जयललिता , जिन्होंने फिल्मो के साथ साथ राजनीति में भी दिखाया था साहस | Jayalalitha Biography in Hindi

Loading...

Jayalalitha Biography in Hindi

jayalalitha-biography-in-hindiतमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता Jayalalitha को सोमवार रात अपोलो हॉस्पिटल में निधन हो गया | अम्मा के नाम से लोकप्रिय जयललिता 22 सितम्बर अपोलो हॉस्पिटल में भर्ती थी | रविवार रात दिल का दौरा पड़ने के कारण जिन्दगी और मौत के बीच झूल रही Jayalalitha जयललिता का सोमवार रात को निधन हो गया | तमिलनाडु की सबसे कम उम्र की मुख्यमंत्री का ख़िताब उनके नाम है | Jayalalitha जयललिता को राजीनीति विरासत में नही मिली थी | उन्होंने पहले फिल्मो में जगह बनाई और फिर राजनीती में अपनी मेहनत और मेधा से लोहा मनवाया | विवादों में घिरी लेकिन हर चक्रव्यूह को तोड़ने का उनमे साहस था | विरोधियो की हर चाल को वह नाकाम करती रही | जया लम्बे समय तक लोगो को याद आती रहेगी | आइये उनके जीवन के संघर्ष पर पर हम नजर डालते है |

जयललिता का प्रारम्भिक जीवन

jayalalitha-with-mother-sandhyaJayalalitha जयललिता का जन्म मैसूर (वर्तमान कर्नाटक) के मेलुकोट में एक तमिल अय्यंगर परिवार में 24 फरवरी 1948 को हुआ था | उनके पिता का नाम जयराम और माँ का नाम वेदावली था | जयललिता के जन्म के समय उनकी दादी ने उनको कोमलावल्ली नाम दिया था | ब्राह्मण रीती रीवाज में दो नाम रखने की प्रथा के जिसके आधार पर एक नाम उनकी दादी द्वारा दिया गया और दूसरा व्यक्तिगत नाम था | उनका व्यक्तिगत नाम जयललिता Jayalalitha तब अपनाया गया जब वो 1 वर्ष की थी | तब से लेकर उनके स्कूल और कॉलेज सभी में वही नाम चलता था |

उनका नाम उन दो घरो से मिलकर बना जहा वो मैसूर में रहते थे जिसमे से एक घर का नाम “जया विलास” और दुसरे घर का नाम “ललिता विलास”  था | उनके दादाजी नरसिंहन रेंगाचारी मैसूर साम्राज्य के शाही चिकित्सक थे और महाराजा कृष्ण राज वाडियार चतुर्थ के यहा शाही चिकित्सक थे | उनकी दादाजी रंगास्वामी अय्यंगर श्रीरंगम से मैसूर Hindustan Aeronautics Limited में काम करने के लिए आये थे | उनकी तीन बेटिया अम्बुजावली ,वेदाव्ली और पद्मावली थी | वेदाव्ली का विवाह नरसिंहन रंगाचारी के पुत्र जयराम से हुआ |

जयराम और वेदाव्ली के दो संताने एक पुत्र जयकुमार और एक पुत्री जयललिता हुयी | जयललिता के पिता वकील थे लेकिन उन्होंने काम कभी नही किया और अपना सारा पैतृक पैसा भी गंवा दिय था | जब जयललिता केवल 2 वर्ष की थी तब उनके पिता जयराम की मृत्यु हो गयी | जयललिता की माँ वेदावली 1950 में अपने पिता के घर बेंगलुरु आ गयी | 1950 में अपने परिवार को आर्थिक सहायता देने के लिए वेदाव्ली ने क्लर्क का काम शुरू कर दिया | वेदाव्ली की छोटी बहन अम्बुजावल्ली मद्रास चली गयी थी और 1948 तक एयर होस्टेस का काम किया और साथ ही साथ ड्रामा और फिल्मो में भी काम किया था |

कुछ समय बाद अम्बुजावल्ली के जोर देने पर जयललिता की माँ वेदावल्ली भी मद्रास आकर बस गयी और 1952 तक अपनी बहन के साथ रही | वेदावल्ली ने मद्रास की कुछ commercial firm में काम करने के बाद 1953 से पर्दे पर संध्या नाम से अभिनय भी शुरू किया | ओस दौरान जयललिता मैसूर में 1950 से लेकर 1958 तक अपनी मौसी और नाना-नानी के साथ ननिहाल रही थी | वेदावल्ली ने संध्या नाम अभिनेत्री के रूप में पहले ड्रामा कंपनीज में और फिर तमिल सिनेमा में काम करना शुरू कर दिया था  |

बेंगलुरु रहते हुए Jayalalitha जयललिता ने बिशप कॉटन गर्ल्स स्कूल में अपनी पढाई की | एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि अपने बचपन में किस तरह उन्होंने अपनी माँ की कमी महसूस की थी और केवल गर्मियों की छुट्टियों में उनसे मिलने का मौका मिलता था | 1958 में जयललिता की मौसी पद्मावली के विवाह के बाद जयललिता अपनी माँ के साथ रहने चेन्नई आ गयी थी | वहा उसने अपनी आगामी शिक्षा चेन्नई के चर्च पार्क प्रेजेंटेशन स्कूल में पुरी की थी | उनके स्कूल में उत्कृष्ट प्रदर्शन के कारण आगे की पढाई के लिए सरकारी छात्रवृत्ति भी दी गयी |10वी कक्षा में अपने स्कूल में प्रथम और तमिलनाडु में द्वितीय आने पर उन्हें राज्य की तरफ से स्वर्ण पदक मिला था | जयललिता कई भाषाओं तमिल ,तेलुगु , कन्नड़ ,हिंदी ,मलयालम और अंग्रेजी बोलने में माहिर थी | उनका भाई जयकुमार , पत्नी विजयलक्ष्मी चेन्नई में रहते है 1995 में एक हादसे में उनके भाई जयकुमार की मौत हो गयी थी |

जयललिता का फिल्मी करियर | Filmy Career of Jayalalitha in Hindi

jayalalitha-filmy-careerचेन्नई में रहते हुए जयललिता ने शास्त्रीय संगीत और शास्त्रीय नृत्य में शिक्षा ली थी | उन्होंने भरतनाट्यम् , मोहिनीअट्टम ,मणिपुरी और कत्थक सीखा जिसके कारण उन्हें 1960 में पहली बार रसिका रंजनी सभा में नृत्य प्रदर्शन करने का मौका मिला | उस कार्यक्रम के मुख्य अथिति शिवाजी गणेशन थे जिन्होंने उनकी प्रतिभा को देखते हुए भविष्य में एक फिल्म स्टार बनने की इच्छा जताई |

बचपन में जयललिता Jayalalitha ने एक कन्नड़ फिल्म में काम किया जिस्म राजकुमार और कृष्णा कुमारी मुख्य कलाकार थे | उस समय उनकी माँ उनको स्टूडियो लेकर आयी थी क्योंकि उसी परिसर में उनकी दुसरी फिल्म की शूटिंग होने वाली थी | जब जयललिता शूटिंग देख रही थी तब एक बाल कलाकार के माता पार्वती के किरदार निभाने पर समस्या पैदा हो गयी थी तब फिल्म के निर्देशक ने संध्या को उसमे जयललिता को एक डांस सीक्वेंस में लेने की बात कही | संध्या राजी हो गयी और जयललिता ने माता पार्वती के वस्त्र पहनकर अपने जीवन का पहला शॉट दिया था |

इसके बाद 1962 में एक हिंदी फिल्म मनमौजी में उन्हें कृष्ण भगवान के तीन मिनट का डांस सीक्वेंस करने का मौका मिला था | जल्द ही स्कूल गर्ल होते हुए भी जयललिता ने अपनी माँ और मौसी के साथ नाटको में अभिनय करना शुरू कर दिया | 1960 से 1964 के बीच उन्होने अनेक नाटको में अभिनय किया | उनके अभिनय से पूर्व राष्ट्रति वी.वी.गिरी के पुत्र शंकर गिरी प्रभावित हुए और उन्होंने संध्या से उनकी बेटी को एक अंग्रेजी फिल्म The Epistle में काम करने की बात कही | संध्या राजी हो गयी और इस तरह जयललिता ने पहली अंग्रेज़ी फिल्म में काम किया |

1964 में जब संध्या एक तमिल फिल्म में अभिनय कर रही थी तब उस फिल्म के निर्माताओ ने जयललिता को फिल्म में काम देने की बात कही | जयललिता उस समय कॉलेज में पढ़ रही थी इसलिए संध्या ने शुरू में मना कर दिया लेकिन बाद में जब निर्माताओ ने उनकी पढाई में कोई परेशानी नही होने का वादा किया तो वो राजी हो गये | निर्माताओ ने अपना वादा रखते हुए छ सप्ताह में शूटिंग पुरी की जिसके लिए जयललिता को 3000 रूपये मिले | इस कन्नड़ फिल्म में काम करने के बाद जयललिता फिर से अपने वकील बनने के सपने को लेकर पढाई में जुट गयी |

उधर उनकी डेब्यू फिल्म हिट हो गयी और जयललिता एक जाना पहचाना चेहरा बन गयी | इसके बाद जब वो केवल 15 साल की थी तब उन्होंने एक कन्नड़ फिल्म में लीड अभिनेत्री के तौर पर काम किया | 1964 में उन्होंने तमिल थिएटर में अपना कदम रखा | उनकी तमिल फिल्मे भी काफ़ी सफल रही जिसके कारण 1965 में वो एक लोकप्रिय अभिनेत्री बन चुकी थी | आर्थिक कारणों की वजह से संध्या ने भी अपनी बेटी को फिल्मो में काम करने से नही रोका था | 1965 में उन्होंने तमिल सिनेमा में डेब्यू किया |

जयललिता तमिल फिल्मो में स्कर्ट पहनने वाली पहली हीरोइन थी | जयललिता ने 1968 में एकमात्र हिंदी फिल्म “इज्जत” में अभिनय किया था जिसमे धर्मेद्र उनके साथ अभिनेता थे | 1965 से लेकर 1973 तक जयललिता ने M.G. रामचन्द्रन के साथ 28 हिट फिल्मे की थी | MGR के साथ उनकी पहली फिल्म Aayirathil Oruvan और उनके साथ अंतिम फिल्म 1973 में Pattikaattu Ponnaiya थी |

जयललिता का राजनैतिक करियर | Political Career of Jayalalitha in Hindi

jayalalitha-in-politicsआल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कषगम (AIDMK) के संस्थापक M.G.रामचन्द्रन ने उन्हें प्रचार सचिव नियुक्त किया और चार वर्ष बाद सन 1984 में उन्हें राज्यसभा के लिए नामांकित किया | कुछ ही समय में वे पार्टी की एक सक्रिय सदस्य बन गयी | उन्हें MGR का राजनितिक साथी कहा जाने लगा | जब MG रामचन्द्रन मुख्यमंत्री बने तो जयललिता को पार्टी के महासचिव पद की जिम्मेदारी सौंपी गयी |

MGR की मृत्यु के बाद कुछ सदस्यों ने जानकी रामचंद्रन को AIDMK का उत्तराधिकारी बनाना चाहा और इस कारण से AIDMK दो हिस्सों में बंट गया | एक गुट जयललिता को समर्थन दे रहा था और दूसरा गुट जानकी रामचंद्रन को | 1988 में पार्टी को भारतीय सविधान की धारा 356 के तहत खत्म कर दिया गया | 1989 में AIDMK फिर संगठित हो गया और जयललिता को पार्टी प्रमुख बनाया गया |सन 1989 में तमिलनाडू विधानसभा में विपक्ष की नेता बनने वाली वे प्रथम महिला थी |

सन 1991 में वे पहली बार राज्य की मुख्यमंत्री बनी | राजनितिक जीवन के दौरान जयललिता पर सरकारी पूंजी के गबन , गैर-कानूनी ढंग से भूमि अधिग्रहण और आय से अधिक सम्पति रखने के आरोप लगे | “आय से अधिक सम्पति” के एक मामले में 27 सितम्बर 2014 को जयललिता को सजा भी हुयी और मुख्यमंत्री पद छोड़ना पड़ा |बाद में कर्नाटक उच्च न्यायालय ने 11 मई 2015 को उन्हें बरी कर दिया गया ,जिसके बाद वो पुन: तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनी |

2016 में हुए चुनाव में फिर से जयललिता की पार्टी ने जोरदार जीत हासिल के और वे लगातार दुसरी बार तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनी | राजनीती में पूर्व मुख्यमंत्री करुणानिधि को उनका प्रतिद्वंद्वी माना जाता रहा है पिछले दो दशक से वहा की राजनीती इन दोनों के बीच घूम रही है |

अम्मा के दस दमदार फैसले

  • आधी रात को करुणानिधि को घसीटकर जेल भेजा |
  • मन्दिरों में जानवरों की बलि पर रोक  ,बाद में फैसला बदला |
  • दो लाख हडताली कर्मचारियों को एक साथ बर्खास्त कर दिया |
  • तमिलनाडु में लाटरी टिकिट की बिक्री पर रोक लगाई |
  • लडकियों की सुरक्षा के लिए क्रैडल बेबी स्कीम
  • गरीबो को सस्ता खाना देने के लिए अम्मा कैंटीन
  • तमिलनाडू में पहली बार महिला थाना की शुरुवात
  • राज्य में शराब की 500 रिटेल दुकाने बंद की
  • जयललिता के कार्यकाल में ही वीरप्पन का एनकाउंटर
  • किसानो को मुफ्त बिजली पर रोक , बाद में फैसला बदला

जयललिता की सम्पति

  • कुल सम्पति  -117.13 करोड़
  • कुल चल सम्पति – 45.04 करोड़
  • कुल अचल सम्पति – 72.09 करोड़
  • चेन्नई के पॉश गार्डन में वेदा निलायम रिहाइश की मौजूदा कीमत 43.96 करोड़
  • चेन्नई और हैदराबाद में 13.25 करोड़ के 4 कमर्शियल काम्प्लेक्स
  • 42.59 लाख की नौ गाडिया
  • 21280 ग्राम सोने की ज्वेलरी , जो कर्नाटक सरकार की तिजोरी में जब्त
  • कुल 1250 किलोग्राम चांदी के बर्तन , जिनकी कीमत 3.13 करोड़ रूपये
  • 5 कम्पनियों में पार्टनरशिप , जिसमे 31.70 करोड़ की हिस्सेदारी
  • जयललिता के पास 28 KG सोना , 800 KG चाँदी , 10500 साड़िया और 750 जोड़ी सैंडल मिले|

जयललिता का नाम दुनिया की सबसे महंगी शादी के लिए गिनीज बुक में दर्ज

  • 7 सितम्बर 1995 को उनके दत्तक पुत्र सुधाकरन की शादी में उन्होंने इतना खर्चा किया था |
  • इस शादी में जयललिता ने 6 करोड़ रूपये खर्च किये थे
  • शादी में पचास एकड़ का पंडाल बनाया था |
  • करीब डेढ़ लाख मेहमान जुटे थे
  • सुधाकरन जयललिता के भतीजे है जिसे उन्होंने गोद लिया था
  • सुधाकरन की शादी तमिल एक्टर शिवाजी गणेशन की पोती शशिकला से हुयी थी |

जयललिता को तमिलनाडु के लोगो द्वारा भगवान मानने के कारण

जयललिता ने तमिलनाडू के गरीब और असहाय लोगो के लिए कई ऐसी योजनाये शुरू की जिसके बाद से जयललिता को तमिलनाडु के लोग भगवान मानने लगे और जयललिता तमिलनाडु की अम्मा बन गयी | आइये उन कारणों पर नजर डालते है जिनके कारण अम्मा को तमिलनाडु की जनता भगवान मानती थी |

  • अम्मा नमक –  25 रूपये प्रति किलो से मिलने वाले नमक की बजाय 14 रूपये प्रति किलो में अम्मा नमक शुरू किया |
  • अम्मा कैंटीन – सस्ता नाश्ता और खाना , जिसमे 2 रु. में दो इडली-साम्भर और राशनकार्ड धारियों को 20 किलो चावल मुफ्त दिया गया |
  • अम्मा बेबी किट – नवजात बच्चो को दिए जाने वाले 16 जरुरी सामानों के साथ अम्मा बेबी किट योजना
  • अम्मा सीमेंट – गरीबो को पक्का मकान बनवाने के लिए एक कट्टा 190 रूपये में देने की योजना
  • अम्मा फार्मसी – गरीब जनता को मुफ्त इलाज और सस्ते दर पर दवाईया उपलब्ध कराने की योजना
  • अम्मा मिनरल वाटर – गरीबो के लिए बोतल बंद पानी केवल 10 रूपये में
  • अम्मा सिनेमा – गरीब जनता को सस्ती दरो पर फिल्म दिखाने की योजना
  • अम्मा मोबाइल – 15 करोड़ रूपये बजट के साथ शुरू हुयी योजना
  • अम्मा मिक्सर – अनेको गरीब औरतो को मुफ्त में मिक्सर देने की योजना
  • अम्मा लैपटॉप – राज्य के 11 लाख बच्चो को 26000 रूपये के लैपटॉप मुफ्त में देने की योजना
Loading...

2 Comments

Leave a Reply
    • गरीबो के हितो के लिए किये गये काम के कारण ही जयललिता ,अम्मा नाम से पुरे देश में छा गयी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *