“बुनियाद” धारावाहिक , जिसमे भारत-पाक विभाजन की त्रासदी को देखकर रो पड़े थे लोग | Buniyaad TV Serial History in Hindi

Buniyaad TV Serialहम लोग की अपार सफलता को देखते हुए मशहूर फिल्म निर्माता रमेश सिप्पी ने एक ओर नाटक श्रुंखला बनाने का विचार किया | उन्होंने मनोहर श्याम जोशी को एक बार फिर इस नाटक की पटकथा लिखने को बुलाया और भारत-पाकिस्तान विभाजन के मुद्दे पर “बुनियाद ” धारावाहिक का निर्देशन किया |  बुनियाद राष्ट्रीय दूरदर्शन चैनल डीडी नेशनल पर 1986 से प्रसारित किया जाने लगा जिसके बाद 2000 के दशक की शुरवात में  डीडी मेट्रो पर भी फिर प्रसारित किया था | यह नाटक हर मंगलवार और शनिवार शाम को प्रसारित किया जाता था और इस नाटक के कुल 104 एपिसोड प्रसारित किये गये थे |

loading...

मास्टर हवेली राम के नाम से आलोकनाथ हुए प्रसिद्ध

बुनियाद ने हिंदी टीवी और सिनेमा को ऐसे कलाकार दिए जो आज भी फिल्म एवं टीवी जगत में सक्रीय है | इस नाटक में आलोकनाथ एक स्वतंत्रता सेनानी हवेलीराम का किरदार निभाते है और इस नाटक की मुख्य कहानी आलोकनाथ के इर्द गिर्द घुमती रहती है | इसके अलावा कंवलजीत सिंह ,सुधी पांडे ,किरण जुनेजा ,आशा सचदेव  और कृतिका देसाई का महत्वपूर्ण किरदार थे जिन्होंने आगे भी कई टीवी सीरियल में काम किया था |

भारत से ज्यादा पाकिस्तान में लोकप्रिय

इस नाटक की लोकप्रियता भारत से भी ज्यादा पाकिस्तान में थी जहा लोग इस नाटक को एकटकी लगाकर देखते थे क्योंकि वो विभाजन का दर्द समझ सकते थे | ये नाटक भारत और पाकिस्तान के लाखो लोगो के जीवन का हिस्सा बन गया था | ये नाटक दूरदर्शन के इतिहास में दूसरा सबसे लम्बे समय तक चलने वाला धारवाहिक था | ये लोगो को इसलिए भी पसंद आया क्योंकि इसमें सयुंक्त परिवार को टूटते हुए दर्शाया गया है जो उस समय जनता की मनोदशा थी | ये नाटक जब खत्म हुआ था तब लोगो की आँखों में आसू आ गये थे क्योंकि उन्हें पता था कि ऐसा धारावाहिक फिर कभी नही बन सकेगा |

धारावाहिक के मुख्य पात्र और कलाकार

  • अलोक नाथ – मास्टर हवेलीराम [ स्वतंत्रता सेनानी और देशभक्त ]
  • अनीता कंवर – लाजवंती [हवेलीराम की पत्नी ]
  • सुधीर पांडे – लाला गेंदामल [ हवेलीराम के पिता ]
  • आशा शर्मा – जानको [हवेलीराम की माताजी]
  • किरण जुनेजा -वीरावली/प्रज्ञावती [हवेलीराम की बहन ]
  • विजयेन्द्र घटगे – लाला ब्रजभान [वीरावली का प्यार ]
  • आशा सचदेव- शन्नो [ गेंदामल की बड़ी बहु]
  • गिरिजा शंकर -रलिया राम [हवेलीराम का बड़ा भाई और शन्नो का पति ]
  • राजेश पुरी – मुंशी जी [गेंदामल का मुनीम]
  • दलीप ताहिल – भूषण/कुलभूषण [हवेलीराम का बड़ा बेटा]
  • सोनी राजदान – लोचन/सुलोचना [हवेलीराम की बड़ी बहु]
  • मजहर खान – रोशन [हवेलीराम का छोटा बेटा]
  • कंवलजीत सिंह – सतबीर [वीरावली और वृषभान का नाजायज बेटा]
  • अभिनव चतुर्वेदी – जय [वृषभान का नाजायज बेटा]
  • कृतिका देसाई – मंगला [ जय की पत्नी और सतबीर की आशिक]
  • अंजना मुमताज – सुभद्रा [वृषभान की पत्नी और जय की माँ]
  • विनोद नागपाल – श्यामलाल [पारिवारिक मित्र]
  • कामिया मल्होत्रा – बबली [जय की सेकेट्री और प्यार]
  • मंगल ढिल्लो – लभय राम [रलिया राम का बेटा]
  • नीशा सिंह – कन्नी [लभय की भतीजी]
  • नीना गुप्ता-रज्जो [रोशन की पत्नी]
  • शेर्नाज पटेल – कुक्की [कुलभूषण की बड़ी बेटी]
  • अंतरिक्ष माथुर – काका [सतबीर का बेटा]

देश के नजरिये को किया परिवर्तित

बुनियाद और हम लोग जैसे धारावाहिकों ने उस समय देश की काफी जनता को परविर्तित कर दिया और उनके नजरिये में बदलाव आया था | इस नाटक के हर किरदार ने जनता पर अपनी एक छवि बनाई थी और उस समय देश की 70 प्रतिशत जनता इस नाटक को देखती थी |इस नाटक का प्रभाव ना केवल भारत में था बल्कि विदेशो में रहने वाले अप्रवासी भारतीय और अप्रवासी पाकिस्तानी भी इस नाटक को खूब पसंद करते थे |

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *