Facts About Punjab in Hindi | पंजाब से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

Loading...

Facts About Punjab in Hindi | पंजाब से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

पंजाब (Punjab) शब्द फारसी के दो शब्दों “पंज” और “आब” के संयोग से बना है | पंज का अर्थ है पाँच और आब का अर्थ पानी | इसका अर्थ होता है | पांच नदियों का प्रदेश | 1 नवम्बर 1966 को पंजाब अस्तित्व में आया | इसका हिंदी भाषी क्षेत्र हरियाणा और पर्वतीय क्षेत्र हिमाचल प्रदेश में शामिल कर लिया गया | सिखों का सर्वाधिक पवित्र स्थल स्वर्ण मन्दिर अमृतसर में स्थित है | अब आइये आपको पंजाब से महत्वपूर्ण तथ्यों से रुबुरु करवाते है |

पंजाब एक नजर में | Quick Facts of Punjab in Hindi

Punjab in Hindi | पंजाब से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य | Punjab Facts in Hindi

  • क्षेत्रफल – 50362 वर्ग किमी | क्षेत्रफल के लिहाज से भारत में स्थान – 20वा
  • जनसंख्या – 27,704,236 (2011 जनगणना) | जनसंख्या घनत्व – 550 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी
  • जनसंख्या में लिहाज से भारत में स्थान– 16वा (2011 जनगणना)
  • लिंगानुपात – 893/1000 पुरुष पर | साक्षरता दर – 76.6 % |
  • राजधानी – चंडीगढ़ | कुल जिले – 22 | सबसे बड़ा शहर – लुधियाना | सबसे छोटा शहर – फतेहगढ़ साहिब
  • मुख्यमंत्री – प्रकाश सिंह बादल | राज्यपाल – वी.पी.सिंह बदनोर
  • विधानसभा सीटो की संख्या – 117 | लोकसभा सीटो की संख्या – 13 | राज्यसभा सीटो की संख्या – 07
  • पंजाब के प्रथम मुख्यमंत्री – गोपी चन्द्र भार्गव  | पंजाब के प्रथम राजपाल – चंदूलाल माधवलाल त्रिवेदी
  • राज्य पशु – काला हिरण | राज्य पक्षी – बाज | राज्य नदी -सिन्धु  | राज्य वृक्ष – शीशम
  • राज्य दिवस – 01 नवम्बर | राज्य भाषा – पंजाबी

पंजाब का इतिहास | History of Punjab in Hindi

  • ईसा से 800-400 वर्ष पूर्व पंजाब को त्रिगर्त कहते थे जिस पर कटोच राजा राज करते थे |
  • सिन्धु घाटी सभ्यता (Indus Valley Civilization ) में भी पंजाब इलाके के शहर रूपर का जिक्र होता है |
  • पंजाब किसी समय में भारत-इरानी क्षेत्र का हिस्सा रहा है |
  • प्राचीन साम्राज्यों में यूनानी ,मौर्य ,कुषाण,शक ,गुप्त सहित अनेक वंशो  का शासन रहा |
  • मध्यकाल (Medieval Days) में यह प्रदेश मुस्लिम शासको के आधिपत्य में रहा |
  • यहा गजनवी ,खिलजी,गौरी ,तुगलक ,लोदी और मुगल वंशो का अधिकार रहा |
  • पंजाब में 15वी और 16वी शताब्दी में सिख धर्म (Sikh Religion) का उदय और विकास हुआ |
  • पंजाब में गुरुनानक देव जी ने सिख धर्म की स्थापना की | उनके बाद यहा नौ गुरु हुए |
  • गुरु अंगद ने गुरुमुखी लिपि की रचना की | गुरु रामदास ने अमृतसर शहर बसाया |
  • गुरु अर्जुन देव ने आदि ग्रन्थ का संकलन कराया | गुरु गोविन्द सिंह ने सिखों को सैनिक शिक्षा दी |
  • अंग्रेजो और सिखों के बीच दो युद्धों के बाद 1849 में पंजाब प्रांत ब्रिटिश शासन के आधीन हो गया |
  • भारत के बंटवारे के समय पंजाब राज्य दो भागो में बंट गया पूर्वी पंजाब भारत के हिस्से में आया |
  • पटियाला और पेप्सू दोनों को सम्मलित करके पंजाब राज्य  का गठन किया गया |
  • 1 नबम्बर 1966 को पंजाब को तीन इकाइयों में बाँट दिया गया |
  • पंजाब जिसमे पंजाबी भाषी इलाके शामिल थे | हरियाणा जिसमे हिंदी भाषी जिले और खरड तहसील शामिल थी |
  • चंडीगढ़ को इसकी राजधानी बनाया गया | वही पहाडी इलाको को हिमाचल प्रदेश में मिला दिया गया |

पंजाब की भौगौलिक स्थिति | Geographical Facts about Punjab in Hindi

  • पंजाब देश के उत्तरी पश्चिमी भाग में स्थित है जिसका क्षेत्रफल 50.362 वर्ग किमी है |
  • राज्य के पश्चिम में पाकिस्तान ,उत्तर में जम्मू कश्मीर ,उत्तर-पूर्व में हिमाचल प्रदेश और दक्षिण में हरियाणा और राजस्थान है |
  • भौतिक दृष्टि से राज्य को दो भागो में विभाजित किया जा सकता है
  • पहला शिवालिक की तराई पट्टी और दूसरा सतलज-घघर का मैदान,शिवालिक ,धौलाधार ,पीरपंजाल पर्वत है |
  • पंजाब में सिन्धु ,रावी, व्यास और सतलज नदिया बहती है |

पंजाब की आर्थिक स्थिति | Economic Facts about Punjab in Hindi

  • कृषि पंजाब की अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार है | पंजाब की GDP 3.17 लाख करोड़ है |
  • भौगौलिक क्षेत्र के 86 प्रतिशत भागो पर खेती की जाती है |
  • चावल और गेहू यहा की मुख्य फसल है | इसके अलावा मक्का ,चना, दाले ,गन्ना , तिलहन, आलू, मशरूम, शहद, मिर्च एवं कपास का उत्पादन भी किया जाता है |
  • राज्य में ऑटो पार्ट्स ,होजरी के वस्त्र ,साईकिल ,सर्जरी के सामान , खेल के सामान , वनस्पति तेल ,ट्रेक्टर , रसायन ,औषधिया , मशीनी समान ,इलेक्ट्रॉनिक सामान का निर्माण किया जाता है |

परिवहन | Transport Of Punjab in Hindi

  • राज्य में सडको की कुल लम्बाई किमी है जिसमे से राष्ट्रीय राजमार्ग किमी है |
  • पंजाब से होकर गुजरने वाले रेलमार्गों की कुल लम्बाई किमी है |
  • पटियाला ,अमृतसर ,जालन्धर ,अम्बाला ,भटिंडा मुख्य रेलवे स्टेशन है |
  • यहा कुल चार नागरिक विमान क्लब अमृतसर , लुधियाना ,पटियाला और जालन्धर में है |
  • अमृतसर में एक अंतर्राष्ट्रीय हवाइ अड्डा है और चंडीगढ़ में घरेलू हवाई अड्डा है |

पंजाब की संस्कृति | Social and Cultural Facts about Punjab in Hindi

  • वैशाखी ,लोहड़ी ,होली ,दशहरा और दिवाली मुख्य त्योहार है |
  • मुक्तसर में माघी मेला , किला रायपुर में ग्रामीण खेल ,पटियाला में बसंत ,आनन्द पुर साहिब में होला मोहल्ला , तलवंडी साबू में बैसाखी ,सरहिंद में रोजा शरीफ पर उर्स ,छप्पर मेला ,फरीदकोट में शेख फरीद आगम पर्व ,गावं रामतीर्थ में राम तीरथ , सरहिंद में शहीदी जोर मेला ,हरबल्लभ संगीत और सम्मेलन ,जालन्धर में बाबा सोदाल आदि यहाँ के प्रमुख मेले है |
  • इसके अलावा अमृतसर ,पटियाला और कपूरथला में होने वाले तीन सांस्कृतिक महोत्सव भी हर वर्ष मनाये जाते है | यहा के त्यौहार और मेले पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है |
  • पंजाब का भांगड़ा नृत्य ना केवल भारत बल्कि पुरे विश्व में प्रसिद्ध है |
  • पंजाबी फिल्म इंडस्ट्री भी भारत में सबसे तेज गति से बढने वाली फिल्म इंडस्ट्री है |

पंजाब के पर्यटन स्थल | Tourist Places of Punjab in Hindi

  • स्वर्ण मन्दिर -सोने और संगमरमर से जगमगाता स्वर्ण मन्दिर यहा की शोभा है | मन्दिर में कलशो एवं दीवारों पर सोना चढ़ा है मन्दिर परिसर में सेंट्रल सिख म्यूजियम है जहा अनेक कलाकृतिय एवं पेंटिंग्स सुरक्षित है |
  • अकालतख्त-यह सिख गुरुओ के आसन के तौर पर इस्तेमाल होता था | समुदाय के लिए यहा से फरमान यानि नीतिगत निर्णय जरी होते थे जिनकी समुदाय में काफी मान्यता थी |
  • जलियांवाला बाग़– 13 अप्रैल 1919 को यहा ब्रिटिश जनरल डायर ने शांतिपूर्ण सभा कर रहे निहत्थे लोगो को गोलियों से भुन डाला था | इन्ही की याद में यह उद्यान बनाया गया |
  • दुर्गयाना मन्दिर – यह मन्दिर चारो ओर से सरोवर से घिरा है | इसके अलावा यहा बाबा अटल राय ,खालसा कॉलेज ,गुरूद्वारा शाहिदा आदि भवन देखने लायक है |
  • वाघा बॉर्डर– वाघा बोर्डर अमृतसर से तकरीबन 28 से 30 किमी की दूरी पर स्थित है | 1999 में अमन सेतु खुलने से पहले भारत-पाक के बीच आवाजाही के लिए यही एकमात्र सडक मार्ग था | अटारी स्टेशन रेल यातायात के लिए उपयोग किया जाता है | यहा न केवल नागरिको का आना जाना बल्कि दोनों देशो के बीच व्यावसायिक आयात निर्यात भी होता है | विभाजन के दौरान इसी रस्ते से अधिकाँश लोगो का विस्थापन हुआ था जिसके चलते इन स्थानों पर सर्वाधिक खून खराबा हुआ था | इस बोर्डर को एशिया की बर्लिन वाल भी कहा जाता है |
  • मोतीबाग़ पैलेस– पटियाला में स्थित यह बाग़ 19वी शताब्दी में बना हुआ है | इसे लाहौर के प्रसिद्ध शालीमार बाह की तर्ज पर बनाया गया है | यहा आर्ट गैलरी भी है |
  • शीशमहल – यह महाराजा नरेंद सिंह के शासनकाल में बनवाया था | यहा गार्डन ,फव्वारे आयर कृत्रिम झील पर्यटकों का मन मोह लेती है |
  • रॉक गार्डन – चंडीगढ़ में स्तिथ इस गार्डन की स्थापन 1957 में एक सरकारी अफसर नेकचंद ने की थी | इस गार्डन का निर्माण कबाड़ी की वस्तुओ जैसे टूटी चूडियो , तारो ,टूटे फूटे बर्तनों से की गयी है |
  • दोहारा किला – इसी किले ,में “रंग दे बसंती” फिल्म के कुछ दृश्यों की शूटिंग हुयी थी | फिल मी अपार सफलता के बाद इस किले का नाम RDB फोर्ट कर दिया गया | ये चंडीगढ़ से 2 घंटे के रास्ते पर लुधियाना के नजदीक है |

आप अगर पंजाब घुमने जाए तो ये करना ना भूले

  • पंजाब के ढाबो पर मक्के की रोटी और सरसों की साग जरुर खाए |
  • पंजाब के लोगो से थोडा पंजाबी टोन  जरुर सीखे जैसे “की गल है ” |
  • स्वर्ण मन्दिर के सरोवर में एक डुबकी जरुर लगाये , आपको एक अलग ही आध्यात्मिक अनुभूति होगी |
  • पंजाब के लम्बे चौडे खेतो की सैर करे और हो सके तो किसानो से दोस्त्ती कर ट्रेक्टर से खेतो की सैर करे |
  • जलियांवाला बाग़ से शहीदों को नमन करे जिन्होंने आजादी के लिए अपनी जान दे दी |
  • RDB फोर्ट से आप रंग दे बंसती फिल्म के क्षणों को ताजा कर सकते है |
  • किला रायपुर में होने वाले ग्रामीण खेलो के लिए अलग से समय निकाले  , जहा अनोखे खेल दिखेंगे |
  • रॉक गार्डन देखकर आप नेकचंद के जज्बे को सलाम कर सकते है जिन्होंने उस दौर में स्वच्छ भारत अभियान को नया रूप दिया था |
  • गार्डन ऑफ़ साइलेंस में कुछ मिनट बैठकर अपने मन को शांत कर सकते है |
  • सिखों का इतिहास जानने के लिए विरासत-ए-खालसा जरुर जाए |
  • फतेहपुर साहिब में लगने वाले शहीदी जोर मेला में आप बच्चो को तलवारबाजी करते देख सकते है |
  • सरसों के खेतो और पंजाब के पिंड में आप DDLJ के क्षणों को याद कर सकते है
  • पंजाब में मस्ती के साथ अपनी मनचाही जगह पर एक बार भांगड़ा जरुर करे आपके लिए यादगार रहेगा |
  • पंजाब में आकर लस्सी के बड़े बड़े गिलासों के साथ परांठे ना खाए तो गजब बात होगी |
Loading...

3 Comments

Leave a Reply
    • धन्यवाद , जानकारी कभी अधूरी नही देनी चाहिए इसलिए मेरी कोशिश इन्टरनेट पर उपलब्ध जानकारियों को हिंदी में पेश करना है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *