Dara Shikoh History in Hindi | दारा शिकोह , जो बदल सकता था मुगल वंश का इतिहास

Loading...

Dara Shikoh History in Hindi

Dara Shikoh History in HindiDara Shikoh दारा शिकोह मुगल बादशाह शाहजहा का बड़ा बीटा और मुगल वंश का उत्तराधिकारी था | उसको मुगल वंश का अगला बादशाह बनाने के लिए उसके पिता शाहजहा और बड़ी बहन जहानारा बेगम थे लेकिन उसके छोटे भाई औरंगजेब ने सत्ता के लोभ में एक युद्ध में अपने भाई को हराकर उसकी हत्या कर दी थी | इतिहासकारों का मानना था कि अगर Dara Shikoh दारा शिकोह अगर शाहजहा के बाद मुगल सत्ता सम्भालता था वो मुगल वंश के बुरे इतिहास को खत्म कर सकता जो औरंगजेब की वजह से धूमिल हुआ था | Dara Shikoh दारा शिकोह अपने परदादा की तरह धर्म निरपेक्ष और पराक्रमी था लेकिन इतिहास ने उसे औरंगजेब के कारण भुला दिया |

तारागढ़ दुर्ग में हुआ था दारा जा जन्म | Dara Shikoh Birth in Taragadh Fort

birth-of-prince-dara-shikoh-at-ajmerDara Shikoh दारा शिकोह का जन्म 28 अक्टूबर 1615 को अजमेर के तारागढ़ किले में हुआ था | दारा शिकोह शाहजहा और उसकी दुसरी पत्नी मुमताज महल का सबसे बड़ा पुत्र था | ऐसा कहा जाता है कि दारा के पिता शाहजहां ने मोइउद्दीन चिश्ती की दरबार में घुटनों पर बैठकर पुत्र की मन्नत माँगी थी क्योंकि इससे पहले उसकी सारी पुत्रिया ही हुयी थी | तब दारा शिकोह का जन्म हुआ और उसके जीवन पर सूफी संत का बहुत गहरा प्रभाव रहा था | Dara Shikoh दारा शिकोह में अपने वंश के दो महान बादशाओ हुमायु और अकबर के गुण मौजूद थे |

Dara Shikoh दारा शिकोह के जीवन का उद्देश्य हिन्दू और इस्लाम धर्म का सामजस्य करना था | इतिहासकारों का मानना था कि अगर वो अपने इस उद्देश्य में सफल हो जाता था तो शायद आज हिन्दू-मुस्लिम में मतभेद कभी नही होता | दारा के जीवम में सुफी विचारधारा का बहुत गहरा प्रभाव रहा था | जब दारा केवल 12 वर्ष का ही था तब उसके दादा जहांगीर की मौत हो गयी और उसके पिता शाहजहा ने मुगल सल्तनत की गद्दी सम्भाली | दारा के भाई – बहनों में उसकी बड़ी बहन जहानारा बेगम और छोटे भाई शाह शुजा ,रोशनारा बेगम ,औरंगजेब ,मुराद बख्श और गौहर बेगम थे | औरंगजेब इन सबमे से शक्तिशाली निकला जिसने छठे मुगल बादशाह के रूप में सत्ता सम्भाली थी |

दारा ने अपने जीवन में किया सिर्फ एक निकाह

dara-shikoh-with-wife-nadira-banu01 फरवरी 1633 को Dara Shikoh दारा शिकोह ने अपनी चचेरी बहन नादिरा बानू बेगम से निकाह किया था जो उसके चाचा सुल्तान परवेज मिर्जा की बेटी थी | सभी एतेहासिक लेखो में उन दोनों की शादी को एक खुशहाल और सफल शादी माना जाता है | दारा शिकोह और नादिरा एक दुसरे को बेहद प्यार करते थे इसलिए शादी के बाद दारा ने दूसरा कोई भी निकाह नही किया था | इस प्यारी जोड़ी के आठ संताने हुयी , जिसमे से दो पुत्र और चार बेटिया थी जो उनकी युवावस्था तक जीवित रहे थे |

शाहजहा ने की दारा शिकोह को अपना उत्तराधिकारी बनाने की घोषणा

dara-shikoh-given-shah-buland-iqbal-titleदुसरे मुगल संतानों की तरह दारा शिकोह को भी कम उम्र में ही मुगल सेना का सेनापति बना दिया गया , जिसके पास 1633 में 12000 लोगो की पैदल सेना और 6000 अश्व सेना थी | दारा के सफल अभियानों के बाद उसे 1636 में 7000 अश्व , 1637 में 9000 अश्व , 1638 में 10000 घोड़े और 1639 में 15000 अश्व सेना का सेनापति के रूप में रखा गया |10 सितम्बर 1642 में शाहजहा ने सार्वजनिक रूप से दारा शिकोह को अपना उत्तराधिकारी बनाने की घोषणा करते हुए उसे “शहजादा-ए-बुलंद इकबाल” के पद से नवाजा | साथ ही उसे पदोन्नत करते हुए 20000 पैदल सेना और 20000 अश्व सेना का सेनापति बनाया गया |

1645 में दारा को अलाहाबाद का सूबेदार घोषित किया गे | 1648 में उसे ओर ज्यादा बढ़ावा एते हुए 30000 पैदल सेना और 20000 अश्व सेना देने के साथ साथ गुजरात का सूबेदार भी बना दिया |अब दारा के पिता की तबियत खराब होने लगी थी लेकिन दारा लगातार अपने अभियानों में सफलता प्राप्त कर रहा था | 1652 में दारा को मुल्तान और काबुल का सूबेदार बनाकर “शाह-ए-बुलंद” पद से सम्मानित किया गया | 1656 में तो उसके बाद 50000 पैदल सेना और 40000 अश्व सेना हो चुकी थी |

सत्ता के लिए दारा का अपने ही भाई से संघर्ष | Battle of Samugarh for Succession

battle-of-samugarh-for-succession1657 में बादशाह शाहजह की तबीयत बहुत ज्यादा खराब हो चुकी थी जिसके कारण मुगल संतानों में सत्ता के लिए संघर्ष शुरू हो गया | इन सभी में से असली मुकाबला दारा शिकोह और औरंगजेब के बीच था | शाहजहा के दुसरे पुत्र शाह शुजा ने अपनी पहली चाल चली और अपने आप को बंगाल का बादशाह घोषित कर दिया और आगरा की तरफ अपनी सेना बधाई | शाहजहा का सबसे छोटा बेटा मुराद बक्श अपने बड़े भाई औरंगजेब के साथ मिल गया | 1657 के अंत तक दारा शिकोह को बिहार प्रान्त का सूबेदार बना दिया गया जिससे उसकी सेना बढकर 60000 पैदल सेना और 40000 अश्व सेना तक पहुच चुकी थी |

शाहजहा के स्वास्थ्य में सुधार होते ही उसने सत्ता के इस संघर्ष में अपने बड़े बेटे दारा का साथ दिया | 1658 में बहादुरपुर की लड़ाई में शाहजहा-दाराशिकोह  पिता-पुत्र की सेना ने शाहशुजा को तो हरा दिया था लेकिन समुद्रगढ़ की लड़ाई में औरंगजेब और मुराद बक्श को नही हरा पाए | 1658 में आगरा से 13 किमी दूर समुद्रगढ़ में दारा शिकोह और औरंगजेब की सेना के बीच हुए युद्ध में औरंगजेब की जीते हुयी और उसने आगरा के किले को अपने कब्जे में लेकर बादशाह शाहजहा को बंदी बना लिया |

मलिक जुनैद ने दिया दारा शिकोह को धोखा | Dara Shikoh Betrayed

dara-shikoh-get-betrayal-by-malik-jiwan-junaidसत्ता के संघर्ष में हुयी लड़ाई में दारा शिकोह की हार के पश्चात वो पीछे हट गया और आगरा से दिल्ली होते हुए लाहोर चला गया | दारा का अगला निशाना मुल्तान और सिंध था | सिंध जीतने के बाद उसने कच्छ का रण पार किया और वहा से काठियावाड़ पहुचा जहा उसकी मुलाकत गुजरात के सूबेदार शाहनवाज कहाँ से हुयी | शाहनवाज ने दारा की मदद करते हुए अपने खजाने उसके लिए खोले और अपनी सेना बढाने में मदद की | अपनी सेना बढाते हुए उसने सुरत पर कब्जा करते हुए अजमेर का रुख किया |

अब आगे मारवाड़ के महाराज जसवंत सिंह के साथ मिलकर दारा ने औरंगजेब के खिलाफ जंग का एलान किया लेकिन देवराय की इस लड़ाई में एक बार फिर दारा की हार हुयी | दारा की हार के बाद वो वापस उसने सिंध की तरफ कुच किया और अफ़घान कबीले के सरदार मलिक जुनैद के यहाँ शरण ली | मलिक जुनैद ने दारा शिकोह के साथ विश्वासघात करते हुए 1659 में औरंगजेब की सेना को सौंप दिया |

सत्ता के लिए औरंगजेब के करवाया अपने ही भाई का सर कलंक

dara-shikoh-killed-by-aurangzebअब जुनैद के विश्वासघात की वजह से दारा शिकोह को बंदी बना लिया गया और उसे गंदे हाथी पर बिठाकर दिल्ल्ली लाया गया और दिल्ल्ली की गलियों में चैन से बांधकर दौड़ाया गया | अब दारा शिकोह का भाग्य सियासी हुक्मरानों के हाथ में था जबकि दारा शिकोह सियासी लोगो से ज्यादा आम जनता में ज्यादा लोकप्रिय था | औरंगजेब के मंत्रियों और काजियो ने दारा शिकोह को सार्वजनिक शान्ति भंग करने और इस्लाम के विरुद्ध चलने के कारण मौत की सजा सुनाई गयी |

30 अगस्त 1659 को दारा शिकोह को अपने ही पुत्र के सामने सर कलंक कर दिया | सर कलंक करने के बाद औरंगजेब ने अपने भाई के सर को ध्यान से देखा था | इसके बाद क्रूर औरंगजेब ने दारा शिकोह के धड़ को अपने ही बंदी पिता शाहजहा को आगरा के किले भिजवाया | अपने प्यारे पुत्र के धड को देखकर शाहजह का कलेजा पसीज गया और औरंगजेब जैसे क्रूर पुत्र को पाकर उसे अपने आप पर बहुत पछतावा हुआ |

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *