भारत के अर्द्धसैनिक बलों से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य | Indian Paramilitary Forces Facts in Hindi

भारतीय सशस्त्र बलों को मुख्यत: तीन भागो में बांटा गया है भारतीय सेना ,भारतीय नौसेना और भारतीय वायुसेना | भारत का राष्ट्रपति भारतीय सशस्त्र बलों के Supreme Commander होते है | 13 लाख सैनिको के साथ भारत के पास विश्व की तीसरी सबसे बड़ी सेना है | भारतीय सशस्त्र बलों को अर्धसैनिक बलों से सहायता मिलती है | भारतीय सशस्त्र बल रक्षा मंत्रालय के अधीन आते है | भारत में पाँच केन्द्रीय सुरक्षा बल कार्यरत है Central Reserve Police Force (CRPF), Border Security Force (BSF), Indo-Tibetan Border Police (ITBP), Central Industrial Security Force ( CISF) and Sashastra Seema Bal (SSB) | ये सभी गृह मंत्रालय के अधीन आते है |

loading...

सीमा सुरक्षा बल Border Security Force (BSF)

  • सीमा सुरक्षा बल की स्थापना भारत की अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं की स्थायी सुरक्षा के लिए की गयी थी |
  • इसके अन्य प्रमुख दायित्वों में सीमावर्ती गाँवों में रहने वाले लोगो में सुरक्षा की भावना पैदा करना ,सीमा पर होने वाली तस्करी रोकना तथा सीमा पर होने वाली घुसपैठ रोकना है |
  • युद्धकाल में सीमा सुरक्षा बल भारतीय थल सेना के प्रमुख सहायक दल के रूप में काम करता है |
  • सीमा सुरक्षा बल एक सशस्त्र सेना है |
  • आपातकाल में सीमा सुरक्षा बल देश के आंतरिक भागो में शान्ति स्थापना में भी सहयोग करता है |
  • वर्तमान में सीमा सुरक्षा बल पूर्ण सजगता के साथ भारत की 6476 किमी लम्बी अंतर्राष्ट्रीय सीमा की चौकसी करता है |

केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल Central Reserve Police Force (CRPF)

  • केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल का पूर्व नाम Crowns Representative Police था |
  • आजादी के बाद इसका नाम बदलकर केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल रख दिया गया |
  • 1965 तक भारत पाकिस्तान सीमा की सुरक्षा का दायित्व CRPF के हाथ में था जो BSF के गठन के बाद हट गया |
  • CRPF का मुख्य दायित्व राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशो में कानून एवं व्यवस्था बनाये रखने में पुलिस की सहायता करना है |
  • इसके अलावा प्राकृतिक आपदाओ एवं दंगे फसाद को नियंत्रित करना तथा विशेष परिस्थितयो में सेना द्वारा किये जाने वाले ऑपरेशनों में सहायक दल के रूप में कार्य करना है |
  • 2001 में संसद पर हुए हमले में भी CRPF के जवानो ने पांच आतंकवादियों को मार गिराया था |

असम राइफल्स | Assam Rifles (AR)

  • असम राइफल्स की स्थापना 1835 में हुयी थी जो भारत की सबसे पुरानी अर्द्धसैनिक बल है |
  • असम राइफल्स की स्थापना केशर लेवी के नाम से पूर्वोत्तर प्रदेशो में स्थित ब्रिटिश बस्तियों एवं चाय के बागानों को जनजातीय लुटेरो से बचाने के लिए की गयी थी |
  • इसके बाद 1883 में इसका नाम फ्रंटियर पुलिस , 1891 में असम मिलिट्री पुलिस तथा 1893 में ईस्ट बंगाल एवं असम मिलिट्री पुलिस रखा गया |
  • 1917 में इसे वर्तमान नाम असम राइफल्स प्राप्त हुआ | यह एक केन्द्रीय सशस्त्र बल है |
  • वर्तमान में गृह मंत्रालय के आधीस्थ असम राइफल्स में 46 बटालियन है |
  • असम राइफल्स का मुख्य प्रयास पूर्वोत्तर राज्यों में होने वाले विद्रोहों को दबाकर वहा के निवासियों को मुख्य धारा में शामिल करना रहता है
  • 2002 से भारत-म्यामार की 1643 किमी लम्बी सीमा की सुरक्षा में लगे रहते है |
  • इसके अतिरित्क युद्धकाल में यह सेना के सहायक दल के रूप में काम करता है |.

भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस | Indo-Tibetan Border Police (ITBP)

  • 1962 में भारत की उत्तरी सीमा पर चीन के आक्रमण के बाद भारतीय सेना को एक ऐसे दल की आवश्यकता महसूस हुयी हो हिमालय पर्वत श्रुंखला के दुर्गम क्षेत्रो में भी युद्ध कर सके | इसी उद्देश्य को लेकर भारत-तिब्बत सीमा पुलिस की स्थापना की गयी |
  • यह सुरक्षा बल सामान्य बलों से अलग गुरिल्ला एवं छापामार युद्ध करने में भी दक्ष है |
  • यह भारत की उत्तरी सीमा के साथ साथ सीमावर्ती इलाको में रहने वाले लोगो की सुरक्षा भी करता है |
  • भारत-तिब्बत सीमा पुलिस घुसपैठ एवं पारगमन को भी रोकता है

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड्स National Security Guard (NSG)

  • राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड्स में कमांडो तैयार किये जाते है | NSG का मुख्य दायित्व VIP सुरक्षा ,आतंकवादी हमलो को नाकाम करना , अपहरण की घटनाओं पर कारवाई करना होता है |
  • NSG का गठन इंदिरा गांधी की हत्या और ऑपरेशन ब्लू स्टार की घटना के बाद किया गया था ताकि देश के अंदर होने वाली आतंकवादी घटनाओ को रोका जा सके |
  • राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड्स भारतीय सेना एवं पुलिस के लिए कमांडो तैयार करता है | ये कमांडो आतंकी गतिविधियों के विरुद्ध किये जाने वाले स्पेशल ऑपरेशन को अंजाम देते है |
  • NSG का आदर्श वाक्य है “एक सबके लिए ,सब एक के लिए” तथा ध्येय “सर्वत्र सर्वोत्तम सुरक्षा” है |
  • मुम्बई हमलो के बाद देशभर में चार क्षेत्रीय हब  स्थापित किये गये है ये हब मुम्बई एवं चेन्नई में 30 जून 2009 से तथा हैदराबाद एवं कोलकाता में 01 जुलाई 2009 से सक्रिय हो चुके है |
  • NSG के जवानो को अक्सर Black Cat भी कहा जाता है क्योंकि उनकी यूनिफार्म में काले कपड़े और black cat insignia होता है |

भारतीय तटरक्षक दल | Indian Coast Guard (ICG)

  • तट रक्षक दल का दायित्व समुद्री सीमाओ एवं तटवर्ती क्षेत्रो की रक्षा करना है |
  • भारत का समुद्री क्षेत्रफल 28 लाख वर्ग किमी है तटरक्षक दल इस सीमा पर स्थित प्रतिष्टानो और टर्मिनलो की रक्षा करता है
  • तटरक्षक दल समुद्री सीमा में स्थित मत्स्य क्षेत्रो की सुरक्षा के साथ अवैध शिकार और तस्करी को भी रोकता है |

गृह रक्षा दल | Home Guards

  • होम गार्ड्स की स्थापना 1946 में की गये थी |
  • होम गार्ड्स का प्रमुख कार्य प्रशाशन में पुलिस एवं अन्य विभागों की सहायता करना है |
  • होमगार्ड्स एक स्वयंसेवी दल है जो प्राकृतिक आपदाओं ,महामारी फैलने या दंगा फसाद होने पर स्थानीय पुलिस का सहयोग करता है |
  • वर्तमान में यह संघठन केरल को छोडकर सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशो में कार्यरत है |

प्रादेशिक सेना | Territorial Army

  • प्रादेशिक सेना एक स्वैच्छिक सेना है जिसमे 18 से 42 वर्ष के हिन्दुस्तानी नागरिक भर्ती के पात्र होते है |
  • प्रादेशिक सेना के सदस्य पूर्ण कुशल सैनिक तप नही होते ,लेकिन इन्हें कुछ समय के लिए कड़ा सैन्य प्रशिक्षण लेना आवश्यक होता है |
  • प्रादेशिक सेना की स्थापना के समय यह अवधारणा थी कि युद्ध के समय तैनाती के लिए इस सेना के सदस्यों का उपयोग हो सकेगा तथा शांतिकाल में कम से कम खर्च में इनका रखरखाव होगा |
  • प्रादेशिक सेना के हर सदस्य को वर्ष में कम से कम 2 माह नियमित रूप से प्रादेशिक सेना में काम करना पड़ता है |प्रादेशिक सेना यूद्ध्काल में सेना को नियमित सहयोग करती रहती है |
  • प्रादेशिक सेना की तीन इकाईया पैदल सेना ,इंजीनियरिंग एवं चिकित्सा है |
  • हाल ही में भारतीय सेना द्वारा किये गये ऑपरेशन रक्षक ,ऑपरेशन विजय तथा ऑपरेशन पराक्रम में प्रादेशिक सेना की भागीदारी रही |

केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल | Central Industrial Security Force (CISF)

  • CISF का प्रमुख कार्य केंद्र सरकार के औधोगिक उपक्रमों के परिसर और कर्मचारियों की सुरक्षा करना है |
  • वर्तमान में CISF देश के लगभग 300 उपक्रमों में कार्यरत है |
  • CISF विश्व का सबसे बड़ा औद्योगिक सुरक्षा बल है जिसमे डेढ़ लाख से ज्यादा जवान कार्यरत है |
loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *