Home निबन्ध “प्रात:कालीन भ्रमण” पर निबन्ध | Essay on “Morning Walk” in Hindi

“प्रात:कालीन भ्रमण” पर निबन्ध | Essay on “Morning Walk” in Hindi

254
0
SHARE
"प्रात:कालीन भ्रमण" पर निबन्ध | Essay on "Morning Walk" in Hindi
“प्रात:कालीन भ्रमण” पर निबन्ध | Essay on “Morning Walk” in Hindi

प्रस्तावना – प्रात:काल का समय बहुत सुहावना होता है | अंधकार दूर हो जाता है | पक्षी कलरव करने लगते है | शीतल मन्द सुगंध समीर बहने लगती है | ओस की बुँदे मोतियों की तरह चमकती प्रतीत होती ही | प्रकृति  में नई चेतना आ जाती है | प्रात:काल के ऐसे मनोहर समय को निद्रा में पड़े रहकर गुजारना निश्चय ही दुर्भाग्यपूर्ण है | शीघ्र उठने से मनुष्य स्वस्थ रहता है | स्वस्थ पुरुष धनोपार्जन कर सकता है | स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क की परिकल्पना काफी प्राचीन है |

प्रात:काल का महत्व

प्रात:काल अत्यंत श्रेष्ठ काल है इसलिए तो ऋषि मुनियों ने रात्रि के अंतिम प्रहर में शैय्या त्याग करने का अमूल्य उपदेश दिया है | सभी मनुष्यों को सूर्योदय से पूर्व ही उठना चाहिए और प्रात:काल भ्रमण करके प्रकृति की सुन्दरता का अवलोकन करना चाहिए |

प्रात:कालीन भ्रमण की आवश्यकता

जो व्यक्ति प्रात:काल की बेला में प्रकृति के खुले वातावरण में कार्य करते है उन्हें प्रात:कालीन भ्रमण की शायद आवश्यकता न हो परन्तु विशाल नगरो की तंग गलियों में निवास करने वाले नागरिको के लिए प्रात:कालीन भ्रमण (Morning Walk )अत्यंत आवश्यक है | नगरो में दिन का वातावरण बहुत कोलाहलपूर्ण होता है | कल-कारखानों के धुएं से वातावरण विषाक्त हो जाता है | ऐसे वातावरण में रहने से स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है अत: प्रातःकाल के समय यदि भ्रमण न किया जाए तो स्वास्थ्य चौपट हो जाएगा |

भ्रमण (Morning Walk) करते समय हमे अपनी गति को बहुत ही तीव या मंद नही रखना चाहिए | भ्रमण प्रतिदिन नियमित रूप से करना चाहिए तभी उसका यथेष्ट लाभ मिल सकेगा | प्रात:काल का भ्रमण (Morning Walk) यदि किसी साथी के साथ किया जाए तो उपयुक्त रहता है क्योकि इससे मन बहला रहता है | अकेला होने पर मनुष्य शीघ्र उब जाता है और वापस लौट आता है |

प्रात:कालीन भ्रमण से लाभ

प्रात:कालीन भ्रमण (Morning Walk) से अनेक लाभ है | यह प्रकृति प्रद्दत नि:शुल्क औषधि है जिसका निर्धन और धनवान सभी समान रूप से उपयोग करने में स्वतंत्र है | प्रात:काल की वायु स्वास्थ्यवर्द्धक होती है अत:ऐसे समय में भ्रमण करने से मनुष्य के अनेक रोग स्वत: ही दूर हो जाते है | शरीर बलिष्ठ और सुंदर बनता है | नई स्फूर्ति प्राप्त होती है और आलस्य दूर हो जाता है | मस्तिष्क को शान्ति एवं शक्ति मिलती है | परिणामस्वरूप स्मरणशक्ति का विकास होता है | प्रात:काल भ्रमण करते समय अनेक व्यक्ति खुली हवा में व्यायाम करते मिलते है जिन्हें देखकर व्यायाम करने की प्रेरणा मिलती है | धर्मात्मा पुरुष मन्दिरों की ओर जाते दिखाई पड़ते है जिससे भ्रमणं करने वाले के मन में भी धार्मिक भावनाओं का उदय होता है | प्रात:कालीन भ्रमण प्रत्येक आयु के स्त्री-पुरुष और बालक के लिए समान रूप से लाभ पहुचाता है |

उपसंहार

संक्षेप में हम कह सकते है कि प्रात:काल का समय बड़ा सुहावना होता है | पक्षी अपने कलरव से इस वातावरण  को ओर भी मधुर बना देते है | रस के प्रेमी भंवरे और तितलियाँ नया राग अलापते है | प्राकृतिक वैभव सर्वत्र बिखरा रहता है अत: हमे ऐसे समय का सदुपयोग करना ही चाहिए | प्रात:काल का भ्रमण (Morning Walk) शारीरिक दृष्टि से ही नही मानसिक और आध्यात्मिक दुष्टि से भे लाभप्रद है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here