Akbar Birbal Stories in Hindi अकबर बीरबल की कहानिया

Akbar Birbal Stories in Hindi

अकबर बीरबल की कहानिया Akbar Birbal Stories in Hindi भारत में सभी उम्र के लोगो के प्रसिद्ध और प्रचलित है | अकबर मुगल साम्राज्य का का शाषक था जिसने 1560 से  1605 तक भारत पर राज किया | अकबर खुद अनपढ़ था लेकिन कई पढ़े लिखे लोगो को उसने दरबार में रख रखा था | उन सभी लोगो में नौ लोग बहुत प्रसिद्ध थे जिनको उसके दरबार के नवरत्न कहा जाता था |अकबर के उन्ही नवरत्नों में बीरबल एक था जो अपनी बुद्धिमता के लिए काफी मशहूर था |बीरबल एक ब्राह्मण का बेटा था और अपनी चतुरता के कारण उसे कम आयु में ही बादशाह के दरबार में जगह मिल गयी थी | आइये अकबर बीरबल के किस्सों को पढने से पहले बीरबल के जीवन के बारे में आपको संक्षिप्त जानकारी देते है

Loading...

Early life of Birbal

Birbal बीरबल का जन्म 1528 में वर्तमान उत्तर प्रदेश के कल्पी नामक गाँव में हुआ था | एक मान्यता के अनुसार उनका जन्म कानपुर जिले के यमुना नदी के किनारे त्रिविक्र्मपुर अर्थात तिक्वानपुर में हुआ था | Birbal बीरबल के पिता का नाम गंगादास और माँ का नाम अनाभा देवी था | बीरबल अपने माता पिता की तीसरी सन्तान थे | Birbal बीरबल का परिवार एक हिन्दू भाट ब्राह्मण परिवार था जिनका पुराने समय में भी कविताओ से नाता रहा था | Birbal बीरबल का मूल नाम महेश दास था  लेकिन बाद में बादशाह अकबर ने महेशदास को राजा बीरबल नाम दिया था | अकबर ने शूरुवात में उन्हें “वीरवर”  उपाधि दी थी जो बाद में परिवर्तित होकर बीरबल हो गयी |

Position and association with Akbar

Birbal बीरबल ने हिंदी ,संस्कृत और पारसी भाषाओं में शिक्षा ली थी | शुरुवात में इन्होने “ब्रह्म कवि” के रूप में राजपूत राजा राम चन्द्र के दरबार में कुछ समय काम किया था | इसके बाद आपको महेश दास की वो कहानी याद होगी जिसमे उन्होंने बादशाह को जंगल से बाहर निकाला था जिसके इनामस्वरुप बीरबल को अकबर के दरबार में आने का न्योता दिया गया था | उसके बाद से वो अकबर के दरबार में दरबारी बन गये थे | Birbal बीरबल अकबर की एक सेना की टुकड़ी के सेनापति भी थे और राजकाज में सलाहकार भी थे | उनकी बुद्धिमता के आगे कोई टिक नही पाटा था जिसके कारण बाद में अकबर ने बीरबल को अपने नवरत्नों में शामिल कर लिया |

Birbal बीरबल को “राजा बीरबल”  की उपाधि तो बाद में मिली थी लेकिन उससे पहले अकबर जैसे सम्राट ने उनको “कविराय ”  की उपाधि से सुशोभित किया था | अकबर से इनकी घनिष्टता और निकटता का सबसे बड़ा प्रमाण यह है कि उनके द्वारा प्रस्तावित नये धर्म दीन-ए-इलाही को सभी नवरत्नों में सिर्फ इन्होने अपनाया था | Birbal राजा बीरबल दान और पुरुस्कार देने में भी अपने समय में महान थे |  गान विद्या तो वो अच्छी तरह जानते थे साथ ही उनके कवित्त और दोहे भे प्रसिद्ध थे | इनके दो बेटे थे जिसमे बड़े बेटे का नाम लाला था जिसको अपने बुरे स्वाभाव के कारण दरबार छोड़ने का आदेश मिला था |

Death of Birbal

सन 1585-86 में बहादुर सेनापति जैन खा को स्वात और बाजौर नामक पहाडी प्रान्तों में रहने वाले युसूफजई और मंदार नामक जनजातियो के विद्रोह को कुचलने भेजा गया था | जैन खा ने बाजौर पर चढाई करके स्वात पहुचकर उन्हें दबाया | वहा घटिया पार करते करते सेना थक गयी थी इसलिए जैन खा  ने बादशाह से नई सेना भेजने की प्रार्थना की | शेख अबुल फजल ने उत्साह और स्वामिभक्ति से भरकर इस कार्य के लिए बादशाह से अपना नाम नियुक्त करने की प्रार्थना की | बादशाह ने उनके और राजा बीरबल के नाम पर बंद पर्ची डाली जिसमे भाग्यवश राजा बीरबल के नाम की पर्ची निकल गयी |

Birbal राजा बीरबल अच्छे सेनानायक नही माने जाते थे इसलिए शंका के कारण अबुल फजल के अधीन एक अतिरिक्त सेना पीछे से भेज दी गयी | इन सेनाओ को अफ़ग़ान विद्रोहियों ने घाटी में घेरकर हर ओर से तीर और पत्थर फेंकना शूरू कर दिया | घबराहट में इनकी सेना के हाथी ,घोड़े और पैदल एक में मिल गये | 25 फरवरी 1586 को रात के अँधेरे में घाटियों में फंसकर बहुत से लोग मारे गये | मरने वालो में से बीरबल भी थे | इस तरह एक बुद्धिमान और वीर राजा बीरबल दुनिया से अलविदा हो गये लेकिन अपने पीछे अकबर-बीरबल के किस्से छोड़ गये जिसके रूप में आज भी पूरा देश उनको याद रखता है

Akbar Birbal Stories in Hindi

अकबर और बीरबल Birbal दोनों दरबार में उठे मसलो को सुलझाते थे जिसको अकबर बीरबल की कहानिया Akbar Birbal Stories in Hindi के रूप में दर्शाया जाता है | उनके और शहंशाह अकबर के बीच सम्पन्न हजारो किस्से और चुटकुले मौखिक और लिखित रूप से पढ़े लिखे और अनपढ़ वर्ग के सभी लोगो में प्रचलित है | बच्चो से लेकर बडो की महफिल तक हर जगह उन्हें चटखारे लेकर सुना सुनाया और पढ़ाया जाता है | आइये हम आपको अकबर बीरबल की कुछ कहानिया सुनाते है |

  1.  आधा इनाम Half The Reward-Akbar Birbal Stories in Hindi
  2. तीन प्रश्न और बीरबल The Three Questions -Akbar Birbal Stories in Hindi
  3. दुष्ट हज्जाम की दुर्दशा The Wicked Barber’s Plight -Akbar Birbal Stories in Hindi 
  4. ऊंट की गर्दन
  5. तीन गधो का बोझ
  6. अन्धो की तादात Akbar Birbal Stories in Hindi
  7. खाने के बाद खाना
  8. कुए का किराया
  9. बांस और उसका टुकड़ा Akbar Birbal Stories in Hindi
  10. शाही फरमान Akbar Birbal Stories in Hindi
  11. जोरू का गुलाम
  12. तोते की कहानी
  13. बादशाह का गुस्सा Akbar Birbal Stories in Hindi
  14. बादशाह की पहेली Akbar Birbal Stories in Hindi
  15. बीरबल की खिचड़ी
  16. बादशाह का सपना
  17. सिक्को की थैली Akbar Birbal Stories in Hindi
  18. पैनी नजर  Akbar Birbal Stories in Hindi
  19. नौकर आपका हु
  20. मूर्खो की फेहरिस्त
  21. योग्यता का आंकलन
  22. रेत के दाने
  23. दूध वाला कुंवा
  24. सबसे बड़ा हथियार
  25. नदियों वाला गाँव
  26. तीसरे सवाल का जवाब
  27. ईश्वर में आस्था
  28. कल ,आज और कल
  29. बीरबल की मदिरा
  30. नदी में माला
  31. तीन तख्ते
  32. हरे रंग का घोडा
  33. सबसे बड़ी चीज

तो मित्रो आपको बीरबल की जीवनी और अकबर बीरबल के किस्से पसंद आये तो आप इन किस्सों के बारे में अपनी राय जरुर देवे और अगर आपके पास भी कोई ऐसा अकबर बीरबल का किस्सा हो तो हमसे शेयर करना ना भूले |

Loading...

One Comment

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *