ऐसे हुयी फादर्स डे मनाने की शुरुवात | Father’s Day History in Hindi

Father's Day History in Hindi
Father’s Day History in Hindi

हर परम्परा की अपनी एक कहानी होती है इसी तरह फादर्स डे (Father’s Day) का भी है | यह परम्परा 100 साल से ज्यादा पुरानी है जिसकी शुरुवात अमेरिका में एक बेटी ने अपने पापा की याद में की थी | आज विश्व के अनेक देशो में इसकी मान्यता है |

loading...

कहते है दुनिया में जन्म लेने के बाद बच्चा अगर अपनी आँखे माँ की गोद में खोलता है तो अपने पैरो का पहला कदम वह अपनी पिता की उंगलियों को पकडकर चलना सीखता है | ज्यादातर बच्चो के बचपन में उनके पिता ही उनके आदर्श होते है | माता अगर बच्चो में संस्कारों का पाठ डालती है तो पिता बच्चो को आत्मनिर्भर और कामयाबी का रास्ता दिखाते है |

कई बार पिता का बर्ताव काफी कड़ा भी होता है पर उसमे भी अपनेपन का एहसास होता है | किसी ने कहा है “पिता उँगली पकड़े बच्चे का सहारा है कभी वह मीठा तो कभी खारा है ” इसी पिता के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए दुनिया भर में फादर्स डे (Father’s Day) अलग अलग दिन मनाये जाते है | भारत में यह अमेरिका की तरह यह जून के तीसरे रविवार को मनाया जाता है जबकि जर्मनी में ईसाई परम्परा के मुताबिक़ |

इसकी शुरुवात के इतिहास बड़ा रोचक है | साल 2017 में फादर्स डे के 107 साल पुरे हो गये | माना जाता है कि फादर्स डे (Father’s Day) सर्वप्रथम 19 जून 1910 को वाशिंगटन में मनाया गया | इसकी कहानी जुडी है सोनेरा डोड से |

फादर्स डे मनाने के पीछे मूल कहानी

Sonora Smart Dodd जब बहुत छोटी थी तभी उनकी माँ का देहांत हो गया | पिता विलियम स्मार्ट ने सोनेरो के जीवन में माँ की कमी नही महसूस होने दी और उसे माँ का भी भरपूर प्यार दिया | एक दिन यूँ ही Sonora के दिल में ख्याल आया कि आखिर एक दिन पिता के नाम क्यों नही हो सकता  ? तब उन्होंने पिता विलियम जैक्सन स्मार्ट की याद में पादरी से अपील की कि पिता के लिए भी एक दिन होना चाहिए | पहले वह अपने पिता के जन्मदिन पांच जून को फादर्स डे मनाना चाहती थी लेकिन पादरी के पास तैयारी का समय नही था फिर इसे 19 को मनाया गया | चूँकि उस साल इसी दिन जून का तीसरा रविवार था इसलिए इसी दिन फादर्स डे मनाने की परम्परा शुरू हुयी |

1924 में अमेरिकी राष्ट्रपति Calvin Coolidge ने फादर्स डे (Father’s Day) पर अपनी सहमति दी | फिर 1966 में राष्ट्रपति Lyndon B. Johnson ने जून के तीसरे रविवार को फादर्स डे मनाने की आधिकारिक घोषणा की | 1972 में America में Father’s Day पर स्थायी अवकाश घोषित हुआ | वही जर्मनी में इसकी परम्परा चर्च और यीशु मसीह के स्वर्गारोहण से जुडी हुयी है | यह हमेशा Holy Thursday यानि पवित्र गुरूवार को ईस्टर के 40 दिन बाद मनाया जाता है इस दिन जर्मनी में छुटटी होती है और इसे पुरुष दिवस के तौर पर मनाया जाता है | फिलहाल पुरे विश्व में जून के तीसरे रविवार को ही फादर्स डे (Father’s Day) मनाने का प्रचलन है |

वर्जिनिया में फादर्स दे मनाने का अलग कारण

Central Virginia में 6 दिसम्बर 1907 को मोनोगाह में के भीषण खान दुर्घटना हुयी थी जहा 361 पुरुष मारे गये थे इनमे से 210 ऐसे लोग थे जो किसी न किसी के पिता थे | इस दर्दनाक दुर्घटना में मारे गये पिताओं के सम्मान में सर्वप्रथम पश्चिमी वर्जिनिया के फेयरामोंट में 5 जुलाई 1908 को Williams Memorial Methodist Episcopal Church में फादर्स डे मनाया गया | इस महान कार्य का आयोजन श्रीमती ग्रेस क्लेटन ने किया था | आज भी फेयरमोंट में वह चर्च है जो अब United Methodist Church के नाम से जाना जाता है |

पिता के अलग अलग नाम

अलग अलग भाषाओं में पिता को अलग अलग नाम से पुकारा जाता है जैसे डैडी , बाबूजी , अब्बा , पिताजी ,डैड , बाबा अदि मगर सबका अर्थ एक ही है और भावना भी | पुरी दुनिया में लगभग 130 भाषाओं में पापा को अलग-अलग तरीको से संबोधित किया जाता है | प्रमुख भाषाओ के लिए प्रयुक्त होने वाले शब्द है  अरब-अब्बी , फ्रेंच-पापा , अफ्रीकन-वदर , ब्राजील-पाई , डच-पापा/पानी , रशियन-पापा ,स्पेनिश-टाटा ,स्वीडिश-पप्पा , इटली-बब्बो , इण्डोनेशियन-बापा , जापान- ऑटोसान ,लैटिन -पटर /अट्टा , नेपाल- बुआ |

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *