Shirdi Sai Baba History in Hindi | शिरडी साईं बाबा की जीवनी और चमत्कार

Shirdi Sai Baba History in Hindi | शिरडी साईं बाबा की जीवनी और चमत्कार
Shirdi Sai Baba History in Hindi | शिरडी साईं बाबा की जीवनी और चमत्कार

साईं बाबा जिन्हें शिरडी के साईं बाबा (Shirdi Sai Baba ) भी कहते है एक भारतीय आध्यात्मिक गुरु थे जिनको उनके भक्त फ़कीर या सतगुरु कहकर बुलाते थे | उनके भक्त हिन्दू और मुस्लिम दोनों समुदायों के थे जबकि वो स्वय हिन्दू थे आय मुस्लिम ये अभी भी रहस्य है | उन्होंने सच्चे सतगुरु या मुर्शिद की राह दिखाई और आध्यात्मिकता का पाठ पढ़ाया | साईं बाबा (Shirdi Sai Baba ) के चमत्कारों की वजह से दूर दूर से लोग मिलने आते थे और धीरे धीरे वो एक प्रसिद्ध संत के रूप में जाने जाने लगे | साईं बाबा को आज पुरे विश्व में पूजा जाता है और प्रतिदिन अनेको लोग शिरडी के साईं बाबा मन्दिर में उनके दर्शन करने आते है |

शिरडी साईं बाबा का प्रारम्भिक जीवन Early years of Shirdi Sai Baba in hindi

Sai Baba Real Photo as Fakir
Rare Photo of Sai Baba

साई बाबा (Sai Baba )का जन्म 28 सितम्बर 1835 को महाराष्ट्र के पथरी गाँव में हुआ था |  साईं बाबा के माता पिता और बचपन की इतिहास में कोई जानकारी नही है | उनके बारे में पहली जानकारी साईं सत्चरित्र किताब में शिरडी गाँव से प्राप्त होती है | Shirdi Sai Baba साईं बाबा 16 वर्ष की उम्र में अहमदनगर जिले के शिरडी गाँव में पहुचे |  यहा पर उन्होंने एक नीम के पेड़ के नीचे आसन में बैठकर तपस्वी जीवन बिताना शुरू कर दिया | जब गाँव वालो ने उन्हें देखा तो वो चौंक गये क्योंकि इतने युवा व्यक्ति को इतनी कठोर तपस्या करते हुए उन्होंने पहले कभी नही देखा | वो ध्यान में इतने लींन थे कि उनको सर्दी , गर्मी और बरसात का कोई एहसास नही हो रहा था |

दिन में उनके पास कोई नही होता और रात को वो किसी से नही डरते थे |उनकी इस कठोर तपस्या ने गाँववालो का ध्यान उनकी ओर खीचा और कई धार्मिक लोग नियमित उनको देखने आते थे | कुछ लोग उनको पागल कहकर उन पर पत्थर फेंकते थे | साईं बाबा एक दिन अचानक गाँव से चले गये और किसी को पता नही चला | वो तीन वर्ष तक शिरडी में रहे और उसके बाद शिरडी से गायब हो गये | उसके बाद एक साल बाद वो फिर शिरडी लौटे और हमेशा के लिए वहा बस गये |

साई बाबा का शिरडी दुबारा लौटना Shirdi Sai Baba Return to Shirdi

Shirdi Sai Baba Real Pictures and Photos at Shirdi
Shirdi Sai Baba Real Pictures and Photos at Shirdi

1858 में साईं बाबा Shirdi Sai Baba फिर शिरडी लौटे |  इस बार उन्होंने वेशभूषा का अलग तरीका अपनाया जिसमे उन्होंने घुटनों तक एक कफनी बागा और एक कपड़े की टोपी पहन रखी थी | उनके एक भक्त रामगिर बुआ ने बताया कि जब वो शिरडी आये तब उन्होंने खिलाड़ी की तरह कपड़े और कमर तक लम्बे बाल थे जिन्होंने उसे कभी नही कटवाए | उनके कपड़ो को देखकर वो सूफी संत लग रहे थे जिसे देखकर गाँव वालो ने उन्हें मुस्लिम फकीर समझा |  इसी कारण एक हिन्दू गाँव होने के कारण उनका उचित सत्कार नही किया गया था |

लगभग 5 वर्षो तक वो नीम के पेड़ के नीचे रहे और अक्सर लम्बे समय तक शिरडी के पास के जंगलो में घूमते रहते थे | वो किसी से ज्यादा बोलते नही थे क्योंकि उन्होंने लम्बे समय तक तपस्या की थी |अंततः उन्होंने एक जर्जर मस्जिद को अपना घर बनाया और एकाकी जीवन बिताने लगे | वहा पर बैठने से आने जाने वाले लोग उनको भिक्षा दे देते थे जिससे उनका जीवन चल जाता था |उस मस्जिद में उन्होंने एक धुनी जलाई जिससे निकली राख को उनसे मिलने वालो को देते थे | ऐसा माना जाता है कि उस राख में चिकत्सीय शक्ति थी |

वो अब गाँव वालो के लिए एक हकीम बन गये थे जो राख से उनकी बीमारी दूर करते  थे | Shirdi Sai Baba साईं बाबा उनसे मिलने वालो को आध्यात्मिक शिक्षा भी देते थे और उन्हें पवित्र हिन्दू ग्रंथो के साथ कुरान भी पढने को कहते थे |वो ईश्वर के अटूट स्मरण के लिए अपरिहार्यता के लिए प्रेरित करते और अक्सर गुप्त तरीको दृष्टान्तों, प्रतीक और रूपक से खुद को व्यक्त करते थे | 1910 ईस्वी के बाद साईं बाबा की प्रसिधी मुंबई तक फ़ैल गयी | अनेक लोग उनसे मिलने आने लगे क्योंकि उनके चमत्कारी तरीको की कारण उन्हें संत मानते थे |

Shirdi Sai Baba साईं बाबा ने “सबका मालिक एक ” का नारा दिया था जिससे हिन्दू मुस्लिम सदभाव बना रहे | उन्होंने अपने जीवन में हिन्दू और मुस्लिम दोनों धर्मो का अनुसरण किया | वो अक्सर कहा करते थे “मुझ पर विशवास करो , तुम्हारी प्रार्थना का उत्तर दिया जाएगा ” | वो हमेशा अपनी जबान पर “अल्लाह मालिक ” बोलते रहते थे |

Shirdi Sai Baba साईं बाबा ने अपने पीछे ना कोई आध्यात्मिक वारिस और ना कोई अनुयायी छोड़ा  | इसके अलावा उन्होंने कई लोगो के अनुरोध के बावजूद किसी को दीक्षा दी | उनके कुछ अनुयायी अपने आध्यात्मिक पहचान की वजह से प्रसिद्ध हुए जिनमे सकोरी के उपासनी महाराज का नाम आता है | साईं बाबा की मृत्यु 15 अक्टूबर 1918 को शिरडी गाँव में ही हुयी | मृत्य के समय उनकी उम्र 83 वर्ष थी |Shirdi Sai Baba साईं बाबा की मृत्यु के बाद उनके भक्त उपासनी महाराज को प्रतिदिन आरती सौपते थे जब भी वो शिरडी आते थे |

साईं बाबा के भक्त और मन्दिर Worship and devotees of Sai Baba

Sai Baba Temple
Sai Baba Temple

Shirdi Sai Baba शिरडी साईं बाबा आंदोलन 19वी सदी में शुरू हुआ जब वो शिरडी रहते थे |एक स्थानीय खंडोबा पुँजारी म्हाल्सप्ति उनका पहला भक्त था | 19 वी सदी तक साईं बाबा के अनुयायी केवल शिरडी और आस पास के गाँवों तक ही सिमित थे | Shirdi Sai Baba साईं बाबा का पहला मन्दिर भिवपुरी में स्तिथ है |शिरडी साईं बाबा के मंदिर में प्रतिदिन 20000 श्रुधालू  आते है और त्योहारों के दिनों में ये संख्या एक लाख तक पहुच जाती है | Shirdi Sai Baba शिरडी साईं बाबा को विशेषत : महराष्ट्र , उडीसा . आंध्रप्रदेश , कर्नाटक , तमिलनाडु और गुजरात में पूजा जाता है |2012 में एक अज्ञात श्रुधालू ने पहली बार 11.8 करोड़ के दो कीमती शिरडी मन्दिर में चढाये जिसको बाद में साईं बाबा ट्रस्ट के लोगो ने सबको बताया | शिरडी साईं बाबा के भक्त पुरे विश्व में फैले हुए है |

Shirdi Sai Baba Miracles in hindi

पानी से दिया जलाना Lighting lamps with water

Shirdi Sai Baba साईं बाबा को उनकी मस्जिद और दुसरे मन्दिरों में दिया जलाने का बहुत शौक था लेकिन तेल के लिए उनको वहा के बनियों पर आश्रित रहना पड़ता था | वो प्रत्येक शाम को दिया जलाते और बनियों से दान ले जाते | बनिये साईं बाबा को मुफ्त का तेल देकर थक गये थे और एक दिन उन्होंने साईं बाबा से माफी मांगते हुए तेल देने से मना कर दिया और कहा कि उनके पास तेल नही बचा | बिना किसी विरोध के साईं बाबा वापस अपने मस्जिद में लौट गये | अब उन मिटटी के दियो में उन्होंने पानी भरा और बाती जला दी | वो दिया मध्यरात्री तक जलता रहा |जब इसकी सुचना बनियों तक पहुची तो साईं बाबा के पास विपुल क्षमायाचना के लिए आये | साईं बाबा ने उन्हें क्षमा करदिया और कहा कि दुबारा झूठ मत बोलना | इस तरह साईं बाबा ने अपना चमत्कार दिखाते हुए पानी से दिया जला दिया |

बारिश रोकना Stopping the rain

एक बार राय बहादुर नाम का व्यक्ति अपनी पत्नी के साथ साईं बाबा के दर्शन के लिए शिरडी आया |  जैसे ही वो पति पत्नी बाबा के दर्शन करवापस जाने लगे ,मूसलाधार बारिश शुरु हो गयी | जोरो से बिजलिया कडकने लगी और तूफ़ान चलने लगा | साईं बाबा ने प्रार्थना की “हे अल्लाह , बारिश को रोक दो , मेरे बच्चे घर जा रहे है  उन्हें शांति से घर जाने दो ” | उसके बाद बारिश बंद हो गयी और वो पति-पत्नी सकुशल घर पहुच गये |

डूबती बच्ची को बचाना Saving a child from drowning

एक बार बाबु नामक व्यक्ति की तीन साल की बच्ची कुंवे में गिर गयी और डूबने लगी | जब गाँव वाले कुए के पास दौड़े उन्होंने देखा बच्ची हवा में लटक रही थी जैसे किसी अदृश्य हाथ ने उसे पकड़ रखा हो और उसे उपर तक खीच लिए |साईं बाबा को वो बच्ची बहुत प्यारी थी जो अक्सर कहा करती  थी “मै बाबा की बहन हु ” | इस घटना के बाद गाँव वालो ने कहा “ये सब बाबा की लीला है “| इसके अलावा इस चमत्कार को ओर कोई स्पष्टीकरण नही हुआ था |

Loading...

21 Comments

Leave a Reply
  1. Mei janta hooo sai baba ko unhone mujhe alg Roop Mei darshan bhi diye the shirdi Mei platform pr….mei ist time gya tha maine baba se bola ki baba mujhe kuch nhi pta kaise krunga baba n pta nhi kaise 2 person aa gye unhone pura shirdi mujhe ghumaya uske baad baba ki aarti bhi dikhai uske baad hm sath the bt vo pta nhi Kha chale gye mujhe lga vo chale gye honge then Mei sochne lga baba yha aaya hooo apke darshan aur ho jate baba nhi aaye then hm platform pr chale gye apna ticket confirm krne Usi wqt ek baba aaye aur unhone mujhse 2rs. Mange maine bola baba abi mere pass change nhi h maine bola ap 10rs. Le Lijiye unhone MNA kr diya maine bola 50rs. Le Lijiye unhone again MNA kr diya maine socha ki Mei bhr se change krke le aata hooo uske baad u don’t believe vo gayab ho gye story Bhut bdi thi bt maine short Mei samjha di so pls…koi bhi baba ko ignore mt krna baba h sachhi Mei aj bhi pls….sb god pr trust kro god h sbke sath h sh.. Sachdanand satguru sai nath maharaaj ki jai

    • Jai Sai Ram…: Dear maine aapki Aap beeti Sai Chamatkaar ke baare mein pada main ye bilkul satya maanta hun…Maalik bilkul hai….!! Ab aap bhi mere saath hue Sai ji ke chamatkaar ke baare main pura padiye……….: Hi Friends I am Lalit Chauhan from Amritsar (Punjab): Miracle of Sai Baba ji: I am shareing to all : Ek Baar main Taryambkeshwar gaya thaa.. (Naasik mein padta hai wahan Shiv bhole kaa dasvaan Jyotirrling veeraajmaan hai) Mere Delhi ka ek dost bhi kuch der baad Taryambkeshwar pahunch gaya. Humne kisi poojan vidhi se related kaam karvaana thaa, uss kaam ke baad jab humne Shirdi Sai Baba ji ke darshan ke liye prasthaan karna thaa. Hum dono Taryambkeshwar ke bus stand par bus ki wait kar rahe thay, humein by Bus Shirdi jana thaa, bus 1 yaa 1 & half hour late thi…isliye humne by taxi jaane ka vichar banaaya…humaare charges kamm lagein isliye humne Shirdi jaane wale 3 ladkon ke saath mil kar taxi kar li..kamm paise mein kaam nipat gaya…main aage wali seat par baitha thaa maine apne Micromax Company ke mobile ka new Robotek Company ka Charger khareeda thaa double lead wala Amritsar se, Jab maine woh Charger peechhe baithe uss Delhi wale ladke ko diya aur bola ke mere Bag ki zip mein daal doh aur zip bandh kar doh..usne waisa he kar diyaa…jab hum sabhi Shirdi pahuch gaye toh theek Sai Sansthaan ki aur se jo 500 or 1000 rooms ki vyavasthaa wali jagah ke saamne taxi ruki kyuki humne apni accomodation wahaan karni thi…Delhi wale woh 3 dost chalay gaye…humne paise pay karke andar enter kiyaa toh confirm karne par pata chala ke all rooms are occupied..toh humne socha ke kahin aur theharne kaa intzaam karte hain…humaare paas ek bade political leader ki reference letter thi toh uss bases pe humein as a VIP ke taur par room milna thaa aur Samaadhi Mandir mein as a VIP darshan hone thay…isliye humein lodge ke liye ab kahin aur rukna thaa…!! Main Security Guard wale ke saath baat kar raha thaa..toh achaanak peechhe se aavaaz ayi ke ” Maine ye kisi kaa gumm gaya charger jamaa karvaana hai kuch iss tathaan ke shabdon mein aavaaz sun thi… toh maine apne charger ke baare mein dhyaan rakhte hue peechhe dekha toh koi aisa shaksh (vyakti) nazar nahi aaye jiske mukh se aise shabd niklein hon…fir maine jhhat se apna Bag check kiyaa toh usmein mera charger nahi thaa…woh insaan kaun thaa jisne ye shabd bole thay..? Woh koi aur nahi Sai Baba ji thay…main aapko proove karke bataata hun…aage aage read karte jana…maine security guard wale ko kaha ke aapne suna hoga uss vyakti ki baat ko…charger jamaa karvaane ke baare mein…toh security guard wale ne kaha mujhe nahi pata maine nahi sunaa..security guard wale ke kehne pe main wahan chala gaya jahan misplaced (Gumm gayi articles) jamaa karvaate hain…unke register mein khoe hue charger ke baare kuch bhi note nahi thaa…main bada heraan huaa ke aisa Kaise ho sakta hai? Fir maine apni satisfaction ke liye wahan ke 2-3 droyers khulva ke nazar maari toh wahan charger nahi thaa..toh fir socha baat nahi bani…fir jab main Security guard wale ke paas jo Reception area ke paas he duty deta thaa usko bola nahi mila…maine koshish kari ke shaayad usay kuch pata ho..but usne kuch nahi bataayaa….ab yahan ye Baba ji ki Shakti aur chamatkaar ke baar mein aap sabhi bhakton ko clear ho jaayegaaa….maine wahan theek apne saamne Sai Baba ji ki ek Badi photo deewar par lagi hui dekhi…aur mann he mann Sai Baba ji ko prarthna aur request ki ke Sai Baba ji mere paas ek he Charger thaa abhi nayaa liyaa thaa mil nahi paa raha hai mujhe peechhe se awaaz bhi aayi thi aapne he mere kaano mein woh shabd daale thay taanki main apna bag check kar lu…… kuch karo Baba ji mujhe mera charger mil jaaye…(jab main Sai Baba ji se Prarthna kar raha thaa; Iss beech mujhe nahi pata ke Security Guard wala meri taraf dekh raha thaa ke nahi?) Sai Baba ji se Praarthna karte he Chamatkaar dekho…maine Security Guard wale ki taraf dekhaa….unhone mujhe ek haath mere saamne ki aur karte hue rukne ka sanket kiyaa aur bola main dekhta hun…aur woh pata nahi kahaan se charger le aayaaa…charger milne se main bada heraan thaa aur mann he mann bahut khush bhi…Ki kaise iss Chamatkaar ne mera Sai Baba ji ki prati uss Vishwaas ko bahut zyada pakka kiyaa…!! Veeshesh dhyaan dene wali baat…..kisi vyakti ke roop mein Sai Baba ji ne he woh charger Security guard wale ko aage jamaa karvaane ke liye diyaa thaa aur antar dhyaan ho gaye….Security guard wale ne woh kisi aur jagah par rakh diyaa thaa taanki woh apne liye usay use kar le, lekin Sai Baba ji ke woh shabd charger jamaa karvaane ke baare mein jo Baba ji ne kahe thay Security Guard wale ko….woh shabd mere kaan mein pad gaye tabhi toh main apna bag check kar paaya agar maine nahi suna hota toh mujhe charger naa miltaa….prarthna karne se pehle security guard wale ne mujhe charger nahi diyaa…Sai Baba ji ko prarthna karne ke baad he Sai Baba ji ke chamatkaar aur shakti se he Security Guard wala uss samay mujhe Chager waapis kar paaya….(Sai Baba ji ki shakti aur chamatkaar se woh charger ko chhupaa nahi paaya usne wahi kiyaa jo sahi thaa Charger waapis lota kar)…..Jai Sai Ram to all Sai devotees….aap sabhi bhakt apne apne comments zaroor daalna aur iss message ko jitna ho sake forward karnaa ji….aap sabhi kaa kalyaan hoga…zyada se zyada logon Sai Baba ji ke iss Chamatkaar ke baare mein ye jaankari pahunchaai jani chaahiye!!

  2. Meri final semester ki exam khatam ho gayi thi magar mujhe hamesha dar lagta tha ke main pass hojaunga ya nahi.ek din jab main meditation kar raha tha to mujhe awaj aai ke “tu pass ho jayega”.main pass bhi hogaya.wo din mere liye sabse behtarin din tha.woh saibaba the jinhone mujhse baat ki thi…mere sai..
    Om sai ram

  3. Sai baba kripa maro reham karo, meri bigdi savaro, mujhe meri manzil tak pauchao, meri koshisho ko jeet ki umid do, mujhe maan samaman ki zindagi ada karo mere sai… I love u lot Sai baba…. mere sai

  4. Mujhe god par belive nahi hai aur aap logo ki story padkar kisi movie ki tarah lag rha hai . Agar sai sach me hai to munhe belive hi nahi ho pa rha hai .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *