बरसात के मौसम में अपनी सेहत का ख्याल कैसे रखे How to Take Care yourself in Rainy Season

Loading...

How to Take Care yourself in Rainy Season

How to Take Care yourself in Rainy Seasonमानसून के मौसम में ज्यादातर लोग अपनी सेहत को लेकर लापरवाह हो जाते है | इस मौसम में आपको अपने स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखना चाहिए , वरना आपको भविष्य में सेहत संबधित बड़ी समस्याओ का सामना करना पड़ सकता है | बारिश के मौसम में आपको सेहतमंद बने रहने के लिए खास कोशिशे करनी चाहिये | इस मौसम में अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बनाये रखना बहुत जरुरी है ताकि सर्दी जुकाम जैसी समस्याओ से सामना ना करना पड़े | मानसून के इस मौसम में आपको अपने आहार का भी विशेष ख्याल रखना चाहिये  | आइये जानते है कि मानसून के मौसम किन बातो का खयाल रखे और अपनी खान पान की आदतों को किस तरह बेहतर बनाये

01 साफ़ सब्जियों का सेवन

पत्तियों वाली सब्जी को ठीक से धो ले | फल और सब्जी पर ख़ास ध्यान डे क्योंकि इसमें तरह तरह के लार्वा ,धुल और कृमि होते है | इन बैक्टीरिया से छुटकारा पाने के लिए इसे पाने में अच्छी तरह धोये | इससे भी अच्छा तरीका यह है कि फल और सब्जी को नमक पानी में डुबोकर 10 मिनट तक खौलाए |

02 उबला हुआ पानी पीये

मानसून में आप सिर्फ फिल्टर्ड और उबला हुआ पानी पीये | ध्यान रहे कि पानी को उबाले हुए 24 घंटे से ज्यादा ना हुए हो | जर्म से बचने के लिए ज्यादा से ज्यादा हर्बल चाय जैसे अदरक की चाय ,नीम्बू की चाय आदि पीये | अगर आपको चाय पसंद नही है तो आप हॉट वेजिटेबल सूप भी पी सकते है |

03 रखे सही खान पान

सही खान पान मानसून के मौसम में हमे फिट और स्वस्थ्य रहने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | पौष्टिक और उचित आहार स्वास्थ्य सम्बधी समस्याओ और मौसमी बीमारियों से बचाता है जबकि विषाक्त भोज हमे अपच ,दस्त , पेचिश ,हैजा ,खासी-जुकाम वायरल जैसी बीमारियों की चपेट में लाता है | हमे अपनी दिनचर्या में फलो को तरजीह देनी चाहिए | इनमे मौजूद पौष्टिक और एंटीओक्सिडेंट तत्व ना केवल शरीर में उर्जा संतुलन के लिए महत्वपूर्ण है बल्कि शरीर से विषाक्त पदार्थो को बाहर निकालते है और संक्रमन से बचाव कर हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढाते है |

क्या क्या खा सकते है |

मानसून के मौसम में मूंगफली ,आम , आवला और तुलसी को अपने आहार का हिस्सा बनाये | ये सभी चीजे शरीर में रोग प्रतिरोधी क्षमता को बढाने में उपयोगी साबित होते है | वही प्रोसेसड फ़ूड की मात्र जितनी हो सके ,उतनी कम कर दे | इसकी वजह यह है कि प्रोससेड फ़ूड में विटामिन सी और जिंक की मात्रा कम होती है | इन सभी पोषक तत्वों का शरीर की रोग प्रतिरोधी क्षमता बढाने में अहम योगदान होता है |

अपने आहार में ऐसे खाद्य पदार्थो को भी शामिल करे , जिनके शरीर को लाभ पहुचाने वाले बैक्टीरिया होते है | इस श्रेणी में दही ,डोसा ,ढोकला आदि को शामिल किया जा सकत है | भुट्टे में प्रचुर मात्रा में विटामिन B1 , विटामिन C ,फोलेट और फाइबर पाया जाता है | दिल को दुरुस्त रखने के लिए भुट्टा उपयोगी साबित होता है | यही नही इसका नियमित सेवन लंग कैंसर की आशंका को 37 प्रतिशत तक कम करता है |

पाचन क्रिया को दुरुस्त रख कर यह पेट की कई बीमारियों को दूर रखने में कारगर साबित होता है | चाय का ज्यादा सेवन सेहत के लिए नुकसानदायक माना जाता है  पर वही ब्लैक टी और ग्रीन टी को सेहत के लिए उपयोगी माना जाता है | ब्लैक टी और ग्रीन टी शरीर में टी सेल की गतिविधि को बढ़ाते है जो मूलतः शरीर को रोग प्रतिरोधी क्षमता को बढाने में अहम भूमिका मिभाते है |

अगर चाय में चीनी की जगह शहद का इस्तेमाल करे तो चाय से मिलने वाले फायदे में कई गुना बढोत्तरी हो जायेगी | मानसून का मौसम शुरू हो गया है तो अपनी डाइट में अदरक , काली मिर्च और मिर्च जैसे मसालों को शामिल करना शुरू कर दे | ये मसाले ना सिर्फ आपके शरीर को जरुरी पोषण देंगे बल्कि इनसे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ेगी |

बढ़ते है संक्रमन के मामले

मानसून का मौसम सुखद फुहारे लाता है लेकिन साथ ही इस मौसम में सर्दी और बुखार भी काफी बढ़ जाते है | जब लोग एक साथ इनडोर समय ज्यादा बिताते है तो विषाणु के मामले बढ़ते है | सर्दी , बुखार और सांस सम्बधी कई संक्रमन विषाणुओं द्वारा व्यक्ति से व्यक्ति में फैलते रहते है | सरल सेहतमंद नुस्खे जैसे नियमित रूप से हाथ को धोना और अपने चेहरे को हाथ से स्पर्श ना करना आदि अपनाकर आप सक्रमण से दूर रह सकत है |

अगर आप सर्दी खासी से पीड़ित है तो खांसते छीकते वक्त अपने मुह और नाक को ढंके और वह टिशु या कपड़ा फेंक दे |अच्छी प्रोटीनयुक्त डाइट लेने से भी आप अपने प्रतिरक्षा तन्त्र को मजबूत कर सकते है और विषाणुओं से बच सकते है | मानसून के मौसम में सांस के अलावा पानी से होने वाले रोग भी फैलते है | घर में ,सुनिश्चित करे कि भोजन और पेय सम्बधी उपयोग का पानी अच्छी तरह से उबाल लिया गया है और सब्जिया या अन्य खाधय पदार्थ अच्छी तरह धो लिए गये है |

स्ट्रीट फ़ूड से बचे

मानसून में अपने खाने को अच्छा पकाए | कच्चा या अधपका खाने का मतलब है कि आप बीमारियों को दावत दे रहे है | फल और सब्जियों का सेवन ज्यादा करे | मानसुन में स्ट्रीट फ़ूड से खुद को दूर रखना मुश्किल है लेकिन फिर भी जितना ज्यादा हो सके इससे बचे | स्ट्रीट फ़ूड में कई तरह के जर्म होते है जो बीमारियों को जन्म देते है |

इन बातो पर भी ध्यान दे

मानूसन के दौरान तरबूज ,खरबूज जैसी जलीय फलो के सेवन से बचे | नम प्रकृति के होने के कारण इनमे बैक्टीरिया होने की आशंका रहती है जो शरीर में सुजन पैदा करते है |  मानूसन में गैर मौसमी फलो के सेवन से बचे | इनमे अक्सर दिखाई न देने वाले कीड़े पाए जाते है जो स्वास्थ्य के लिए घातक होते है | हमेशा ताजे फलो का सेवन करे |

मुरझाये हुए ,दागी ,कटे फटे या ढीले फलो के सेवन से बचे क्योंकि ऐसे फल विषाक्त हो जाते है और आपकी पाचन प्रक्रिया को प्रभावित करते है | छिलका होने के बावजूद खाने से पहले फलो को अच्छी तरह जरुर धोये क्योंकि इनमे संक्रमन फ़ैलाने वाले जीवाणु चिपक जाते है जो शरीर में पहुचकर बीमारियों को न्योता देते है | जहा तक हो सके बाजार में मिलने वाले फलो के ज्यूस से बचे | सडक किनारे बिकने वाले कटे फल के सेवन से भी बचे |

तो मित्रो इस तरह बरसात के मौसम में आप अपनी सेहत का ख्याल रख मानसून का आनन्द ले सकते है तो आप बरसात के मौसम में स्वस्थ रहने के लिए किन तरीको को आजमा रहे है हमे जरुर बताये |

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *