बच्चो की हैण्ड राइटिंग कैसे सुधारे ? Child Handwriting Tips in Hindi

Child Handwriting Tips in Hindi
Child Handwriting Tips in Hindi

कंप्यूटर के बढ़ते इस्तेमाल से न केवल बच्चो की हैण्ड राइटिंग बल्कि लिखने के प्रति उनकी दिलचस्पी भी कम कर दी है | आज बच्चे लिखने से ज्यादा टाइप करना ज्यादा सुविधाजनक समझते है और अपने हर काम को वे कंप्यूटर एवं फोन पर ही निपटा लेते है | उन्हें लगता है कि पढाई में अच्छा परफॉर्म करने के लिए हैण्ड राइटिंग का सुंदर होना जरुरी नही परन्तु उनकी यह सोच तब गलत साबित हो जाती है जब परीक्षा में सारे सही जवाब लिखने के बावजूद गन्दी लिखाई के कारण उन्हें कम मार्क्स मिलते है | लिखाई खराब होने के कारण अध्यापक उनके पेपर्स ठीक से पढ़ नही पाते जिसके कारण जवाब सही होते हुए भी उन्हें कम मार्क्स मिलते है | अत: लिखाई का सुंदर और स्पष्ट होना बेहद जरुरी है | यदि आप भी अपने बच्चे की खराब हैण्ड राइटिंग से परेशान है तो आप भी कुछ टिप्स अपना कर अपने बच्चो की हैण्ड राइटिंग को सुधर सकते है |

Study Table की उंचाई सही हो

बच्चे के स्टडी टेबल की उंचाई सही होने चाहिए | टेबल इतना ऊँचा होना चाहिए जिस पर बच्चा आराम से कोहनियाँ टिकाकर लिख सके | साथ ही कुर्सी भी ऐसी होनी चाहिए जिस पर बैठने से बच्चे के पैर आसानी से जमीन तक पहुच सके |

Pencil Grip सही पकड़ना बताये

बच्चे के Pencil पकड़ने का सही तरीका बताये क्योंकि गलत तरीके से पेंसिल पकड़ने से लिखने में कठिनाई होती है और लिखाई भी बिगड़ जाती है | बच्चे को पेंसिल अंगूठे और दुसरी अंगुली के बीच में रखकर पेंसिल के उपरी भाग को पकड़कर लिखना सिखाये | इस तरह से बच्चे को लिखने में आसानी होगी |

न्यू स्टाइल

अगर आप अपने बच्चे को अलग अलग तरह के राइटिंग स्टाइल सिखाना चाहते है तो बच्चे के सामने उस स्टाइल का मॉडल होना जरुरी है | इसके लिए नोट बुक के हर पन्ने पर एक एक वर्ण लिखकर बच्चे को प्रैक्टिस करने को कहे | ऐसा करने से वह नया स्टाइल आसानी से सीख जाएगा |

पहला पाठ

छोटे बच्चे को लिखना सिखाने के लिए डेक्सटॉप वाइट बोर्ड एवं मार्कर इस्तेमाल करे | बोर्ड पर कुछ लिखकर बच्चे को बताये कि लैटर किस तरह से शुरू किया जाता है और किस तरह से स्ट्रोक बनाये जाते है | बच्चे को तब तक लैटर को कॉपी करने दे , जब तक वह इसे सही ढंग से लिखना सीख नही जाता | एक बार बच्चा बोर्ड पर लिखना सीख जाए तो उसे पेपर पर लाइन के बीच में लिखना सिखाये | अपनी निगरानी में उससे प्रैक्टिस करवाए और उसकी हैण्ड राइटिंग पर ध्यान दे | अच्छा लिखने पर बच्चे की तारीफ़ करे , इससे उसका उत्साह बढ़ेगा और वह ज्यादा अच्छी हैण्ड राइटिंग में लिखने की कोशिश करेगा |

राइटिंग प्रोजेक्ट्स

राइटिंग प्रोजेक्ट्स देकर भी बच्चे को हैण्ड राइटिंग सुधारने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है आप उसे निम्न प्रोजेक्ट्स दे सकते है

  • दोस्त को लेटर लिखने को कहे |
  • फैंसी पेपर पर कविता लिखने को कहे और उसे दीवार पर लटकाए |
  • कोई कविता कॉपी करने के लिए कहे और इसे पोएट्री बुलेटिन बोर्ड या बच्चे की नोट बुक में रखे |
  • अलग अलग तरह के कार्ड बनाने के लिए प्रोत्साहित करे |
  • ड्राइंग बनाकर उसका शीर्षक लिखने को कहे |

हैण्ड राइटिंग सुधारने के अन्य टिप्स

  • बिना काट-पीट किये लिखने की कोशिश करे , ओवर राईट न करे | यदि कुछ गलत हो गया है तो उसे सिर्फ एक सिंगल लाइन से क्रॉस करे |
  • सभी अक्षर एक ही लाइन में लिखे |
  • सभी लैटर एक जैसे होने चाहिए | इस बात का भी ध्यान रखे कि कुछ लेटर सीधे और कुछ झुके हुए न हो |
  • शब्दों के बीच कितनी जगह छोडनी है इसका भी ध्यान रखे |
  • नया पैराग्राफ शुरू करने से पहले दो उंगली का गैप छोड़े |
  • आपके बच्चो की लिखाई उसके व्यक्तित्व को दर्शाती है |
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *