Home करियर तनाव को नियंत्रित कैसे करे ? Stress Control Tips in Hindi

तनाव को नियंत्रित कैसे करे ? Stress Control Tips in Hindi

45
2
तनाव को नियंत्रित कैसे करे ? Stress Control Tips in Hindi
तनाव को नियंत्रित कैसे करे ? Stress Control Tips in Hindi

नई नई नौकरी लगी , ढेर सारा काम | कई कई बॉस | सुबह से शाम तक लोगो के तनाव के चलते वह दबाव में रहने लगा , न खाने-पीने की फुरसत और न यार-दोस्तों से मिलने का वक्त | उनके पास समय कम है और दबाब ज्यादा है | समय की कमी के तनाव के कारण आज के युवा अनिद्रा , चिडचिडापन और उच्च रक्तचाप जैसी समस्याओ आदि के शिकार हो जाते है |

क्या है समस्या

काम के तरीको और दिनचर्या के गहन परीक्षण के बाद आप पायेंगे कि हम स्वयं आसानी से अपनी दिनचर्या और परिस्थिति के शिकार बन जाते है | दरअसल हम जो अपनी दिनचर्या बनाते है अधिकतर ऑफिसियल कार्यो की होती है | हम कभी स्वयं , अपने परिवार और सामाजिक गतिविधियों के लिए दिनचर्या नही बनाते |
हमारे पास अक्सर अपनी योजना को लागू करने की इच्छा शक्ति नही होती और इससे हम तनाव और दोषी महसूस करते है | अधिकतर गतिविधिया जिसमे हम लगे रहते है वे ऐसी होती है जिन्हें आसानी से छोड़ा जा सकता है | हम रोज की भागदौड़ में ऐसे फँस जाते है कि कोई विशेष योजना नही बना पाते |

समाधान की दिशा में कदम

पहला कदम उन महत्वपूर्ण चीजो की पहचान करना है जिन पर समय की कमी के कारण ध्यान नही दिया जाता उदाहरण के लिए डेट लाइन पूरा न होना , परिवार के साथ समय नही बिताना , व्यायाम न करना , पसंदीदा पुस्तके न पढ़ पाना आदि ऐसी चीजे है जो आपके लिए काफी महत्वपूर्ण है लेकिन इन सबको टाल दिया जाता है |

स्वयं से सवाल करना सीखे

क्या मुझे वह सब करना चाहिए , ताकि अपने पसंदीदा कार्यो के लिए मैं समय निकाल पाऊ ? क्या मै परिस्थितियो का शिकार बनने या स्थिति का आरोपी बनने से बचने का रास्ता वाकई निकालना चाहता हु ?

सबसे जरुरी है इच्छा शक्ति

सबसे पहले हमे अपनी वर्तमान मानसिक स्थिति “या तो यह या वह” को बदलना पड़ेगा , जो अक्सर एक काम को छोडकर दुसरे को करने पर विवश करती है | इस प्रकार की मानसिक स्थिति ही हमे परिस्थितियो का शिकार बनाती है | उदाहरण स्वरूप नौकरी को बरकरार रखना यदि ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाए तो व्यक्ति अन्य चीजो पर ध्यान देने के लिए मजबूर हो जाता है जबकि तात्कालिक दिखने वाला नुकसान परिवार , स्वास्थ्य आदि की तुलना में कम नुकसानदायक होता है इसलिए वह नुकसान उठाया जा सकता है |

बकाया कार्यो की सूची बनाये

सभी बकाया कामो और वायदों की एक सूची बनाये | बकाया कार्यो के कारण तनाव , असंतुष्टि और एक तरह का दबाब महसूस होता है | इससे राहत पाने का पहला उपाय है कि जितने भी बकाया काम है उनकी एक विस्तृत सूची तैयार करे जैसे किसी के पैसे वापस करना हो , बैंक का काम निपटाना हो या फिर आपने किसी से कोई वायदा किया हो उसे पूरा करना हो | ऐसे कार्यो की सूची तैयार कर आप चिंता मुक्त महसूस करेंगे |

प्राथमिकता तय करे

सूची तैयार करने के बाद उनकी प्राथमिकता तय कीजिये | जैसे आप उस कार्य को करना चाहते भी है या नही | यदि आप किसी कार्य को करना चाहते है तो उसको पूरा करने की तारीख तय करे | इस पुरी प्रक्रिया को आप अपनी रोज की आदतों में शुमार कर ले | इस छोटी प्रक्रिया से आप तनावमुक्त महसूस करेंगे और अपना दिमाग रचनात्मक कार्यो में लगा सकेंगे |

हमेशा याद रखे कि समाधान और परिणाम के लिए सम्भावनाये बनी रहती है इस तरह आप नई मन:स्थिति में पहुच सकते है और खुद को परिस्थितियों का शिकार बनने से बचा सकते है |

Loading...

2 COMMENTS

  1. Aajke samay me stress aek common samsya he or jyadatar log isse pidit he, jaisa aapne bataya hume humari life kaa sahi se planning karna chahiye, apna pura samay kewal humare kaam ko n dekar dusri chijo ko bhi dena chahiye, life ko enjoy karana chahiye, family-friends ke sath samay bitana chahiye, humari koi hobby ho use puri karni chahiye etc.
    Aapne jo yaha behtrin tips di he uska palan kar hum stress ko humse kosho dur rakh sakate he or apni life hunsi-khushi se jee sakate he.

  2. Sir Mere Life me Kaafi tanav rahta hai mere ghar me hamesha jhagade hote rahate hai aur mai kaafi depression me chala gaya hu plz help me…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here