More stories

  • in

    मनोरम पर्वतीय स्थल ऊटी के पर्यटन स्थल | Ooty Tour Guide in Hindi

    समुद्र तल से 7500 फीट की उंचाई पर स्थित ऊटी (Ooty) भारत का एक सुंदर पर्वतीय स्थल है | पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र ऊटी (Ooty) तमिलनाडू में नीलगिरी की पहाडियों में स्थित है | पर्वतीय प्राकृतिक सुन्दरता के कारण इसे पहाड़ो की रानी कहा जाता है | ऊटी के निकट ही दो ओर छोटे […] More

  • in

    बर्फीली सुन्दरता की रानी मनाली के प्रमुख पर्यटन स्थल | Manali Tour Guide in Hindi

    हिमाचल प्रदेश में कुल्लू घाटी के पूर्वी छोर पर 2050 मीटर की ऊँचाई पर स्तिथ मनाली (Manali)को “बर्फीली सुन्दरता की रानी” कहा जाए तो अनुचित न होगा | चीड़ और देवदार वृक्षों से घिरी मनाली सर्पीले रास्ते , आसमान छूती बर्फ से ढंकी पर्वतों की चोटियों और पहाड़ो के बीच से निकलते झरने सैलानियों का […] More

  • in

    पांडिचेरी के प्रमुख पर्यटन स्थल | Pondicherry Tour Guide in Hindi

    समुद्र की गिरती-उठती तरंगे , मनोरम सागर तट , मनोहर प्राकृतिक सुन्दरता के साथ ही साथ भारत और फ़्रांसिसी संस्कृति की झलक प्रस्तुत करने वाली वाली प्राचीन और आधुनिक शैली की एतेहासिक इमारते देश विदेश के पर्यटकों को पांडिचेरी आने का निमन्त्रण देती है | चेन्नई से 162 किमी दूर दक्षिण पूर्व कोरोमंडल तट पर […] More

  • in

    Kailash Satyarthi Biography in Hindi | कैलाश सत्यार्थी की जीवनी

    कैलाश सत्यार्थी (Kailash Satyarthi) का जन्म 11 जनवरी 1954 को मध्यप्रदेश के विदिशा में हुआ था | उनका पुश्तैनी घर विदिशा के काजीगली नन्दर किला में है | कैलाश सत्यार्थी बचपन से ही दुसरो के प्रति बेहद सहयोगी रहे है | जब वे केवल 11 साल के थे तब उन्होंने महसूस किया कि बहुत से […] More

  • in

    भारत की पहली बोलती फिल्म आलम आरा का रोचक इतिहास | Alam Ara History in Hindi

    बोलती फिल्मो के प्रचलित होने से पहले कई दशको तक मूक फिल्मो का दौर रहा था | मूक फिल्मो के लिए अग्रेजी शब्द Movie का प्रयोग होता था जबकि बोलती फिल्मो को Talkie कहा जाने लगा | वह 14 मार्च 1931 का दिन था जब बम्बई के Majestic Cinema में भारत की पहली सवाक फिल्म […] More

  • in

    Pollution का Solution है बायो डिग्रेडबल प्लास्टिक | Biodegradable Plastic Facts in Hindi

    प्लास्टिक आज हमारा रोजाना की जिन्दगी में इस तरह शामिल हो चूका है कि इसके बिना हमारा काम नही चल सकता है | सब्जियाँ उठाने से लेकर हाई टेक गैजेट्स में इसका इस्तेमाल किया जाता है | सोचीय अगर आपको एक दिन बिना प्लास्टिक के गुजारना पड़े तो ? हर काम को करने से पहले […] More