Category: Spiritual

  • सभी को शुभफलदायक नव विक्रमी संवत २०७४ | Vikram Samvat 2074

    हर साल चैत्र मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से ही विक्रमी संवत शुरु होता है तथा इस बार नये विक्रमी संवत 2074 का शुभारम्भ चैत्र मॉस की तिथि 15 अर्थात 28 मार्च मंगलवार हो होगा | विक्रमी संवत 2073 के चैत्र मॉस की अमावस की समाप्ति प्रात: 8 बजकर 27 मिनट पर होगी तथा उसी […]

  • महाशिवरात्रि पर भोले बाबा की पूजा कैसे करे ? | Mahashivratri Pooja Vidhi in Hindi

    Mahashivratri Pooja Vidhi in Hindi हमारे शास्त्रों में शिवरात्रि (Mahashivratri) सर्वधर्ममयी है | फाल्गुन मॉस की कृष्ण पक्ष की चतुर्द्र्शी को श्री महाशिवरात्रि व्रत (Mahashivratri Vrat) किया जाता है इस बार यह व्रत 24 फरवरी यानि कल है | इसी रात्रि को भगवान शिव आदि देव महादेव कोटि सूर्य के समान दीप्ती होकर शिवलिंग के रूप […]

  • देवी सरस्वती को समर्पित वसंत पंचमी | Vasant Panchami Essay in Hindi

    विश्व भे में भारत एक ऐसा देश है जहा प्रकृति के विस्तृत रंगमंच पर वर्ष में छ: ऋतुये क्रम में आती है और एक अनोखा दृश्य दिखाकर चली जाती है | सर्वप्रथम आगमन होता है वसंत ऋतू का ,जिसे पुराणों में कामदेव का पुत्र बताया गया है रूप सौन्दर्य के देवता कामदेव के घर पुत्रोत्पत्ति […]

  • Vasant Panchami Essay in Hindi | देवी सरस्वती को समर्पित वसंत पंचमी

    Vasant Panchami Essay in Hindi विश्व भे में भारत एक ऐसा देश है जहा प्रकृति के विस्तृत रंगमंच पर वर्ष में छ: ऋतुये क्रम में आती है और एक अनोखा दृश्य दिखाकर चली जाती है | सर्वप्रथम आगमन होता है वसंत ऋतू का ,जिसे पुराणों में कामदेव का पुत्र बताया गया है रूप सौन्दर्य के […]

  • भारत के सुप्रसिद्ध भैरव मन्दिर | Famous Bhairav Temples History in Hindi

    कालो में काल महाकाल अर्थात महाकालेश्वर भगवान शिव महादेव है | वह लिंग रूप में निराकार ब्रह्म के द्योतक है और सर्वत्र विराजमान है | भुतभावन भगवान भैरव को शिव का अवतार माना गया है अत: वह शिव स्वरूप ही है और उनके साकार रूप है | भैरव सम्पूर्णत: परात्पर शंकर ही है | भैरव […]

  • मकर सक्रांति से जुड़े खगोलीय, एतेहासिक और वैज्ञानिक तथ्य | Makar Sankranti Facts in Hindi

    मकर सक्रांति में “मकर” शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि सक्रांति का शाब्दिक अर्थ संक्रमन अर्थात प्रवेश करना है इस दिन सूर्य खोगोलीय पथ का चक्कर लगाते हुए धनु राशि में प्रवेश करता है अर्थात सूर्य का मकर राशि में प्रवेश ही मकर सक्रांति है इस इदं किसान अच्छी फसल के लिए भगवान […]

  • भाई बहन के स्नेह का पर्व है भाईदूज | Bhai Dooj Katha and Ritual in Hindi

    दीपोत्सव के पांचवे दिन का पर्व है भात्र द्वितीया (भाईदूज ) या यमद्वितीया | यह भी संयुक्त परिवारों और गाँव घर के सहजीवन का उत्सव है जिसे यम और यमुना के भाई बहन की प्रेम की गाथा में गूँथकर धार्मिक पावनता की सुगंध दे दी गयी है | सयुंक्त परिवारों में यह प्रथा सदियों से […]

  • Govardhan Puja Vidhi and Significance in Hindi | गोवर्धन पूजा विधि और कथा

    दीपावली के दुसरे दिन गोवर्धन पूजा (Govardhan Puja) की जाती है | इसके लिए घर क्र मुख्य द्वार पर गौ के गोबर से गोवर्धन जी बनाये जाते है | गोवर्धन की पूजा (Govardhan Puja) भगवान श्रीकृष्ण के अवतार के बाद द्वार युग से प्रारम्भ हुई थी | इस दिन ठाकुर जी के अन्नकूट का भोग […]

  • महालक्ष्मी पूजन और दीपावली पूजन का शुभ मुहूर्त | Diwali Puja Vidhi in Hindi

    कार्तिक मास की अमावस्या को बड़ी दीपावली मनाई जाती है | इस दिन धन की देवी लक्ष्मी एवं गणेश जी की पूजा की जाती है | इस दिन रामचन्द्रजी ,सीता जी और लक्ष्मण जी 14 वर्ष का वनवास पूरा करके वापस अयोध्या लौटे थे तब अयोध्यावासियो ने राम के राज्यारोहण पर दीपमालाए जलाकर महोत्सव मनाया […]

  • जानिये भारत से बाहर कैसा होता है दिवाली का जश्न | Diwali Celebration Outside India in Hindi

    दुनियाभर में धूम है दीपावली जी | भारतीय संस्कृति की समझ और भारतीय मूल के लोगो के वैश्विक प्रयास के कारण दीपावली मनाने वाले देशो की संख्या लगातार बढ़ रही है | श्रीलंका , पाकिस्तान ,म्यांमार , ,थाईलैंड ,मलेशिया ,सिंगापूर , इंडोनेशिया , ऑस्ट्रेलिया , न्यूजीलैंड , फिजी , मारीशस , केन्या , तंजानिया  , […]

  • Roop Chaturdashi Pooja Vidhi and Katha in Hindi | रूप चतुर्दशी कथा और पूजा विधि

    जैसा कि इस व्रत का नाम से ही स्पष्ट है कि नरक चतुर्दशी (Roop Chaturdashi) को किया गया पूजन और व्रत यमराज को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है जिसका उद्देश्य नरक से मुक्ति पाना है क्योंकि यमराज के रुष्ट होने से प्राणी को नरक में दी जाने वाली यातनाओं का कष्ट भोगना पड़ता […]

  • Dhanteras Katha and Pooja Vidhi in Hindi | धनतेरस कथा और पूजन विधि

    धनतेरस (Dhanteras) का त्यौहार दीपावली (Deepawali) आने की पूर्व सुचना देता है | इस दिन भगवान धन्वंतरि क्षीरसागर से अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे इसलिए वैध समाज हर्षोल्लास के साथ “धन्वंतरि जयंती” मनाता है | उल्लेखनीय है कि अमृतपान करने वाला प्राणी अमर हो जाता है इसलिए धन्वंतरि भगवान ने देवताओ को अमृतपान करवाकर […]