियों में नही दिखाई जानी चाहिए | यह मुद्रा बोधिसत्वो के लिए है जिनका उद्देश्य पूर्ण ज्ञान प्राप्त करने की तैयारी करना है |

उत्तरबोधि मुद्रा

  • इसका अर्थ सर्वोच्च ज्ञान है |
  • तर्जनी को छोडकर सभी उंगलिया गूंथते हुए , तर्जनी को सीधे उपर बढाते और एक दुसरे को स्पर्श कराते हुए दोनों हाथो को सीने के स्तर पर रखा गया है |
  • यह मुद्रा व्यकित में उर्जा का प्रवाह कराने के लिए जानी जाती है | यह मुद्रा पूर्णता का प्रतीक है |
  • नागो के मुक्तिदाता शाक्यमुनि बुद्ध इस मुद्रा के लिए प्रस्तुत किये गये है |

वरदा मुद्रा

  • यह मुद्रा दया-भाव , करुणा या इच्छाओ की स्वीकृति इंगित करती है |
  • दर्शको की ओर बाहर की ओर खुले हाथ की हथेली के साथ ,दाहिना हाथ पुरे रस्ते नीचे की ओर प्राकृतिक स्थिति में है | यदि खड़ा हाथ हो तो हाथ थोडा सा आगे की ओर बढ़ा हुआ रखा गया है | बांये हाथ ई मुद्रा भी हो सकती है |
  • पाच विस्तारित उंगलियो के माध्यम से यह मुद्रा पांच पूर्णताओ को दर्शाती है उदारता ,नैतिकता ,धैर्य ,प्रयास और ध्यान संबधी एकाग्रता |

करण मुद्रा

  • यह मुद्रा बुराई से बचने का संकेत करती है |
  • आगे की हथेली के साथ हाथ या तो क्षितिज रूप से यह उर्ध्वाकार रूप से फैला हुआ है | अंगूठा मध्य की दो मुड़ी हुयी उंगलियों को दबाता है लेकिन तर्जनी और छोटी अंगुली सीधे उपर की ओर उठी है |
  • यह नकारात्मक उर्जा को बाहर निकालने का प्रतीक है | इस मुद्रा द्वारा  सृजित बीमारी या नकारात्मक विचार जैसी बाधाये दूर करने में सहायता करती है |

वज्र मुद्रा

  • यह मुद्रा ज्ञान को इंगित करती है |
  • यह मुद्रा कोरिया या जापान को अधिक ज्ञात है |
  • इस मुद्रा में बांये हाथ की खड़ी तर्जनी दांये हाथ की मुट्ठी में रखी जाती है | यह मुद्रा दर्पण व्युत्क्रम रूप में देखी जाती है |
  • यह मुद्रा ज्ञान या सर्वोच्च ज्ञान के महत्व का प्रतीक है | ज्ञान तर्जनी द्वारा दर्शाया जाता है और दाहिने हाथ की मुट्ठी उसकी रक्षा करती है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here