Home यात्रा Solan Tour Guide in Hindi | सोलन के प्रमुख पर्यटन स्थल

Solan Tour Guide in Hindi | सोलन के प्रमुख पर्यटन स्थल

199
0
SHARE
Solan Tour Guide in Hindi | सोलन के प्रमुख पर्यटन स्थल
Solan Tour Guide in Hindi | सोलन के प्रमुख पर्यटन स्थल

कालका शिमला राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित Solan लुभावना शहर एक एतेहासिक जगह है | अंग्रेजो ने सर्वप्रथम 1858 में यहाँ बीयर बनाने का कारखाना लगाया | यहाँ बेमौसमी सब्जियाँ और मशरूम काफी उगाये जाते है इसलिए इस शहर को भारत का खुम्भ शहर कहा जाता है | एशिया का पहला बागवानी एवं वानिकी विश्वविद्यालय भी इसी शहर में है |

सोलन के मुख्य दर्शनीय स्थल

बड़ोग – कालका शिमला रेलमार्ग पर स्तिथ यह शहर दो हिस्सों में विभाजित है | यह पर्यटन स्थल अपनी सुगंध भरी वायु के लिए प्रसिद्ध है | बड़ोग इस मार्ग की सबसे लम्बी सुरंग (3752 फीट) के लिए प्रसिद्ध है | पिकनिक मनाने के लिए उत्तम यह पयर्टन स्थल सोलन से 8 किमी दूर है |

करोल गुफा– शहर से 5 किमी दूरी पर स्थित यह गुफा 7000 फुट की उंचाई पर स्थित है | इसे हिमालय की सबसे पुरानी गुफा माना जाता है | आप यहाँ शिला , चैल एवं कसौली पर्यटन स्थलों के दृश्यों का आनन्द उठा सकते है |

पार्क एवं चिड़ियाघर – यह शहर अपने 3 पार्को एवं एक लघु चिड़ियाघर के लिए प्रसिद्ध है | मोहन पार्क अपनी मछली तालाब भित्तिचित्रों तथा मूर्तियों के लिए प्रसिद्ध है जबकि चिल्ड्रन पार्क बच्चो के आकर्षण का केंद्र है | जवाहर पार्क में हरे भरे लान , फूलो की आकर्षक क्यारियाँ तथा फव्वारे दर्शनीय है | जवाहर पार्क के एक हिस्से में लघु चिड़ियाघर है जहां जंगली बिल्ली जैसे दुर्लभ जानवर रखे गये है | एक ओर मृगशाळा है जहां का प्रमुख आकर्षण भौकने वाले हिरन है | इन पार्को एवं चिड़ियाघर में प्रवेश निशुल्क है |

कसौली – आकाश को छुते देवदार रंग -बिरंगे पुष्पों से आच्छादित जंगलो और मनोहारी दृश्य से परिपूर्ण स्थलों में कसौली का नाम प्रमुख रूप से आता है | अंग्रेजी शासनकाल के दौरान निर्मित एतेहासिक महत्व के भवन एवं केन्द्रीय अनुसन्धान संस्थान यहाँ का मुख्य आकर्षण है | यह पर्यटन स्थल सोलन से 25 किमी की दूरी पर है | कसौली से 4 किमी दूर सनावर नामक पर्यटन स्थल है जो अपने 150 वर्ष पुराने लोरेन्स स्कूल एवं चर्च के लिए प्रसिद्ध है | द्वीतीय विश्वयुद्ध के शहीद हुए शहर के कुछ निवासियों की स्मृति में यहाँ एक स्मारक का निर्माण भी किया गया है |

चैल – तत्कालीन पटियाला रियासत के शासको की सैरगाह रही यह नगरी अब एक महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल है | देवदार के घने वन तथा उन में लुका छिपी करती दुधिया धुंध एवं विश्व का सबसे ऊँचा क्रिकेट मैदान यहाँ का प्रमुख आकर्षण है |

डगशाई – सोलन से 15 किमी दूर इस स्थल का एतेहासिक महत्व है |डगशाई की एतेहासिक जेल और यहाँ बना चर्च भारतीय स्वतंत्रता संग्राम तथा अंग्रेजी शासन की स्मृति चिन्ह के रूप में भी पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है |

अर्की – सोलन से लगभग 50 किमी दूर यह पर्यटन स्थल दुर्लभ भित्तिचित्रो के लिए प्रसिद्ध है | इस महल का निर्माण तत्कालीन बाघल रियासत के शासको ने 1640 ईस्वी के दौरान किया था | महल का दीवान खाना विशेष रूप से दर्शनीय है |

पहुचने के विविध मार्ग

रेलमार्ग – सोलन कालका जंक्शन से जुड़ा है इसलिए कालका देश के किसी भी हिस्से से रेल द्वारा जाया जा सकता है |

सडक मार्ग – यह दिल्ली से शिमला जाने वाले सडक मार्ग पर स्तिथ होने के कारण दिल्ली , चंडीगढ़ , अमृतसर , पठानकोट आदि निकटवर्ती शहरों से उत्तम बस सेवाए उपलब्ध है |

पर्यटन का उचित समय

सोलन पहाड़ के निचले हिस्से में स्तिथ होने के कारण यहाँ शिमला , धर्मशाला ,कुल्लू की अपेक्षा सर्दी काफी कम रहती है इसलिए यहाँ बरसात को छोडकर कभी भी जाया जा सकता है लेकिन मैदानी भागो की अपेक्षा यहाँ जनवरी-फरवरी में अधिक ठंड पडती है बाकी के मौसम सुहावने होती है |

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here