भारत के समाचार पत्रों से जुड़े रोचक आंकड़े, जो आपको जरुर पढने चाहिए | Indian Newspapers Facts in Hindi

Indian Newspapers Facts in Hindi
Indian Newspapers Facts in Hindi

इंटरनेट युग आने के बाद हालांकि समाचार पत्रों (Newspapers) की लोकप्रियता कम हुयी है लेकिन आज भी भारत के करोड़ो लोग सुबह का अखबार पढ़े बिना चाय नही पीते | समाचार पत्र (Newspapers) उनके जीवन का एक ऐसा हिस्सा बन गया है जिसके बिना दिन की शुरुवात सम्भव नही है | एक दिन पहले की खबरों को विस्तार से पढने के बाद ही उनकी नींद खुलती है | समाचार पत्र पढने वाले भी दो तरह के होते है एक जो केवल हैडलाइन या चित्रों को देखकर 1 मिनट में अखबार पढ़ लेते है और कुछ 1 घंटे तक हर खबर को गहराई से पढ़ते हुए अखबार नही छोड़ते है | समाचार पत्रों से भारत के लोगो का जुड़ाव काफी है इसलिए आज हम आपको भारत के समाचार पत्रों से जुड़े रोचक आकंडे बताने जा रहे है |

loading...
  • भारत समाचार पत्र (Newspapers) व्यवसाय के मामले में विश्व का सबसे बड़ा मार्केट है जहा प्रतिदिन 10 करोड़ लोग समाचार पत्र पढ़ते है |
  • भारत में प्रतिदिन 70 हजार से ज्यादा समाचार पत्र (Newspapers) प्रकाशित होते है जो हिंदी ,अंग्रेजी सहित भारत की सभी क्षेत्रीय भाषाओ में भी समाचार पत्र छपते है |
  • भारत में पहला समाचार पत्र अंगरेजी भाषा का Hicky’s Bengal Gazette था जिसे अंग्रेजो के राज में जेम्स अगस्त हिक्की द्वारा 1870 मे शुरू किया गया था | यह एशिया का भी पहला समाचार पत्र था |
  • 1870 में पहले समाचार पत्र शुरू होने के बाद The India Gazette, The Calcutta Gazette, The Madras Courier (1785), The Bombay Herald(1789) जैसे अख़बार छपना शूर हुए | ये सभी अखबार उस दौर में अंग्रेजो के कार्यक्षेत्र से जुडी खबरे ही प्रकाशित करते थे |
  • बॉम्बे समाचार (Bombay Samachar) एशिया का सबसे पुराना समाचार पत्र है जिसकी प्रतियाँ आज भी मौजूद है | यह गुजराती और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में प्रकाशित होता था | इसकी स्थापना 1822 में फर्डूनजी मरजान ने की थी |
  • उडत मार्तंड (Udant Martand) भारत में प्रकाशित होने  वाला पहला हिंदी भाषा का  समाचार पत्र था जो 30 मई 1826 को प्रकाशित हुआ था | यह समाचार पत्र कलकत्ता से पंडित   जुगल किशोर शुक्ल द्वारा हर  मंगलवार को प्रकाशित होता था |
  • वर्तमान में भारत में 1000 दैनिक समाचार पत्र हिंदी में प्रकाशित होते है जिसकी प्रतिदिन 8 करोड़ प्रतियाँ भारत की जनता तक पहुचती है |
  • दैनिक समाचार पत्रों के मामले में अंग्रेजी भाषा के समाचार पत्र दुसरे स्थान पर आते है जिनमे 250 दैनिक समाचार पत्रों की 4 करोड़ प्रतियाँ प्रतिदिन बिकती है |
  • समाचार पत्र पाठको की संख्या के आधार पर दैनिक जागरण भारत का सबसे लोकप्रिय हिंदी समाचार पत्र है जिसकी Total Readership लगभग 5.5 करोड़ है |
  • हिंदी भाषा का दैनिक भास्कर पाठको की संख्या के आधार पर भारत में दूसरा सबसे बड़ा अख़बार है जिसकी Total Readership लगभग 3.5 करोड़ है |
  • इन दोनों बड़े समाचार पत्रों के बाद लगभग 3 करोड़ TR के साथ अमर उजाला तीसरे स्थान पर , 2.5 करोड़ TR के साथ हिंदुस्तान दैनिक , लगभग 2 करोड़ TR के साथ राजस्थान पत्रिका पांचवे स्थान पर है |
  • भारत के दस बड़े समाचार पत्रों की TR लगभग 18 करोड़ है जो भारत के दस बड़े अंग्रेजी समाचार पत्रों से पांच गुना ज्यादा है |
  • अंग्रेजी भाषा का सबसे बड़ा समाचार पत्र The Times of India है जो भारत के सबसे पुराने समाचार पत्रों में से के है | इसकी स्थापना 1838 में हुयी थी | ये अखबार ना केवल भारत बल्कि पिछले 10 वर्षो से विश्व का सबसे ज्यादा बिकने वाला समाचार पत्र है जिसके बाद जापान के तीन समाचार पत्र आते है |
  • The Times of India के बाद दूसरा बड़ा अंग्रेजी भाषा का स्माचार पत्र The Hindustan Times है जिसकी स्थापना भारत के स्वतंत्रता आंदोलन  के दौरान 1924 में हुयी थी |
  • भारत के प्रमुख अंग्रेजी समाचार पत्रों में शुमार पाने वाले The Hindu की स्थापना 1878 में 4 कानून के विद्यार्थियों और 2 अध्यापको द्वारा की की गयी थी जिसे Triplicane Six के नाम से जाना जाता था |
  • 50 के दशक में भारत में केवल 214 दैनिक समाचार पत्र प्रकाशित होते थे जिसमे से 44 अंग्रेजी भाषा में और बाकि क्षेत्रीय भाषाओं में प्रकाशित होते थे | ये आंकड़ा 1993 में बढकर 3805 हो गया था |
  • अगर क्षेत्रीय भाषाओं के समाचार पत्र की बात करे तो हर भाषा में अलग अलग समाचार पत्र का अलग मुकाम है जैसे मराठी भाषा में लोकमत , गुजराती भाषा में गुजरात समाचार , मलयालम भाषा में मलयालम मनोरमा , तमिल भाषा में थांती , तेलुगु भाषा में एनुडू , कन्नड़ भाषा में विजय कर्नाटक , बंगाली भाषा में आनन्दबाजार पत्रिका आदि लोकप्रिय है |
  • 2007 में समाचार पत्रों (Newspapers) के विक्रय में 11.27 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुयी है | इसी कारण 2007 में विश्व में 62 सबसे ज्यादा बिकने वाले दैनिक समाचार पत्र चीन ,जापान और भारत के थे | 2007 में लगभग 10 करोड़ समाचार पत्र की प्रतियाँ बेचकर विश्व में दुसरे स्थान पर आया था |
  • हिंदी के सबसे ज्यादा बिकने वाला समाचार पत्र दैनिक जागरण का प्रकाशन भारत के स्वतंत्रता आन्दोलन के दौरान 1942 में हुआ था | दैनिक जागरण सबसे पहले झांसी से शूरु हुआ था उसके बाद आजादी तक कानपुर और भोपाल तक इसका विस्तार किया गया | इसके बाद 80 के दशक में उत्तर प्रदेश के अनेको शहरों से होता हुआ 1990 मे दिल्ली पहुचा | इस समाचार पत्र की स्थापना श्री पूरण चन्द्र गुप्ता ,जे,सी,आर्य और श्री गुरुदेव गुप्ता द्वारा की गयी थी | दैनिक जागरण विश्व में सबसे ज्यादा बिकने वाले समाचार पत्रों के मामले में भी पांचवे स्थान पर है जो ना केवल भारत के लिए बल्कि हिंदी भाषा के लिए गर्व की बात है |
  • हिंदी के दुसरे सबसे लोकप्रिय समाचार पत्र दैनिक भास्कर की स्थापना 1956 में भोपाल में सुबह सवेरे और ग्वालियर में गुड मोर्निंग इंडिया नाम से की गयी जिसे 1957 में भास्कर समाचार नाम दिया गया | 1958 में इसे सूर्य चिन्ह के साथ दैनिक भास्कर नाम दिया जो 1995 में मध्य प्रदेश का सबसे ज्यादा बिकने वाला समाचार पत्र बना | इसके बाद इसने जयपुर , चंडीगढ़ ,हरियाणा ,पंजाब ,झारखंड और बिहार में अपने पैर पसारकर देश के प्रमुख दैनिक समाचार पत्रों में अपना नाम किया | वर्तमान में भास्कर की वेबसाइट भी काफी लोकप्रिय है |
  • अमर उजाला की स्थापना आजादी के एक साल बाद आगरा से की गयी जो वर्तमान में भारत के सात राज्यों तक समाचार पहुचा रहा है |
  • मलयालम मनोरमा क्षेत्रीय भाषाओ के समाचार पत्रों (Newspapers) में भारत में प्रथम स्थान है जो कि मलयालम भाषा में है इसके बावजूद वर्तमान में इसकी 2 करोड़ प्रतिया प्रतिदिन बिकती है | ये समाचार पत्र केरल  के कोट्टायम जिले से प्रकाशित होता है | मलयालम मनोरमा सर्कुलेशन के मामले में विश्व का पांचवा और भारत का तीसरा सबसे बड़ा समाचार पत्र है | इसकी पहली प्रति 1890 में प्रकाशित हुयी थी |
  • राजस्थान पत्रिका नाम से क्षेत्रीय अखबार होने के बावजूद भारत का प्रमुख दैनिक समाचार पत्र है जो भारत के 10 प्रमुख समाचार पत्रों में से एक है | इसकी स्थापना 1956 में कर्पुर चन्द्र कुलिश ने की थी जो दिल्ली और राजस्थान में राजस्थान पत्रिका के नाम से बल्कि अन्य राज्यों में पत्रिका के नाम से बिकता है |
  • सुधर्म भारत का पहला और एकमात्र संस्कृत भाषा का समाचार पत्र है जो कर्नाटक के मैसूर जिले से प्रकाशित होता है | 1970 में शुरू हुए इस अख़बार को केवल पोस्ट के जरिये बांटा जाता है क्योंकि इसको पढने वाले अधिकतर संस्कृत विद्वान और छात्र है | इसकी प्रतिदिन केवल 2000 प्रतियाँ छपती है |
  • द मुसलमान (The Musalman) भारत का सबसे पुराना उर्दू भाषा का अखबार है जो 1927 से छपना शूर हुआ था | चार पेज के इस अख़बार की विशेष बात यह है कि ये हाथ से लिखा गया विश्व का एकमात्र अखबार है |
  • पंजाबी भाषा में चार प्रमुख दैनिक समाचार पत्र प्रकाशित होते है जिनमे “अजित” समचार पत्र सबसे पुराना पंजाबी समाचार पत्र है | पंजाब केसरी द्वारा प्रकाशित जगबानी पंजाबी समाचार पत्र पंजाबी भाषा का सबसे ज्यादा बिकने वाला समाचार पत्र है | इनके अलावा पंजाबी ट्रिब्यून और रोजाना स्पोक्समैन प्रमुख है |
  • उडिया भाषा में प्रकाशित होने वाला  The Samaja भारत  के सबसे पुराने समाचार पत्रों (Newspapers) में से एक है जो 1919 से प्रकाशित होना शुरू हुआ था | इसके अलावा प्रगतिवादी , सम्बाद ,समय और ओडिशा समय प्रमुख उड़िया  भाषा के समाचार पत्र है |
  • मराठी भाषा में वैसे तो अनेको समाचार पत्र (Newspapers) प्रकाशित होते है लेकिन 15 प्रमुख समाचार पत्र ज्यादा लोकप्रिय है जिनमे से केसरी लोकमान्य तिलक द्वारा 1881 में शुरू किया गया था | इसके अलावा लोकमत ,लोकसत्ता ,तरुण भारत , महानगर ,प्रहार सामना ,सकल ,पुधरी ,नवकाल ,नवशक्ति आदि प्रमुख है |
  • कश्मीरी भाषा में कोई भी दैनिक समाचार पत्र प्रिंट मीडिया में उपलब्ध नही है जबकि कॉशुर अख़बार 2005 से शुरू हुआ पहला कश्मीरी भाषा का ऑनलाइन न्यूज़पेपर है और सोन मीरास प्रिंट मीडिया में प्रकाशित होने वाला एकमात्र साप्ताहिक समाचार पत्र है |
  • गुजरात मित्र गुजराती भाषा का सबसे पुराने समाचार पत्रों में से के है जो 1863 से प्रकाशित हो रहा है | इसके अलावा समभाव , सन्देश ,कच्छ मित्र , जय हिन्द , गुजरात टुडे और गुजरात समाचार गुजराती भाषा के प्रमुख समाचार पत्र है |

तो मित्रो अगर आपको भारत के समाचार पत्रों से जुड़े रोचक तथ्य पसंद आये तो इस पोस्ट को शेयर जरुए कीजिए और हमारे लेख में आपका पसंदीदा समाचार पत्र हो तो उसे कमेंट में जरुर बताये |

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *