More stories

  • Kovalam Tour Guide in Hindi
    in

    Kovalam Tour Guide in Hindi | कोवलम के प्रमुख पर्यटन स्थल

    भारत में जितने समुद्र तट है उनमे सर्वाधिक सुंदर , सुखद और मनोरम है केरल का कोवलम | 14वी शताब्दी में केरल में कोवलम नाम के अत्यंत लोकप्रिय कवि थे | उन्ही के नाम पर इस समुद्र तट का  नाम कोवलम रखा गया है | केरल की राजधानी त्रिवेन्द्रम (अब तिरुवनंतपुरम) के दक्षिण में 10 […] More

  • in

    Ajmer Tour Guide in Hindi | अजमेर के प्रमुख दर्शनीय स्थल

    जयपुर से 138 किमी दूर अरावली पहाडियों के बीच बसे अजमेर का पुराना नाम अजयमेरु है | सातवी शताब्दी में राजा अजयपाल चौहान ने इसे बसाया था | धार्मिक , सांस्कृतिक और शैक्षिक दृष्टि से यह भारत का एक बहुत ही महत्वपूर्ण और दर्शनीय शहर है | पर्यटकों के लिए भी यह आकर्षण का केंद्र […] More

  • in

    Bhimrao Ambedkar Biography in Hindi | डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जीवनी

    अगाध ज्ञान के भंडार , घोर अध्यवसायी , अद्भुत प्रतिभा , सराहनीय निष्ठा और न्यायशीलता तथा स्पष्टवादिता के धनी डॉ. भीमराव अम्बेडकर (Bhimrao Ambedkar) ने अपने आपको दलितों के प्रति समर्पित कर दिया था | अस्पृश्य समझी जाने वाली महार जाति में जन्म लेने के कारण उन्हें अपने जीवन में पग-पग पर भारी अपमान और […] More

  • Jayaprakash Narayan Biography in Hindi
    in

    Jayaprakash Narayan Biography in Hindi | लोकनायक जयप्रकाश नारायण की जीवनी

    भारत के समाजवादी विचारको में जयप्रकाश नारायण का विशिष्ट स्थान है | वे एक समाजवादी थे गांधीवादी थे और सर्वोदयवादी थे लेकिन इनमे से किसी के साथ वे जीवन भर बंधकर न रह सके | वस्तुत: उनके जीवन और चिन्तन का एक ही लक्ष्य था और वह था आर्थिक-सामाजिक न्याय और नैतिकता पर आधारित व्वयस्था […] More

  • in

    लोककथा – तीन निति वचन | Lokkatha- Teen Niti Vachan

    किसी जमाने में इन्द्रपुरी नगरी में एक बहादुर राजा राज करता था | दूर दूर तक उसका नाम फ़ैला था | वह बहुत समझदार था , प्रजा का पालन बड़े ध्यान से करता था जैसे पिता अपने सन्तान की देखभाल करता है | उसके राज्य में सभी सुखी थे | सारी जनता उसे प्यार करती […] More

  • in

    लोककथा – लखटकिया | Lokkatha – Lakhtakiya

    एक था कुम्हार | बेचारा बहुत ही गरीब था | काम धंधा ठीक से नही चलता था | आख़िरकार एक दिन राजा के पास जाकर उसने कहा “अन्नदाता , मै आपकी सेवा में रहना चाहता हूँ” राजा ने पूछा “क्या तनख्वाह लोगे ?” कुम्हार बोला “एक लाख टका महीना | आप जो भी काम कहेंगे […] More