Home जीवन परिचय John F. Kennedy Biography in Hindi | जॉन ऍफ केनेडी का जीवन...

John F. Kennedy Biography in Hindi | जॉन ऍफ केनेडी का जीवन परिचय |

426
0
SHARE

John F. Kennedy Biography in Hindi | जॉन ऍफ केनेडी का जीवन परिचय |

John F. Kennedy Biography in Hindi | जॉन ऍफ केनेडी का जीवन परिचय |John F. Kennedy जान ऍफ़ केनेडी सयुंक्त राज्य अमेरिका के 35वे राष्ट्रपति और एक लोकप्रिय राजनेता थे | John F. Kennedy जॉन फिटजरेगोल्ड केनेडी ने 29 मई 1917 को मेसाचुसेट्स के एक धनी और राजनितिक परिवार में जन्म लिया | हार्वड यूनिवर्सिटी से सन 1940 में ग्रेजुएशन करने के बाद वो नौसेना से जुड़ गये और दुसरे विश्वयुद्ध का हिस्सा लिया | उनके महत्वकांक्षी पिता जोसेफ पेट्रिक ने उन्हे राजनीति में जाने के लिए प्रेरित किया और सन 1946 से वो सक्रिय राजनीति में आ गये |

सन 1952 में उन्होंने डेमोक्रेट के रूप में चुनाव लड़ा और सीनेट (सांसद) के रूप में House of Representative (संसद) में पहुच गये | इसके बाद सन 1960 में हुए राष्ट्रपति चुनाव में उन्होंने रिचर्ड निक्सन को हरा दिया और थियोडोर रूजवेल्ट के बाद 43 वर्ष की आयु में देश के दुसरे सबसे युवा और प्रथम कैथोलिक राष्ट्रपति बने | उनका कार्यकाल बहुत उतार चढाव भरा रहा | रूस और अन्य देशो के साथ शीतयुद्ध के खतरे बढ़े | घरेलू सुधार करते हुए उन्होंने उदार दृष्टिकोण अपनाया और अफ्रीकी अमेरिकियों के मानव आधिकारो की निति लागू की ,जिसे आलोचना झेलनी पड़ी |

उन्होंने गत राष्ट्रपति आइजनहोवेर के योजना को आगे बढ़ाते हुए क्यूबा में गैर साम्यवादी सरकार बनवाने की होड़ में फिदेल कास्त्रो की सरकार को उखाड़ फेंकने की निति पर काम किया | अप्रैल 1961 में पिंग्स की खाड़ी पर हमला बोला गया पर वह नाकाम हो गया | इससे क्यूबा सरकार के समर्थक सोवियत यूनियन के John F. Kennedy केनेडी को कमजोर नेता समझकर सन 1962 में नाभीकिय अस्त्र लगा दिए | क्यूबन मिसाइले भी चाक चौबंद हो गयी |

तेरह दिन तक दुनिया नाभिकीय युद्ध के मुहाने पर खड़ी रही और काफी जद्दोजहद के बाद आखिरी सोवियत नेता कृशचेव अपने कदम पीछे हटाने को राजी हुए और जैसे तैसे केनेडी की साख बच गयी | केनेडी के कार्यकाल में ही बर्लिन की दीवार का निर्माण हुआ | अन्तरिक्ष में होड़ आरम्भ हो गयी और वियतनाम युद्ध की चिंगारी सुलगी | इन घटनाओं ने पुरी दुनिया को प्रभावित किया | उन्होंने शैक्षिक ,सामजिक और रंग भेद के स्तर पर अनेक सुधारवादी कार्य किये , जिनके लिए उन्हें आज भी याद किया जाता है |
उनके बहुत से चाहनेवाले तो थे तो कुछ दुश्मन भी | कुछ लोग कहते है कि उन्हें किसी षड्यंत्र के तहत मारा गया | 22 नवम्बर 1963 को उनकी हत्या हुयी | इस जुर्म में ली हार्वी आस्वल्ड को गिरफ्तार किया गया लेकिन दो दिन बाद रूबी नाम के व्यक्ति ने गोली मारकर उसकी हत्या कर दी | पुलिस के तथ्यों की छानबीन के बाद केनेडी की हत्या के लिए आस्वल्ड को ही जिम्मेदार ठहराया और उनकी फाइल बंद हो गयी |

Loading...

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here