Home निबन्ध “आतंकवाद – समस्या एवं समाधान” पर निबन्ध | Essay On Terrorism In...

“आतंकवाद – समस्या एवं समाधान” पर निबन्ध | Essay On Terrorism In Hindi

56
0
SHARE
"आतंकवाद - समस्या एवं समाधान" पर निबन्ध | Essay On Terrorism In Hindi
“आतंकवाद – समस्या एवं समाधान” पर निबन्ध | Essay On Terrorism In Hindi

आज आतंकवाद विश्व के समक्ष एक भयानक चुनौतीपूर्ण समस्या बन गया है | इसके सन्त्रास से आज संसार के अधिकतम देश झुझ रहे है | यह सम्पूर्ण मानवता के लिए खतरा है | जो तकनीक सृजनात्मक ऊर्जा को जागृत करने में प्रयुक्त होनी चाहिए , उसे आतंकवादी विकृत करने में लगे हुए है और व्यापक स्तर पर नस्लवादी एवं धार्मिक वर्चस्व को लेकर आतंक फैला रहे है |

आतंकवाद के कारण

आतंकवाद सर्वप्रथम सन 1920 में इजराइल में हानागाह संघठन द्वारा धार्मिक अलगाव के रूप में उभरा , जी इस्लामिक आतंकवाद में बदला | प्रारम्भ में राष्ट्रों की रंगभेद ,कट्टर जातीयता एवं नस्लवादी दमन निति से कट्टरवादी विषैले चरित्र का विकास हुआ , जो बाद में कही पर व्यक्तिगत स्वार्थो के कारण , कही क्षेत्रीय वर्चस्व के कारण पनपा | जाति, वर्ग सम्प्रदाय , धर्म तथा नस्ल के नाम पर पृथक राष्ट्र की माँग करने से ईराक ,सीरिया , तुर्की ,अफगानिस्तान , सूडान आदि देशो में अलग अलग नामो से आतंकवाद का प्रसार हुआ | इस्लामिक कट्टरता एवं तालिबान के रूप में आज वही आतंकवाद सभी देशो को त्रस्त कर रहा है |

आतंकवादी घटनाए एवं दुष्परिणाम

आतंकवाद को कुछ राष्ट्रों से अप्रत्यक्ष सहयोग मिल रहा है | इस कारण आतंकवादियों के पास अत्याधुनिक घातक हथियार मौजूद है | वे भौतिक , रासायनिक एवं मानव बमो का प्रयोग कर रहे है | वे अपने गुप्त संचार तन्त्र से कही भी पहुच जाते है | 11 दिसम्बर 2001 को अमेरिका में Twin Tower विध्वंस काण्ड , 13 दिसम्बर 2001 को भारतीय संसद पर हमला , 12 अक्टूबर 2002 को बाली में बम विस्फोट ; इसी प्रकार मोरक्को फिलिपीन्स , स्पेन , शर्म-अल-शेख (मिस्त्र) तथा लदंन में ट्यूब ट्रेनों में विस्फोट की घटनाए कर आतंकवादियो ने जो हानि पहुचाई है वह अतीव भयावह एवं क्रूरतम मानी जाती है | वर्तमान में Islamic State of Iraq and Seria (ISIS) एक ऐसा आतंकवादी संघठन बन गया है जो अत्यंत नृशंश एवं वीभत्स कृत्यों से मानवता को आतंकित कर रहा है |

आतंकवादी चुनौती का समाधान

आतंकवाद के बढ़ते खतरे का समाधान कठोर कानून व्यवस्था एवं नियन्त्रण से ही हो सकता है | इसके लिएय अवैध संघठनो पर प्रतिबन्ध , हवाला द्वारा धम संचय पर रोक , प्रशासनिक सुधार के साथ ही काउंटर Terrorism Act अध्यादेश तथा संघीय जांच एजेंसी आदि को अति प्रभावी बनाना अपेक्षित है | अमेरिका एवं ऑस्ट्रेलिया द्वारा जो कठोर कानून बनाया गया है तथा सेना एवं पुलिस को इस संबध में जो अधिकार दे रखे है उनका अनुसरण करने से भी इस चुनौती का मुकाबला किया जा सकता है |

उपसंहार 

निर्विवाद कहा जा सकता है कि आतंकवाद किसी देश विशेष के विरुद्ध की गयी विध्वंसात्मक कार्यवाही है | आतंकवाद के कारण विश्व मानव-सभ्यता पर संकट आ रहा है | यह अंतर्राष्ट्रीय समस्या बन गयी है | इसके स्माधानार्थ सभी राष्ट्रों के समन्वय एवं एकजुटता की आवश्यकता है |

भारत में आतंकवाद से जुड़े आंकड़े

  • भारत में सबसे जयादा आतंकवादी घटनाए जम्मू-कश्मीर , मध्य-पूर्वी (नक्सलवाद) और पूर्वी भारत में होती है |
  • राष्ट्रीय सरुक्षा के आंकड़ो के अनुसार वर्तमान में भारत में 800 से ज्यादा आतंकवादी दल काम कर रहे है |
  • 2013 में आये आंकड़ो के अनुसार भारत के 608 जिलो में से 205 जिले आतंकवाद से पीड़ित है |
  • 2012 में आतंकवाद से भारत में 231 नागरिको की मौत जबकि विश्वभर में लगभग 11 हजार लोगो की मौत हुयी है |
  • मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार भारत में आतंकवाद ISI नामक दल द्वारा पाकिस्तान के सहयोग से फैलाया जा रहा है |
  • 2016 में भारत सरकार द्वारा जारी आंकड़ो के अनुसार भारत में 2005 से 707 लोगो की मौत और 3200 लोग घायल हुए |
  • आतंकवादियो का सबसे पसंदीदा टारगेट मुम्बई रहा है जहां अब तक 10 से ज्यादा बड़ी आतंकवादी घटनाए हो चुकी है |
  • भारत में सबसे ज्यादा आतंकवाद बम ब्लास्ट के जरिये फैलाया जा रहा है और आतंकवादी अक्सर बसों , रेलों और भीडभाड़ वाले स्थानों को बनाते है |
  • भारत में सबसे बड़ा आतंकवादी हमला 12 मार्च 1993 को हुआ जब बॉम्बे में एक के बाद एक 12 बम धमाको में 257 लोगो की जाने गयी | इस धमाके के लिए दाऊद इब्राहिम दोषी है जो आज भी फरार है |
  • भारतीय संसद पर हुए हमले में भारत में कई नेताओं की जान जा सकती थी अगर समय पर सुरक्षा दल आतंकवादियो से नही भिड़ते | 2001 में संसद में हुए हमले में 9 पुलिस वालों और स्टाफ दल की मौत हो गयी |
  • आतंकवाद पर भारत में कई फिल्मे बन चुकी है जिनमे प्रमुख है रोजा , दिल से , द्रोहकाल , The Terrorist (1999), ब्लैक फ्राइडे (2004) , फना (2006) |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here