Home जीवन परिचय तानाशाह जोसफ स्टालीन की जीवनी Joseph Stalin Biography in Hindi

तानाशाह जोसफ स्टालीन की जीवनी Joseph Stalin Biography in Hindi

879
0
SHARE

 Joseph Stalin Biography in Hindi

तानाशाह जोसफ स्टालीन की जीवनी Joseph Stalin Biography in Hindi
तानाशाह जोसफ स्टालीन की जीवनी Joseph Stalin Biography in Hindi

Joseph Stalin स्टालिन का जन्म रूस साम्राज्य के तिफलिस नगर के एक छोटे से कस्बे गोरी में हुआ था | उनकी पिता का नाम बिसरीयोंन था जो जूते बनाने का काम किया करते थे | स्टालिन की माँ का नाम केट्वीन थाजो एक गृहणी थी |  स्टालिन का वास्तविक नाम सोसो था जिसे रूसी में योसेफ और अंग्रेजी में जोजफ कहते है | स्टालिन बचपन से ही अनेक बीमारियों से घिरा रहता था | स्टालिन के जन्म से ही उसके दाए पैर में दो अंगूठे थे | 7 साल की उम्र तक उसका चेहरा चेचक के दागो से गिरा रहता था |

Joseph Stalin  स्टालिन के पिता शराब बहुत पीते थे जिसके कारण वो परिवार पर ज्यादा ध्यान नही देते थे इसलिये स्टालिन की माँ ने उसे अपनी पति की इच्छा के विरुद्ध एक पादरी स्कूल में दाखिला दिला दिया | उधर स्टालिन के पिता को शराब पीकर पुलिस अफसर के साथ भद्र व्यवहार करने के जुर्म में देशनिकाला दे दिया जिसके कारण स्टालिन के पिता अपनी पत्नी और पुत्र को गोरी में ही छोडकर तिफलिस चला गया |  स्टालिन गोरी के पादरी स्कूल में मन लगाकर पढ़ रहा था और अपने सहपाठियो का नेता बन गया था |

Joseph Stalin  स्टालिन जब 16 वर्ष का हुआ तो उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए तिफलिस की सेमिनरी में दाखिल हो गया | अब पादरी की पढाई करने की बजाय वो नास्तिक बन गया था | उसे पढने का बहुत शौक था जिसके कारण वो एक राष्ट्रवादी बन गया था | अब वो अपनी कविताओ को जॉर्जियन के स्थानीय अखबारों में प्रकाशित करता था |अब अपनी ट्यूशन फीस नही दे पाने के कारण उसे उसे अंतिम परीक्षा से निष्काषित कर दिया गया | अब वो पुरी तरह से मार्क्सवाद का प्रसार करने में लग गया था |

अब स्कूल से निष्काषित होने के बाद वो पूर्ण क्रांतिकारी बन गया था | उसने लेनिन के नवनिर्मित दल को ज्वाइन कर लिया  | यहा पर वो दल के लिए लेखन का कार्य करता था जिसमे वो प्रचार प्रसार का कम करता था | वो अपने दल के साथ पैसा जुटाने के लिए चोरी और डकैती भी करने लगा था | इसी कारण स्टालिन को गिरफ्तार भी कर लिया गया था लेकिन वो बच निकला था | स्टालिन ने 1906 में एकतेरिना से विवाह किया था जिससे उनको पुत्र हुआ था लेकिन अपनी पहली पत्नी की मौत के बाद उसने दूसरा विवाह नद्ज़ेहा से कर लिया था |

Joseph Stalin Rise to Power

1912 में लेनिन को स्विट्ज़रलैंड में देश निकाला दे दिया और लेनिन ने जाने से पहले स्टालिन को अपनी पार्टी का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया था | अब 1917 में स्टालिन को स्टालिन ने अपनी पार्टी को रूस में मजबूत बना दिया था |1922 में सोवियत यूनियन की स्थापना हुयी जिसमे लेनिन उसके पहले नेता बने थे | इस दौरान स्टालिन पार्टी के शीर्ष पर पहुच गये थे और 1922 में उन्हें कम्युनिस्ट पार्टी का महा सचिव बना दिया गया | 1924 में जब लेनिन की मौत हो गयी तब स्टालिन ने अपने विरोधियो का दमन कर कम्युनिस्ट पार्टी का भार अपने कन्धो पर ले लिया | 1920 के अंत तक वो सोवियत यूनियन का तानाशाह बनकर उभरा |

The Soviet Union Under Joseph Stalin

सोवियत यूनियन का तानाशाह बनने के बाद स्टालिन ने अपने साम्राज्य को औद्योगिक महाशक्ति में बदलने का पंचवर्षीय योजना बनाई |  उसकी इस योजना में उसको कई खेतो को नष्ट करना था जिसके लिए वहा के किसानो ने मना कर दिया | जब हजारो किसानो ने खेत देने से मना कर दिया तो स्टालिन ने कुछ को गोलियों से भुनवा दिया और कुछ को देश निकाले की सजा दे दी | अब स्टालिन लाखो लोगो को मारकर एक महाशक्ति बनकर उभर रहा था जिससे लोगो में खौफ छा गया था |स्टालिन के बारे में ऐसा कहा जाता है कि उसने अपने परिवार को ही मरवा दिया था जिसके कारण उसकी खुद की मौत के समय उसका एक भी रिश्तेदार नही बचा था |

स्टालिन ने लोगो में खौफ पैदा कर राज करना शुरू कर दिया था | इसने पुरे देश में अपने जासूस फैला दिए थे ताकि विद्रोही लोगो को खत्म किया जा सके |1930 के दशक में स्टालिन ने अपनी शक्ति इतनी बढ़ा दी कि दुसरे देश के लोग भी उससे डरने लगे थे | स्टालिन ने अपनी छवि को सोवियत यूनियन में सब जगह फ़ैला दी थी जिसकी वजह से कई शहरों के नाम उसके सम्मान में रखे जाने लगे थे | उसको संगीत का काफे शौक था जिसकी वजह से उसके नाम से राष्ट्र गान बनने लगा था | 

Joseph Stalin and World War II

1939 में द्वितीय विश्व युद्ध शुरू हो गया था जिसमे  Joseph Stalin  स्टालिन और जर्मन तानाशाह हिटलर ने अनाक्रमण संधि पर हस्ताक्षर किये | स्टालिन अब पोलैंड और रोमानिया के देशो की तरफ बढ़ रहा था जिसके बाद उसने फ़िनलैंड पर भी आक्रमण कर दिया था | 1941 में जर्मनी ने नाजी-सोवियत संधि तोडकर सोवियत यूनियन पर हमला कर दिया | अब जर्मन सेना सोवियत यूनियन की राजधानी मोस्को पहुच गयी हटी |  Joseph Stalin  स्टालिन वहा पर डट गया और उसने रक्षा नीति अपनाते हुए दुश्मन सेना के खाने पीने के सामानों को तबाह कर दिया | 1942 से 1943 के बीच सोवियत यूनियन की रेड आर्मी ने जर्मन को हरा दिया और उसे रूस से भाग खड़ा होने पर मजबूर कर दिया था |

Joseph Stalin’s Later Years

Joseph Stalin  स्टालिन अपनी उम्र के साथ साथ और परिपक्व होता जा रहा था और उसने अपनी तानाशाही जारी रखी थी | उसने यूरोप में कम्युनिस्ट सरकार की स्थापना की और 1949 में एटम बम परीक्षण किया था |1950  में उसने नार्थ कोरिया का साथ देकर साउथ कोरिया पर आक्रमण में साथ दिया था जिसकी वजह से कोरियन युद्ध हुआ था | 5 मार्च 1953 को 74 वर्ष की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से स्टालिन की मृत्यु हो गयी | उसकी मौत के समय उसके पास कोई नही था और जिस तरह उसने लाखो लोगो को मारा था उसी तरह मौत ने भी उसको नही बक्शा था | उसके शरीर पर लेप करके उसे 1961 तक मास्को रेड स्क्वायर में सरक्षित किया था | उसके बाद उसे लेनिन की समाधि के पास दफन कर दिया गया | एक आंकड़े के अनुसार उसने अपने जीवनकाल में 2 करोड़ लोगो की बेरहमी से हत्या की थी जिसकी वजह से उसको हिटलर के बाद सबसे बड़ा तानशाह माना जाता था |

Loading...

1 COMMENT

  1. इतिहास की जानकारी ना हो तो कम से कम किसी के प्रति इतना दुष्प्रचार तो कतई नहीं करना चाहिए।

    • अगर आपको इतिहास की जानकारी हो तो आप हमे स्टालिन की जीवनी के बारे में बता दे | हम भी कोई इतिहासकार तो नही है कि 100 प्रतिशत सही जानकारी देवे , आप इतिहास की जानकारी हमे देकर इतिहास को ओर उत्कुष्ट बना सकते है |

  2. जिस तरह एक साधारण से परिवार मे जन्मे लडकेने, आपनी आप को स्थापित ओ काबीले तारीफ है. हम लोक तो गरीबीमे जन्म लेने वाले 95 फीसदी लोक गरीबीमेही मरते है. आपनी आपको पुछ कर देखिये जरा

  3. स्टालिन बुरे नही थे,हमें पता है कि यह सब अमेरिका और उसके सहयोगी देशों की ही चाल है जो रूस को नीचा दिखाने के लिए अफवाहे फैलाते रहते है, भोले भाले लोग उनकी बातो में जल्दी फँसते है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here