Agatha Christie Biography in Hindi | मशहूर क्राइम फिक्शन लेखिका अगाथा क्रिस्टी की जीवनी

Agatha Christie Biography in Hindi

Agatha Christie Biography in Hindiलेखिका अगाथा क्रिस्टी (Agatha Christie) का जन्म 15 सितम्बर 1890 को इंग्लैंड में हुआ | अगाथा मैरी क्लारिशा मिलर तीन भाई बहनों में सबसे छोटी थी | दस वर्ष की अल्पायु में उन्होंने माँ को खो दिया था | उन्हें कोई औपचारिक शिक्षा नही मिली थी | माँ एवं गर्वनेस ने घर पर ही शिक्षा दी | 1906 में उन्होंने पेरिस के फिनिशिंग स्कूल में दाखिला लिया | माँ ने उन्हें संगीत के साथ लेखन के लिए प्रोत्साहित किया |

loading...

24 वर्ष की आयु में उनका विवाह आर्ची से हुआ | अगाथा (Agatha Christie) ने प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान घायलों की सेवा की | वे उनके बीच काफी समय बिताती | वही से उन्हें विभिन्न प्रकार के रोगों तथा विषयों की जानकारी मिली | वे अपने लेखन में इस जानकारी का भी प्रयोग करने लगी | उनका पहला उपन्यास Mysterious Affairs at Styles को काफी लोकप्रियता मिली और वह हाथो हाथ बिका |

1982 में पति से तलाक होने के बाद उन्होंने फ्रांस ,बगदाद , ईराक और मेसोपोटामिया आदि स्थानों की यात्रा की | दुसरी यात्रा में वे अपने भावी पति सर मैक्सस एडगर से मिली जो कि पुरातत्वविद थे | 11 सितम्बर 1930 को स्कॉटलैंड ने उनका विवाह हो गया | मैक्स को ब्रिटिश साम्राज्य में कमांडर का सम्मान मिला एवं पुरातत्विक कार्यो के लिए Knight की उपाधि भी दी गयी |

क्रिस्टी (Agatha Christie) को अपने जीवनकाल में अनेक पुरुस्कार एवं सम्मान प्राप्त हुए , जिनमे Mystery Writers of America Grand Master Awards (1965) , एम्सटीर विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि (1961), ब्रिटिश डिप्रेशन क्लब की अध्यक्षता (1967), आर्डर ऑफ़ द ब्रिटिश एम्पायर (1971) आदि उल्लेखनीय है | उनका करियर पचास से भी अधिक वर्षो का रहा | अनेक भाषाओं में कृतिया अनुदित हुयी ,जो कि आज भी बेहद भाव से पढ़ी जाती है | उनके लेखन से कई अन्य लेखक भी प्रभावित हुए |

अगाथा (Agatha Christie) एक रहस्य अपराध लेखिका होने के साथ साथ BBC रेडियो के लिए कहानिया भी पढती थी | उन्होंने उपन्यासों के अतिरिक्त कविता ,रोमासं एवं नाटक भी लिखे | The ABC Murders, Ten Little Audience , The Mousetrap , Hikri Dikri Dauk , Witness for Prosecution , Murder on the Orient Express आदि प्रमुख कृतिया है | 1974 में आखिरी बार सार्वजनिक रूप से सामने आयी | 12 जनवरी 1976 को अगाथा क्रिस्टी (Agatha Christie) का देहांत हो गया |

आज अगाथा क्रिस्टी (Agatha Christie) की 41वी पूण्यतिथि पर उनकी हैरतअंगेज कहानिया किरदारों और लिखने के अंदाज पर निगाह डालते है |

  • कत्ल भी सफाई से – उनके लिखे कत्ल आसानी से और सफाई के साथ किये होते थे | ना कत्ल की सुपारी दी जाती थी और ना ही सामूहिक हत्याए , मार-काट , जलाना या खून से लथपथ लाशो को इधर से उधर ले जाना | इनमे से कुछ भी अगाथा के उपन्यासो में नही मिलेगा |
  • खबरदार और खामोश – उनकी कहानिओं में आमतौर पर वो पीड़ित होते थे जो कुछ ऐसा देख ले जिन्हें वो नही देखना होता था | ऐसा करने के बाद वो देखी हुयी घटना का जिक्र कर बैठते थे या फिर ब्लैकमेल करना शुरू कर देते थे | नतीजा मौत
  • कत्ल की चुनिन्दा जगह – अगाथा की कहानियों में हत्या के लिए ऐसी जगह का चयन किया जाता , जिसका पीड़ित या हत्यारे से कोई लेना देना ना हो | ऐसी जगह जहा यु ही नही जाया जाता मसलन कोई पिकनिक या पार्टी |
  • जहर बना जरिया – असल जिन्दगी में अगाथा नर्स रह चुकी थी | ऐसे में उन्हें अलग अलग जहर के बारे में जानकारी थी | जहर देकर मारना उनका पसंदीदा तरीका रहा | आने जाने के साधनों से अंदाजा लगाया जा सकता था कि मारने वाला पुरुष या महिला | नाव या हवाई जहाज होने पर इशारा पुरुष हत्यारे की तरफ था और कार या ट्रक होने पर महिला हत्यारे की तरफ |
  • राज बना रहे – अगाथा की कहानियों में सारा काम हत्यारे खुद करते थे | वो किसी की मदद नही लेते थे क्योंकि राज छिपाने के लिए जरुरी है कि उसे किसी दुसरे के साथ बांटा न जाए | हत्या को अंजाम देने में जितने ज्यादा लोग शामिल उतनी ही हत्याए
  • बोरियत भरी शुरुवात – आमतौर पर उनकी कहानियों में हत्या के मामले में शुरूवात में बोरिंग लगते थे | हत्यारे मौका-ए-वारदात पर सबूत छोड़ जाते थे | जिससे लगे कि लुट की नाकाम कोशिश की गयी है हालंकि वो ऐसा पुलिस की जांच भटकाने के लिए करते थे |
  • अपनों का कत्ल – ज्यादातर मामलो में शिकार आर शिकारी ,दोनों एक ही परिवार से होते थे | कातिल या तो पीड़ित का पति या रिश्तेदार होता या फिर बदला लेने ,कोई राज छिपाने के लिए हत्या की वारदात को अंजाम देता था |
loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *